Home » रियलिटी चेक: लाखों लेबरों को नहीं पता ‘मजदूर दिवस’ ना उनके अधिकार!
Uttar Pradesh Uttar Pradesh Live

रियलिटी चेक: लाखों लेबरों को नहीं पता ‘मजदूर दिवस’ ना उनके अधिकार!

reality check majdoor diwas

भले ही केंद्र और राज्य सरकारें मजदूरों के लिए कई लाभकारी योजनाएं चला रही हों लेकिन पूरे देश तो दूर केवल यूपी में ही लाखों मजदूरों को ना तो उनके अधिकारों के बारे में जानकारी है और ना ही मजदूर दिवस के बारे में जानकारी है।

  • एक मई को हर साल पूरे देश में अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस मनाया जाता है।
  • इस दिन हर जगह कई कार्यक्रम भी आयोजित होते हैं।
  • मजदूरों को इस दिन के बारे में जानकारी है कि नहीं यह जानने के लिए uttarpradesh.org की टीम ने रियलिटी चेक किया।
  • हमारे इस रियलिटी चेक में पता चला कि मजदूरों को मजदूर दिवस के बारे में जानकारी नहीं है और ना ही उन्हें अपने अधिकारों की जानकारी है।

https://youtu.be/cdO-mTskCN4

मजदूर दिवस की नहीं जानकारी

  • पूरी दुनिया के करीब 80 देशों में एक मई को अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस (लेबर डे) मनाया जाता है।
  • मजदूर दिवस पर पूरे देश में सभी कंपनियों में छुट्टी रहती है।
  • हमारे मजदूर भाई कड़ी धूप हो या सर्दी और बरसात हर मौसम में अपना और अपने परिवार का पेट पालने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं।
  • वास्तव इन मजदूरों की मेहनत देखकर आप की भी हिम्मत डगमगा जायेगी।
  • इनकी दिनचर्या को आप तक पहुंचाने के लिए हमारी टीम राजधानी के पीजीआई इलाके के कल्ली क्षेत्र में पहुंची।
  • इस क्षेत्र में कई ईंट के भट्ठे हैं जहां हजारों मजदूर काम करते हैं।
  • इन मजदूरों को उनके अधिकार तो दूर मजदूर दिवस के बारे में ही जानकारी नहीं है।

परिवार सहित कर रहे काम

  • इस क्षेत्र के करीब आधा दर्जन ईंट भट्ठों पर कलकत्ता, बिहार, मध्यप्रदेश, पश्चिम बंगाल सहित कई राज्यों के हजारों मजदूर काम करते हैं।
  • निगोहा के रहने वाले उमेश कुमार ने बताया कि गांव में उसका ना तो मनरेगा कार्ड बना है और ना ही उसे इसके तहत मजदूरी मिलती है।
  • वह पीजीआई में मजदूरी करता है उसे यह भी नहीं मालूम किस दिन मजदूरी मिलेगी या नहीं।
  • वहीं मोहित कुमार ने बताया कि उसके परिवार में कई लोग हैं मजदूरी करके परिवार का पेट पलता है।
  • गांव में उसे दबंग जानवर तक बांधने के लिए जगह नहीं दे रहे हैं।
  • इन मजदूरों की सरकार से एक मांग है कि उनके बच्चों के लिए पढ़ने की व्यवस्था उपलब्ध करवा दी जाये ताकि उनका भविष्य अंधकारमय ना हो।

दिनभर और रात में करते हैं काम

  • कल्ली स्थित जैन ब्रिक फील्ड (पारस) ईंट भट्ठे पर काम करने वाले आसीमुद्दीन, नूर अमीन, मजनू, अफरूजा सहित कई मजदूरों ने बताया वह पश्चिम बंगाल के रहने वाले है।
  • सभी अपने परिवार के साथ मेहनत मजदूरी करके अपने परिवार का पेट पालते हैं।
  • इन मजदूरों का काम शिफ्ट के हिसाब से रहता है, कोई चार घंटे लगातार काम करता है तो कोई दो घंटे काम करके ईंट पाथने का काम करता है।
  • इन लोगों के पास कुछ रहने का प्रमाण नहीं है इसलिए बच्चों का स्कूलों में दाखिला नहीं हो पा रहा है वह वह शिक्षा से वांछित होते दिखाई दे रहे हैं।
  • हालांकि इन मजदूरों को कोई असुविधा ना हो इसके लिए भट्टा मालिक ने बेहतर आधुनिक सुविधाएं दे रखीं हैं इससे इनका काम आसान हो गया है।

प्रदूषण रहित है ईंट भट्ठा

  • इस क्षेत्र का जैन ब्रिक फील्ड ईंट भट्ठा प्रदूषण रहित है।
  • इस भट्ठे में आधुनिक तकनीक का प्रयोग किया गया है इस भट्ठे की चिमनी से काला धुंआ नहीं निकलता।
  • भट्ठा मालिक सुरेंद्र कुमार जैन ने बताया कि पहले मजूरों को ईंट बनाने के लिए मिट्टी को बनाने में काफी मेहनत करनी पड़ती थी लेकिन अब उन्होंने कई सारी मशीनें लगा रखीं हैं।
  • इससे समय की बचत होती ही है बल्कि मजदूरों को ज्यादा मेहनत भी नहीं करनी पड़ती है।
  • उन्होंने बताया कि ईंट बनाने के लिए मिट्टी को जेसीबी से खुदवाकर फिर पॉवर हैरो से महीन बना दिया जाता है।
  • पहले मजदूर पानी भर के लाते थे लेकिन अब उन्होंने बड़ा सबमर्सिबल लगवा रखा है जो हर जगह पानी आसानी से पहुंचा देता है।
  • साथ ही जो ईंट तैयार होने के बाद मजदूर पहले अपने सिर पर ढोकर बाहर चट्टान लगाते थे।
  • वह प्रथा समाप्त करके उन्होंने ट्रॉली की व्यवस्था कर दी है ताकि मजदूरों को कोई परेशानी ना हो और कम मेहनत में काम कर सकें।
  • इतना ही नहीं उन्होंने इन मजदूरों को रहने की भी व्यवस्था उपलब्ध करवा रखी है।

क्या है मजदूर दिवस

  • अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस की शुरुआत 1 मई 1886 को हुई थी।
  • इस दिन अमेरिका के मजदूर संघों ने एक साथ मिलकर यह एलान किया था कि वह 8 घंटे से अधिक समय तक काम नहीं करेंगे।
  • इस मांग को मनवाने के लिए सभी संगठनों ने हड़ताल कर दी थी।
  • जब मजदूरों ने हड़ताल की तभी इस दौरान शिकागो की हेमार्केट में एक बम विस्फोट हो गया।
  • इससे निपटने के लिए पुलिस ने मजदूरों पर गोली चला दी थी इसमें कई मजदूरों की मौत एवं सैकड़ों मजदूर घायल हो गए थे।
  • इस घटना के बाद वर्ष1889 में अंतर्राष्ट्रीय समाजवादी सम्मेलन में हेमार्केट नरसंघार में मारे गये निर्दोष लोगों की याद में एक मई को अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस के रूप में मनाये जाने का एलान किया गया।
  • इसके बाद से इस दिन को श्रमिक दिवस, मजदूर दिवस, कामगार दिवस कई तरह से मनाकर श्रमिकों का अवकाश रहता है।

 देखिये 32 Exclusive तस्वीरें:

[ultimate_gallery id=”72565″]

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

वीडियो: 12KM लंबा अखिलेश-राहुल का रोड-शो

Sudhir Kumar

केजीएमयू: किडनी चोरी मामले में नया मोड़!

Kamal Tiwari

अब ये खास तकनीक करेगी आतंकियों से रेल की सुरक्षा

Mohammad Zahid