Home » आधार कार्ड ने अपनों को बिछड़ों से मिलवाने में की मदद!
Top News

आधार कार्ड ने अपनों को बिछड़ों से मिलवाने में की मदद!

aadhaar card

आधार कार्ड भारतीय नागरिक की पहचान और कई सरकारी सुविधाओं को पाने का जरिया है। लेकिन यहाँ आधार कार्ड ने अपनों को बिछड़ों को मिलाने में भी मदद की है। जी हाँ, सही सुना आपने, यह कहानी है गुजरात के नर्मदा जिले की।

अपनों को बिछड़ों से मिलाया आधार कार्ड ने-

  • महाराष्ट्र के लातूर का रहने वाला एक बच्चा अपने परिवार से तीन साल बाद दोबारा मिला।
  • इस बच्चे का नाम है संजय।
  • 14 साल का संजय जन्म से बोलने और सुनने में असमर्थ था।

aadhar

  • तीन साल पहले भाई से झगड़ा होने के बाद संजय घर छोड़ कर चला गया था।
  • संजय की गुमशुदगी की रिपोर्ट भी दर्ज कराई गई थी लेकिन कुछ पता नहीं चल पाया था।
  • लेकिन संजय की किस्मत में अपने परिवार से दोबारा मिलना लिखा था।
  • संजय को वरोदरा पुलिस ने अकेले घुमते पाया।
  • लेकिन बोलने और सुनने में असमर्थ होने के चलते संजय से पुलिस को कोई जानकारी नहीं मिल सकी।
  • नर्मदा जिला प्रशासन ने संजय का दाखिला एक मूक-बाधिर स्कूल में कराया।
  • स्कूल में आधार कार्ड बनवाने का कैंप लगा।

adhar

  • इस दौरान जब संजय का आधार कार्ड बनवाने की कोशिश की गई तो पता चला कि 2011 में उसका आधार कार्ड बन चुका है।
  • संजय को देखकर उनके भाई और उनकी मौसी की आंखे भर आई।
  • संजय की माता-पिता की मृत्यु के बाद उनकी मौसी ही उनके लिए सब कुछ है।

यह भी पढ़ें: केंद्र सरकार ने वीआईपी कल्चर पर कसी लगाम, 1 मई से नियम लागू!

यह भी पढ़ें: CBSE के सभी स्कूलों में कक्षा 10 तक हिंदी विषय हो सकता है अनिवार्य!

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

बिहार विधानसभा: नीतीश के इस्‍तीफे की जिद पर अड़े तेजस्‍वी

Namita

बद्रीनाथ से हरिद्वार जा रहा हेलीकॉप्टर हुआ क्रैश, 1 की मौत!

Namita

साल 2017 से माना जाएगा NEET परीक्षार्थियों का पहला प्रयास-सीबीएसी

Prashasti Pathak