Home » प्रभु की रेलवे राम भरोसे, CAG ने किया हैरान करने वाला खुलासा!
Top News

प्रभु की रेलवे राम भरोसे, CAG ने किया हैरान करने वाला खुलासा!

Indian Railway Food

[nextpage title=”cag report” ]

अगर आप ट्रेन में खाना खाते है तो हो जाइये सावधान। नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) ने रेलवे को लताड़ लगाते हुए कहा है कि रेल यात्रियों को ‘मनुष्यों के खाने लायक’ भोजन नहीं परोसा जा रहा।

[/nextpage]

[nextpage title=”cag report” ]

रेलवे स्टेशनों-रेलगाड़ियों पर नहीं है ‘मनुष्यों के खाने लायक’ भोजन-

  • नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) ने बताया कि रेलवे स्टेशनों और रेलगाड़ियों में आहार इकाइयों में स्वच्छता नहीं रखी जाती।
  • सीएजी ने रेलवे को लताड़ लगते हुए कहा कि रेल यात्रियों को ‘मनुष्यों के खाने लायक’ भोजन नहीं परोसा जा रहा।
  • शुक्रवार को संसद में पेश अपनी रिपोर्ट में सीएजी ने कहा है कि चयनित 74 रेलवे स्टेशनों और 80 रेलगाड़ियों की आहार इकाइयों में जांच की गई।
  • जांच के दौरान पाया गया कि स्टेशनों पर और रेलगाड़ियों में आहार इकाइयों में साफ-सफाई तथा स्वच्छता का खयाल नहीं रखा जा रहा।

बेची जा रही एक्सपायर्ड खाद्य सामग्रियां-

  • सीएजी की रिपोर्ट में कहा गया कि स्टेशनों पर मनुष्यों के न खाने लायक खाद्य सामग्रियां बेचीं जा रही है.
  • स्टेशनों पर दूषित भोजन सामग्रियां, रिसाइकल की गईं खाद्य सामग्रियां ग्राहकों को परोसी जा रही है.
  • इसके अलावा एक्सपायर्ड पैकेटबंद और बोतलबंद खाद्य सामग्रियां, अनधिकृत पानी की बोतलें बेची जा रही हैं।
  • रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि पेय पदार्थ तैयार करने में सीधे नलके से निकला गैर-शुद्धीकृत पानी का इस्तेमाल किया जा रहा है।
  • कचरा पेटियों के ढक्कन बंद नहीं थे और न ही कचरा पेटियों की साफ-सफाई की जा रही है।
  • साथ ही रेलगाड़ियों में कीड़े-मकोड़े, धूल, चूहे और काक्रोच पाए गए।

परोसी जा रहीं खाद्य सामग्रियों की गुणवत्ता खराब-

  • सीएजी ने आरोप लगाया है कि रेलगाड़ियों में सचल आहार इकाइयों द्वारा खाद्य सामग्रियों का बिल नहीं दिया जा रहा।
  • रिपोर्ट में उल्लेख किया गया कि यात्रियों को निर्धारित मात्रा से कम मात्रा में खाद्य सामग्रियां परोसी जा रही हैं
  • यात्रियों को गैर-मान्यताप्राप्त बोतलबंद पेयजल बेचे जा रहे हैं।
  • रेलवे स्टेशनों पर भंडार की गईं ट्रेडमार्क युक्त खाद्य सामग्रियां अधिकतम कीमत पर बेची जा रही हैं।
  • जिनका वजन और मूल्य खुले बाजार की तुलना में भिन्न हैं।
  • सीएजी ने यह भी कहा है कि परोसी जा रहीं खाद्य सामग्रियों की गुणवत्ता भी खराब पाई गई।

आहार प्रबंधन में बनी अनिश्चितता की स्थिति-

  • आहार इकाइयों के प्रबंधन से जुड़ीं नीतियों में लगातार बदलाव किए जाने से अनिश्चितता बनी है।
  • उत्तरदायित्व के बार-बार स्थानांतरण के चलते आहार प्रबंधन में अनिश्चितता की स्थिति बनी है।
  • सीएजी ने रेलगाड़ियों में लगे रसोई-यान में खाना पकाने के लिए इलेक्ट्रिक उपकरणों की बजाय गैस बर्नरों का उपयोग करने को लेकर भी रेलवे को जमकर लताड़ लगाई है।

[/nextpage]

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

उपचुनाव नतीजे : शुरुआती रुझानों में बीजेपी ने बनाई बढ़त!

Vasundhra

देश के 5 बड़े-बड़े बैंकों के 32 लाख ATM कार्ड के डेटा चोरी !

Mohammad Zahid

बैंक ने गलत नहीं किया,फिर भी जांच में सहयोग करेंगे: पंकजा मुंडे

Mohammad Zahid