Home » क्या डॉयल 100 के आये बुरे दिन, सवारियां ढ़ो रहे पुलिसकर्मी?
Uttar Pradesh Uttar Pradesh Live

क्या डॉयल 100 के आये बुरे दिन, सवारियां ढ़ो रहे पुलिसकर्मी?

up dial 100

यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने जिस डॉयल 100 सेवा को पूरे उत्तर प्रदेश में शुरू करके जनता की सुरक्षा का भरोसा दिलाया था। ऐसा लगता है कि सत्ता बदलते ही अब उसी सेवा के बुरे दिन आ गए हैं। इसी के चलते महत्वाकांक्षी योजना ‘यूपी 100 UP’ अब सवारियां और वसूली करने को मजबूर है। यह हम नहीं बल्कि तस्वीरें और वीडियो इसके खुद गवाह हैं।

पुलिस की इनोवा ढ़ो रही सवारी

  • पुलिस की इनोवा में सवारियां ढ़ोते दिखाई दे रही यह तस्वीर लखीमपुर खीरी जिले की है।
  • यहां पैसे के लिए अस्मिता बेच रहे सिपाही पुलिस की इनोवा (यूपी 32डीजी 2850) एलआरपी चौराहे से सीतापुर तक धड़ल्ले से सवारियां बैठकर पैसे कमा रहे हैं।
  • स्थानीय लोगों की माने तो पुलिस का यह खेल रात में और जोरों पर चलता है।
  • पुलिस पर आरोप यह भी है कि डॉयल 100 पर तैनात सिपाहियों के रेट भी फिक्स हैं।
  • किसी सूचना पर जब यह पुलिसकर्मी ग्रामीण इलाकों में पहुंचते हैं तो दो से लेकर 5 हजार रुपये तक पीड़ितों से वसूल करते हैं।
  • लोगों की मानें तो डॉयल 100 पर तैनात सिपाही अपना कनेक्शन सीधे लखनऊ से जुड़ा होने की बात कहकर धमकाते भी हैं।
  • शहर और ग्रामीण इलाकों में पुलिस की गाड़ी में बैठकर पुलिसकर्मी सूनसान जगहों पर जमकर वसूली करते हैं।
  • सूत्रों की मानें तो वसूली करने वाले सिपाहियों ने रेट फिक्स कर रखे हैं।
  • इनमें भारी लोडेड ट्रकों से 100 से लेकर 500 रुपये, ट्रैक्टर से 50 रुपये और छोटा हाथी या लोडर से 20 से 100 रुपये तक वसूले जाते हैं।
  • वसूली का यह खेल शाम होते ही शहर के ग्रामीण इलाकों में भी शुरू हो जाता है इससे भयंकर जाम की भी स्थिति बन जाती है।

 

यह भी पढ़ें- डॉयल 100 पर तैनात सिपाही ऐसे करते हैं वसूली!

 

https://youtu.be/3I67zaBHIS0

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

DM बी चंद्रकला ने शुरू किया चुनावी ‘दंगल’, 150 पहलवान पहुंचे मेरठ!

Sudhir Kumar

पॉलीटेक्निक पेपर लीक मामले पर प्रशासन हुआ शख्त, प्रमुख सचिव प्राविधिक शिक्षा ने की कार्यवाही

Ashutosh Srivastava

यूपी में बढ़ रहे क्राइम के लिए योगी सरकार जिम्‍मेदार नहीं: बीजेपी सांसद

Abhishek Tripathi