व्यंग्य

व्यंग: बेपटरी अब रेल

Literature special satire on railway accidents increasing

बेपटरी अब रेल ।
लापरवाही चरम ।।

शक हो रहा रेलवे ।
ना निभाते धरम ।।

मुआवज़ा-निलंबन ।
सुनते केवल कान ।।

तरस गयीं आँखें ।
ना दिखे परिणाम ।।

कायाकल्प लगातार ।
गया नहीं भय ।।

जानमाल की रक्षा ।
आएगा समय ?

कृष्णेन्द्र राय

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Reporter : Krishnendra Rai

Related posts

कविता: अमृतसर रेल हादसा

Shivani Awasthi

व्यंग: करो पुलिस सुधार !

Krishnendra Rai

व्यंग: एफ़आईआर यात्रा !

Krishnendra Rai