Home » कविता: अमृतसर रेल हादसा
व्यंग्य

कविता: अमृतसर रेल हादसा

Literature special on amritsar train accident died many

रेल हादसे ने किया भारी नर संहार।

अमृतसर में हो गया रक्त रंजित त्यौहार।

रक्त रंजित त्यौहार दशहरा मना न अच्छा।

गईं दर्जनों जान, मरे नर नारी बच्चा।

रसिक कहे समझाय ट्रेक पर रेल थी आई।

रेलवे प्रशासन मौन, बड़ी करी लापरवाही।।

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Reporter : Jay Saraswat

Related posts

व्यंग: चुनाव की ये बेला..

Krishnendra Rai

कविता: ना करना अतिक्रमण !

Krishnendra Rai

व्यंग: बेपटरी अब रेल

Krishnendra Rai