Home » 8 जुलाई : जानें इतिहास के पन्नों में आज का दिन क्यों है ख़ास!
Top News

8 जुलाई : जानें इतिहास के पन्नों में आज का दिन क्यों है ख़ास!

8 july historical events

भारत का इतिहास हमेशा से ही अपने-आप में एक मिसाल के तौर पर उभरा है। यहाँ पर होने वाली सभी गतिविधियाँ हमेशा से ही अपने साथ इन दिनों की महत्ता लेकर आते हैं। इस देश का इतिहास अपने-आप में एक मिसाल है और हमेशा ही रहेगा। इस देश का हर एक दिन इतना ख़ास रहा है कि यह इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया है।

सबसे लंबे वक्‍़त तक मुख्यमंत्री रहे ज्योति बसु का जन्मदिवस आज :

  • पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री रहे ज्योति बसु न सिर्फ देश के बल्कि दुनिया के सबसे लंबें वक्त मुख्यमंत्री रहे हैं।
  • वे सन् 1977 से लेकर 2000 तक मुख्यमंत्री रहकर यह कीर्तिमान स्थापित किए।
  • बसु का जन्म 8 जुलाई 1914 को कलकत्ता में हुआ था।
  • प्रेसिडेसी कॉलेज से अंग्रेजी विषय में प्रतिष्ठा के साथ स्नातक की डिग्री।
  • लंदन से कानून की पढ़ाई की। वहीं मा‌र्क्सवाद का ‘ककहरा’ सीखा और सार्वजनिक जीवन से जुड़े।
  • 1940 में भारत वापसी के साथ ही भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) से जुड़ गए।
  • 1944 में वह बंगाल रेलवे कामगार संघ के पदाधिकारी बने।
  • 1946 में बंगाल विधानसभा के लिए चुने गए। उन्होंने कांग्रेस के हुमायूं कबीर को पराजित किया।
  • इसके बाद 1952, 1957, 1962, 1967, 1969 और 1971 में वह बड़ानगर विधानसभा से चुने जाते रहे।
  • इस दौरान वह 1972 में विधानसभा चुनाव भी हारे।
  • 1964 में मा‌र्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) की स्थापना हुई। वह इसके संस्थापकों में रहे।
  • 1967 में वह बंगाल की गठबंधन सरकार में उपमुख्यमंत्री बने।
  • 21 जून 1977 को वह पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री बने।
  • वह 6 नवम्बर 2000 तक पश्चिम बंगाल की वाम मोर्चे की सरकार के मुखिया बने रहे।
  • 1996 में वह देश के प्रधानमंत्री बनते-बनते रह गए।
  • उनकी पार्टी की सर्वोच्च नीति निर्धारक संस्था का फैसला उनके प्रधानमंत्री बनने के रास्ते में आड़े आया।
  • बाद में ज्योति बाबू ने पार्टी के इस फैसले को ऐतिहासिक गलती करार दिया।
  • 2000 में उन्होंने बिगड़ते स्वास्थ्य के कारण मुख्यमंत्री का पद छोड़ा और फिर सक्रिय राजनीति से संन्यास की घोषणा की।
  • 2004 में केंद्र में कांग्रेसनीत संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) की सरकार को वामपंथी दलों की ओर से दिए गए समर्थन में उन्होंने प्रमुख भूमिका निभाई।

अन्य कुछ झलकियां :

  • 1497 में वास्को द गामा ने यूरोप से भारत की प्रथम जलयात्रा आरंभ की।
  • 1858 में ग्वालियर के क़िले के पतन के बाद लॉर्ड केनिंग ने शांति की घोषणा की थी।
  • 1918 में भारतीय संविधान में सुधार के लिए मांटेग्यु चेम्सफोर्ड रपट प्रकाशित की गई।
  • 1937 में हिंदी के प्रसिद्ध उपन्यासकार, सशक्त कथाकार, नाटककार और आलोचक गिरिराज किशोर का जन्म हुआ।
  • 1948 में भारत की पहली विमान सेवा एयर इंडिया ने भारत और ब्रिटेन के बीच हवाई सेवा शुरू की।
  • 1954 में सतलुज नदी पर निर्मित भाखड़ा नांगल पनबिजली परियोजना पर बनी सबसे बड़ी नहर का प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने उद्घाटन किया था।
  • 1958 में हिन्दी चलचित्र अभिनेत्री नीतू सिंह का जन्म हुआ।
  • 1972 में भारतीय क्रिकेट टीम कप्तान सौरव गांगुली का जन्म हुआ।
  • 1997 में पेरिस में फ्रेंच ओपन टेनिस प्रतियोगिता में भारत के महेश भूपति ने म्रिश्रित युगल खिताब जीतकर इतिहास बनाया।
  • 2007 में भारत के 11वें प्रधानमंत्री चंद्रशेखर सिंह का निधन हुआ।
UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

योगोदा सत्संग मठ के सौ साल पूरे, पीएम मोदी द्वारा स्मारक डाक जारी!

Prashasti Pathak

लंबी बीमारी से जूझ रहे पूर्व जस्टिस अल्तमस कबीर का हुआ निधन!

Vasundhra

भारतीय सेना ‘ढाई मोर्चे’ पर युद्ध के लिए तैयार-आर्मी चीफ

Vasundhra