Home » ट्रॉमा में मरीजों और तीमारदारों को सामाजिक कार्यकर्ताओं ने दिया खाना!
Uttar Pradesh Uttar Pradesh Live

ट्रॉमा में मरीजों और तीमारदारों को सामाजिक कार्यकर्ताओं ने दिया खाना!

vijayashree foundation

कहा जाता है कि संकट की घड़ी (VijayShree Foundation) में जो व्यक्ति किसी के साथ खड़ा रहता है उसे काफी पुण्य प्राप्त होता है। यही वजह है कि कुछ सामाजिक कार्यकर्ता किसी परेशानी में जरूर खड़े नजर आते हैं। ऐसा ही एक नजारा रविवार को राजधानी के चौक इलाके में स्थित किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) में देखने को मिली।

वीडियो ट्रॉमा सेंटर में आग: शताब्दी में शिफ्ट किये गए मरीज!

vijayashree foundation

  • यहां शविवार शाम को हुए अग्निकांड में भगदड़ और इलाज के आभाव में एक मासूम सहित 6 लोगों की मौत हो गई।
  • इस अग्निकांड में कई तीमारदारों के कपड़े, खाने का सामान और उनकी धनराशि भी जलकर खाक हो गई।
  • आग लगने के बाद मची अफरा-तफरी में कोई अपने मरीज को कंधे पर उठाकर भागा तो कोई गोद में लेकर भागा।
  • आग पर 5 घंटे में काबू पा लिया गया और इलाज भी शुरू कर दिया गया।
  • लेकिन तीमारदारों के खाने के लिए प्रशासन की तरफ से कोई व्यवस्था नहीं की जा सकी।
  • विजयश्री फाउंडेशन के कार्यकर्ताओं ने ट्रॉमा सेंटर के भीतर तीमारदारों और मरीजों को भोजन की व्यवस्था करके उनकी मदद के लिए हाथ बढ़ाया।

वीडियो: केजीएमयू के ट्रॉमा सेंटर में लगी भीषण आग, मची अफरा-तफरी!

vijayashree foundation

यूपी में डेंगू, चिकनगुनिया और स्वाईन फ्लू का प्रकोप!

मरीजों और तीमारदारों की मदद की अपील

  • विजयश्री फाउंडेशन के विशाल सिंह ने कहा कि शनिवार को लखनऊ के मेडिकल कॉलेज स्थित ट्रामा सेंटर में आग लग जाने के कारण बहुत से मरीजों और तीमारदारों के सारे कपड़े धनराशि जल गई।
  • जिसके कारण आज बहुत से लोग परेशान होकर रोड पर घूम रहे हैं।
  • ऐसे में हमें मानवता के आधार पर इन लोगों की कुछ मदद करनी चाहिए।
  • मैं आप लोगों से अपील करता हूं कि यदि आपके घरों में कुछ पुराने कपड़े हो और इन लोगों की भोजन व्यवस्था हेतु थोड़ा सा राशन की व्यवस्था हम सब लोग कर सकें तो यह बहुत ही सराहनीय वह मानवीय कार्य होगा।
  • उन्होंने कहा कि मैं आप लोगों से विनती करता हूं इस दुखद घड़ी में हम सब लोग इन पीड़ित लोगों के साथ खड़े हो।
  • उन्होंने बताया कि किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के ट्रामा सेंटर के द्वितीय तल पर भीषण आग लग जाने के कारण असहाय मरीज तीमारदार बेहद दयनीय परेशानी में रहे।
  • तीमारदारों व मरीजों के दुख दर्द को कम करने के लिए विजयश्री फाउंडेशन प्रसादम सेवा द्वारा तत्काल भोजन की व्यवस्था कर उन को राहत देने का कार्य करने का प्रयास किया।
  • ईश्वर उन सभी मरीजों को सलामत रखे यही कामना है।

ट्रॉमा के अग्निशमन उपकरण फेल

  • गौरतलब है कि राजधानी के चौक इलाके में स्थित किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय (केजीएमयू) के ट्रॉमा सेंटर के द्वितीय तल पर अज्ञात कारणों से शनिवार शाम को भीषण आग लग जाने से हड़कंप मच गया।
  • आग देखते ही प्रथम तल में मौजूद मरीज व उनके तीमारदार बाहर भाग निकले।
  • हालांकि अस्पताल द्वारा आनन-फानन मे अस्पताल के अन्दर लगे फायर उपकरणों द्वारा आग पर काबू पाने का प्रयास किया गया लेकिन उपकरण फेल हुए।

आग लगते ही तीमारदार मरीजों को लेकर भागे

  • आग लगते ही लपटे, धुआं फैलने लगा तो उसे देखकर उसी मंजिल में जनरल व प्राईवेट वार्ड मे भर्ती मरीज व उनके तीमारदार भागने लगे।
  • इस दौरान जो भी वार्ड में स्टाफ और कर्मी मौजूद थे।
  • वह भी अपनी अपनी जान बचाकर अस्पताल के बाहर आ गये।
  • मरीजों को बचाने के ल‌िए आनन-फानन में सड़क पर ल‌िटाया गया।
  • वहीं कुछ मरीजों को पागलखाने और लारी में ल‌‌िटा द‌िया गया।
  • इस दौरान पूरी शहमीना शाह रोड बंद कर दी गई।
  • पुलिस ने आग लगने की वजह से यातायात को भी डायवर्ट कर दिया।
  • आग लगने की सूचना मिलते ही जिलाधिकारी कौशल राज और एसएसपी दीपक कुमार, केजीएमयू के वीसी और कानून एवं न्याय मंत्री (कैबिनेट मंत्री) ब्रजेश पाठक मौके पर पहुंचे और जानकारी ली।
  • वहीं केजीएमयू के सीएमएस एसएन शंखवार ने बताया कि आग शार्ट सर्किट से लगी।
  • अग्निशमन और पुलिस की टीम के साथ रेजिडेंट डॉक्टरों की टीम राहत और बचाव कार्य में देर रात तक जुटे रहे।
  • इस पूरी घटना की सीएम आदित्यनाथ योगी ने 3 दिन के अंदर जांच के आदेश दिए।
  • सीएम ने लापरवाह अधिकारियों पर कठोर कार्रवाई करने के निर्देश दिए।
UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

गृह मंत्री बोले, ‘रेप और दलितों का शोषण बिल्कुल ही निंदनीय’!

Divyang Dixit

पार्टी को मेरा आशीर्वाद तभी जब दोबारा सरकार बने- सपा प्रमुख

Divyang Dixit

बिल के विरोध में वकीलों ने किया हंगामा, जलाई बिल की प्रतियाँ!

Mohammad Zahid