व्यंग्य

व्यंग: अमर-प्रेम चर्चा !

Literature special Satire on leaders change political party

अमर-प्रेम चर्चा ।
बदल गया झुकाव ।।

करवट लिया प्रेम ।
सियासी ठहराव ।।

हमला है वही ।
दिशा केवल बदली ।।

उमड़ा नया प्रेम ।
भावना पर असली ?

बदल गया गुड़गान ।
नेताजी ना अपने ।।

सियासी शतरंज ने ।
दिखाये कुछ सपने ?

कृष्णेन्द्र राय

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Reporter : Krishnendra Rai

Related posts

कविता: ऐ छप्पन इंच !

Krishnendra Rai

व्यंग: तुष्टीकरण की हद !

Krishnendra Rai

व्यंग: कौन होगा दूल्हा ?

Krishnendra Rai