Home » एक क्लिक पर देखिये भारत वर्ष में कितने हुए रेल हादसे!
Uttar Pradesh Uttar Pradesh Live

एक क्लिक पर देखिये भारत वर्ष में कितने हुए रेल हादसे!

Kanpur Rail Accident

यूपी के फ़ैजाबाद जिले में दून एक्सप्रेस की एक बोगी गुरुवार को अचानक पटरी से उतर गई। इस दौरान एक बड़ा हादसा (train accidents) होने से बच गया। हालांकि रेलवे प्रशासन ने फौरन मौके पर पहुंच कर डिब्बे को हटाकर ट्रेनों का संचालन शुरू करवाया। हादसों का यह कोई पहला मामला नहीं है इससे पहले भी कई हादसे हो चुके हैं इनमें एक हजार से अधिक लोगों की जानें जा चुकी हैं।

वीडियो: 8 दुकानों पर चला नगर निगम का बुलडोजर!

सुरक्षा के कड़े इंतजाम करने का दावा फेल

  • भले ही भारतीय रेल विभाग ट्रेनों में सुरक्षा के कड़े इंतजाम करने का दावा कर रहा हो लेकिन एक के बाद एक हो रहे रेल हादसे इसकी हकीकत खुद बता रहे हैं।
  • सरकारी आंकड़ों पर नजर डालें तो उनमें से 87.78 फीसद मानवीय भूल के कारण हुर्इं।
  • उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात के निकट रविवार सुबह तड़के करीब 3:10 बजे पुखरायां स्टेशन पर पटना से इंदौर जा रही पटना-इंदौर एक्सप्रेस (19321) की 14 बोगियां अचानक पटरी से उतर गईं। इस भीषण ट्रेन हादसे में 100 लोगों की मौत हो गई है जबकि 350 से अधिक लोग घायल हुए हैं।
  • पटना एक्सप्रेस रेल हादसा कोई पहला नहीं है इससे पहले भी कई बड़े रेल हादसे हो चुके हैं। पेश है एक रिपोर्ट…  

वीडियो: एसबीआई की मुख्य शाखा में हुई मॉक ड्रिल!

इन हादसों ने खोली रेलवे की पोल

  • 03 दिसंबर 2000 को पंजाब में सराय बंजारा और साधुगढ़ के बीच हावड़ा-अमृतसर मेल पटरी से उतकर मालगाड़ी से टकराई। 46 यात्रियों की मौत और 130 से अधिक यात्री घायल।
  • 22 जून 2001 को केरल में कोझिकोड के निकट मंगलोर-चेन्नई मेल कडालुंदी नदी में गिरने से 40 लोगों का मौत।
  • 12 मई 2002 को उत्तर प्रदेश के जौनपुर में नई दिल्ली से पटना जा रही श्रमजीवी एक्सप्रेस पटरी से उतर गई 12 लोगों की मौत।
  • 4 जून 2002 को कासगंज एक्सप्रेस रेलवे क्रॉसिंग पर एक बस से टकराने से 34 यात्रियों की मौत।
  • 10 सितंबर 2002 को कोलकाता से नई दिल्ली आ रही राजधानी एक्सप्रेस बिहार में पुल पर पटरी से उतर गई 120 से अधिक लोगों की मौत।
  • 03 जून 2003 को दक्षिण-मध्य महाराष्ट्र में एक्सप्रेस गाड़ी के तीन डिब्बे पटरी से उतर जाने से 18 यात्रियों की मौत।
  • 15 मई 2003 को पंजाब में पैसेंजर ट्रेन में स्टोव के फटने से लगी आग में 40 यात्रियों की मौत, 50 से अधिक घायल।
  • 22 जून 2003 को महाराष्ट्र के सिंधुदुर्ग जिले में वैभववाड़ी स्टेशन के पास करवार-मुम्बई सेंट्रल हॉलीडे स्पेशल ट्रेन डिरेल हो गई। इसमें 53 लोगों की मौत जबकि 25 यात्री घायल हुए।
  • 02 जुलाई 2003 को आंध्र प्रदेश में ट्रेन के दो डिब्बे इंजन समेत पुल के नीचे से गिर गए इसमें 22 यात्रियों की मौत।
  • 16 जून 2004 को मुंबई जा रही मत्स्यगंधा एक्सप्रेस महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले में एक पुल पार करते समय पटरी से उतर गई। हादसे में 20 लोगों की मौत 60 घायल।
  • 28 जुलाई 2005 को यूपी के जौनपुर जिले के सिगरामऊ के हरपालगंज रेलवे क्रासिंग के पास श्रमजीवी एक्सप्रेस ट्रेन में बम विस्फोट में 12 लोगों की मौत हो गई थी।
  • 28 मई 2010 को पश्चिम बंगाल में मालगाड़ी की टक्कर से ज्ञानेश्वरी एक्सप्रेस के 13 डिब्बे पटरियों से उतर गए इसमें 148 लोगों की मौत।
  • 19 जुलाई 2010 को पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में सियालदह जा रही उत्तरबंगा एक्सप्रेस सैंथिया स्टेशन पर वनांचल एक्सप्रेस से टकरा गई इसमें 60 लोगों की मौत।
  • 22 मई 2011 को बिहार के मधुबनी जिले में पैसेंजर ट्रेन एक वाहन से टकरा गई, इसमें 16 लोगों की मौत।
  • 07 जुलाई 2011 को कटिहार में दिल्ली-गुवाहाटी राजधानी एक्सप्रेस मानव रहित रेलवे क्रॉसिंग पर 80 यात्रियों को लेकर जा रही एक बस से टकरा गई इसमें 31 लोगों की मौत।
  • 22 नवंबर 2011 को झारखंड के गिरिडीह में हावड़ा-देहरादून एक्सप्रेस में आग लग जाने से 7 लोगों की जिंदा जलकर मौत।
  • 11 जनवरी 2012 को दिल्ली जा रही ब्रह्मपुत्र मेल और एक मालगाड़ी के बीच टक्कर में 5 लोगों की मौत।
  • 22 मई 2012 को आंध्र प्रदेश के अनंतपुर जिले में बेंगलुरू जा रही हम्पी एक्सप्रेस एक मालगाड़ी से टकरा गई इसमें 25 लोगों की मौत।
  • 31 मई 2012 को उत्तर प्रदेश में जौनपुर के निकट हावड़ा से देहरादून जा रही दून एक्सप्रेस पटरी से उतर गई, इसमें 7 सात लोगों की मौत कई घायल।
  • 30 जून 2012 को उत्तर प्रदेश के जौनपुर में दून एक्सप्रेस के पांच डिब्बे मेहरावां रेलवे स्टेशन के पास पटरी से उतर गए थे। इस हादसे में 5 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 12 घायल हो गए थे।
  • 30 जुलाई 2012 को आंध्र प्रदेश के नेल्लोर के निकट दिल्ली से चेन्नई जा रही तमिलनाडु एक्सप्रेस की एक बोगी में आग लग जाने से 35 यात्रियों की जिंदा जलकर मौत।
  • 10 अप्रैल 2013 को तमिलनाडु में अराक्कोनम के पास सिथारी में बेंगलुरू जा रही मुजफ्फरपुर-यशवंतपुर एक्सप्रेस की 11 बोगियों के पटरी से उतर जाने से 3 यात्रियों की मौत, 33 घायल।
  • 19 अगस्त 2013 को बिहार के खगड़िया जिले में रायरानी एक्सप्रेस ट्रेन की चपेट में आकर 28 लोगों की मौत।
  • 30 नवंबर 2013 को लखनऊ के निगोहा186 सी क्रासिंग के निकट इलाहाबाद जा रही हरिद्वार एक्सप्रेस के तीन डिब्बे पटरी से उतर गए थे।
  • 08 जनवरी 2014 को सूरत के पास बांद्रा-देहरादून एक्सप्रेस के तीन कोच में आग लग जाने से 4 की मौत 5 घायल।
  • 17 फरवरी 2014 को महाराष्ट्र के नासिक जिले में निजामुद्दीन-एर्नाकुलम मंगला एक्सप्रेस के 10 कोच पटरी से उतर जाने से 3 यात्रियों की मौत, 37 लोग घायल।
  • 04 मई 2014 महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले में कोंकण रेलवे की दिवा-सावंतवादी पैसेंजर ट्रेन के पटरी से उतर जाने से 18 लोगों की मौत, 124 घायल।
  • 26 मई 2014 को यूपी के संत कबीर नगर में दिल्ली-गोरखपुर एक्सप्रेस एक खड़ी मालगाड़ी से टकरा गयी इसमें 11 लोगों की मौत।
  • 25 जून 2014 को बिहार के छपरा के पास डिब्रूगढ़ राजधानी हादसे में 5 लोगों की मौत।
  • 01 अक्टूबर 2014 को गोरखपुर के पास कृषक एक्सप्रेस और लखनऊ-बरौनी एक्सप्रेस के बीच टक्कर में 12 लोगों की मौत।
  • 4 दिसंबर 2014 को उत्तर प्रदेश के मऊ जिले में एक स्कूल वैन एक मानवरहित रेलवे क्रॉसिंग पर रेलगाड़ी की चपेट में आ गई, इसमें 5 बच्चों की मौत 20 घायल हुए थे।
  • 16 दिसंबर 2014 को बिहार में नवादा जिले के वारिसलीगंज रेलवे स्टेशन के निकट मानव रहित रेलवे क्रॉसिंग पर ट्रेन बोलेरो से टकराई इसमें 5 लोगों की मौत।
  • 13 फरवरी 2015 को बेंगलुरू से एर्नाकुलम जा रही एक एक्सप्रेस ट्रेन की आठ बोगियां होसुर के निकट पटरी से उतर गईं, इसमें 10 लोगों की मौत।
  • 05 अगस्त 2015 को हरदा के पास कामियानी एक्सप्रेस और जनता एक्सप्रेस पटरी से उतर गई, इसमें 29 यात्रियों की मौत।
  • 21 सितंबर 2016 को फैजाबाद जंक्शन के पूर्वी आउटर स‌िग्नल के पास हावड़ा-देहरादून एक्सप्रेस के पांच ड‌िब्बे पटरी से उतर गए थे। गनीमत रही कि ट्रेन की स्पीड कम होने की वजह से कोई नुकसान नहीं हुआ था।
  • 20 नवंबर 2016 को कानपुर देहात के निकट पुखरायां स्टेशन पर पटना से इंदौर जा रही पटना-इंदौर एक्सप्रेस (19321) की 14 बोगियां अचानक पटरी से उतर गईं। इस भीषण ट्रेन हादसे में 100 लोगों की मौत हो गई है जबकि 350 से अधिक लोग घायल हो गए।
  • 26 जून 2017 को चारबाग रेलवे स्टेशन के आगे मवैया क्रासिंग के पास एक सुपरफास्ट एक्सप्रेस कपलिंग खुलने से दो हिस्सों में बंट गई। इससे ट्रेन में बैठे यात्रियों के बीच अफरा-तफरी मच गई थी। कपलिंग खुलने से इंजन और डिब्बे एक दूसरे से अलग हो गए और काफी दूर निकल गए थे। हालांकि इस घटना में कोई घायल नहीं हुआ।
  • 26 जून 2017 को मुजफ्फरपुर में कुढ़नी व तुर्की के बीच रेलवे गुमटी संख्या 18 पर छपरा-टाटा एक्सप्रेस बड़े हादसे का शिकार होने से बच गई। यहां तेज रफ्तार ट्रेन से सिग्नल ठीक करने के लिए लगाई गई लोहे की सीढ़ी गिरकर टकरा गई। इस हादसे के दौरान जनरल कोच की तीन बोगियों में खिड़की और गेट पर बैठे एक दर्जन से अधिक यात्री लोहे की सीढ़ी टकराने से बुरी तरह घायल हो गए। इस घटना की जानकारी उस वक्त हुई जब ट्रेन मुजफ्फरपुर के तुर्की स्टेशन पर रुकी। हादसे में घायल यात्रियों ने उपचार के लिए रेलवे स्टेशन पर जमकर हंगामा किया था।
  • 29 जून 2017 को फ़ैजाबाद जिले में दून एक्सप्रेस डीरेल हो गई, हलाकि इस घटना में कोई घायलनहीं हुआ।

IAS नवनीत सहगल को मिली बड़ी जिम्मेदारी!

  •  

    कई हादसों की जानकारी नहीं

  • वर्ष 2000 से लेकर अब तक हुए करीब तीन दर्जन बड़े रेल हादसों में करीब 1000 लोग मारे जा चुके हैं।
  • जबकि सैकड़ों लोग घायल हुए हैं।
  • आंकड़ों में दिखाए गए बड़े रेल हादसे हैं अभी कई रेल हादसे ऐसे हैं इनमें भी कई लोग मारे गए हैं और कई घायल हैं।
  • इन (train accidents) हादसों के बारे में जानकारी नहीं मिल पाई है।

पीएम के गढ़ वाराणसी में फ्रांस की महिला के साथ रेप!

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

यूपी में 20 मुख्य चिकित्सा अधिकारियों के तबादले!

Sudhir Kumar

सतीश चन्द्र मिश्र इलाहाबाद में साधेंगे ‘ब्राह्मण वोटर्स’!

Divyang Dixit

रामगोपाल यादव पहुंचे लखनऊ!

UP.org Editor