Home » व्यंग: तुष्टीकरण की हद !
व्यंग्य

व्यंग: तुष्टीकरण की हद !

Literature special satire on Appeasement politics

शर्मसार है देश ।
ऐसा जननेता ।।

भड़काकर भावना ।
बनना अब विजेता ?

विवादों से नाता ।
पूर्व राजनयिक ।।

जहर ये उगलना ।
बार-बार ठीक ?

केवल एक संप्रदाय ।
आपका निशाना ।।

तुष्टीकरण की हद ।
लिख रहे अफ़साना ।।

कृष्णेन्द्र राय

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Reporter : Krishnendra Rai

Related posts

व्यंग: कौन होगा दूल्हा ?

Krishnendra Rai

व्यंग: चल गया सोटा !

Krishnendra Rai

व्यंग: बात में वज़न ?

Krishnendra Rai