Home » विधान भवन में मिले पाउडर को भेजा गया हैदराबाद!
Uttar Pradesh Uttar Pradesh Live

विधान भवन में मिले पाउडर को भेजा गया हैदराबाद!

agra forensic report

यूपी की विधानसभा में पिछले दिनों मिले (PETN Powder) पीईटीएन की गुत्थी सुलझने में 7 दिन का वक्त और लगेगा। जांच अधिकारियों की माने तो ये पाउडर एक और जांच के लिए सीएफएसएल हैदराबाद भेजा गया है। वहां से रिपोर्ट आने में सात दिन लग जाएंगे। इसके बाद ही पीईटीएन का मामला सुलझ पायेगा। पाउडर को एक और जांच के लिए सीएफएसएल हैदराबाद भेजा गया है। वहां से रिपोर्ट आने में सात दिन लग जाएंगे। बता दें कि अभी तक एनआईए ने जांच अपने हाथ में नहीं ली है।

अब गोमतीनगर में रिटायर्ड प्रोफेसर के घर डकैतों ने बोला धावा!

एफएसएल अधिकारियों पर हो सकती है कार्रवाई

  • सूत्रों के मुताबिक, एसएफएसएल के अधिकारियों पर भी गाज गिर सकती है।
  • बताया जा रहा है कि जल्द ही एफएसएल के निदेशक भी हटाए जा सकते हैं।
  • सरकार एफएसएल के निदेशक के रूप में किसी आईएएस या आईपीएस अधिकारी की तैनाती कर सकती है।

रिटायर्ड जेई से दिन दहाड़े 50 हजार की लूट!

जांच में नहीं चल रहा पता

  • आईजी विजय सिंह मीणा ने बताया कि अभी तक जांच रिपोर्ट डीजीपी मुख्यालय को नहीं मिली है।
  • हमने एक सैंपल जांच के लिए हैदराबाद भेज दिया है।
  • रिपोर्ट आने में कम से कम एक सप्ताह का समय लग जाएगा।
  • सूत्रों के मुताबिक, एफएसएल लखनऊ की तरफ से बरामद पाउडर के कुछ और अलग-अलग टेस्ट कराए गए।
  • लेकिन वहां भी जांच में पीईटीएन होने की बात सामने नहीं आई है।
  • एनआईए को जांच के लिए गुरुवार को भी आदेश नहीं हुए।
  • माना जा रहा है कि पाउडर के पीईटीएन होने पर संदेह के बाद केंद्र सरकार इस जांच को एनआईए को देने को तैयार नहीं है।
  • क्योंकि सीएम के विधानसभा में घोषणा करने के बाद यह लगभग तय था कि सोमवार को जांच एनआईए को सौंपने के आदेश हो जाएंगे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

लखनऊ में बैंक अधिकारियों की मिली भगत से करोड़ों का घोटाला!

क्या है पूरा मामला

  • यूपी की राजधानी लखनऊ में विधानसभा बजट सत्र 1017 के सदन के दौरान नेता विपक्ष की कुर्सी के निकट 12 जुलाई को एक तीब्र गति का बेहद शक्तिशाली विस्फोटक मिलने से हड़कंप मच गया था।
  • विस्फोटक मिलने से विधानसभा सुरक्षा बलों के हाथपांव फूल गए।
  • सुरक्षा अधिकारियों ने फौरन डॉग स्क्वॉड और फॉरेंसिंक एक्सपर्ट की टीम बुलाई।
  • फॉरेंसिंक एक्सपर्ट की टीम ने Pentaerythritol tetranitrate पीईटीएन (PETN) (पेंटेरीथ्रिटोल टेट्रानेरेट्रेट) होने की पुष्टि की।
  • एटीएस के अधिकारियों के मुताबिक, ये विस्फोटक आतंकवादियों के पास मिलता है और इसे रिमोट के जरिये भी ऑपरेट किया जा सकता है।
  • हालांकि ये विस्फोटक विधान सभा के अंदर कैसे पहुंचा यह बहुत बड़ा सवाल है।

लखनऊ में बैंक अधिकारियों की मिली भगत से करोड़ों का घोटाला!

क्या है पीईटीएन विस्फोटक

विधानसभा सत्र के दौरान 30 साल के इतिहास में यह पहला मामला है जब विधान सभा के अंदर यह बेहद खतरनाक विस्फोटक पीईटीएन (PETN) मिला है। ये विस्फोटक नीले रंग की पॉलीथिन में रखा था। हालांकि ये पीईटीएन है क्या इसके बारे में हम आप को विस्तार से बताते हैं। फिलहाल इस एक बेहद संगीन मामले की एनआईए से जांच कराने के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बात कही है वहीं राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (आईबी) ने पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी है।

देवरिया के इस युवक ने दी थी विधानसभा उड़ाने की धमकी!

गंधहीन सफेद पाउडर है पीईटीएन

  • बता दें कि पीईटीएन (PETN) एक गंधहीन सफेद पाउडर है।
  • जिसे डिटेक्ट करना आसान नहीं होता है।
  • यहां तक की डॉग स्क्वॉड (खोजी कुत्ते) भी इसकी पहचान नहीं कर पाते।
  • मेटल डिटेक्टर भी इस विस्फोटक को डिटेक्ट नहीं कर सकता।
  • इस विस्फोटक का पूरा नाम पेंटाईरीथ्रीटोल ट्राईनाइट्रेट है।
  • जिसकी छोटी सी मात्रा भी खतरनाक होती है।
  • विशेषज्ञों की माने तो इसकी 100 ग्राम मात्रा ही एक कार को उड़ाने के लिए काफी है।
  • विशेषज्ञों का कहना है कि सुरक्षा उपकरणों में पकड़ में ना आने की वजह से PETN आतंकवादियों की पसंद है।

गोंडा: पटाखा दगते ही घोड़े सहित कुंए में गिरा दूल्हा!

इन जगहों पर इस्तेमाल हुआ PETN

  • 7 सितंबर 2011 को दिल्ली हाईकोर्ट में हुए ब्लास्ट में PETN का इस्तेमाल किया गया था। इस ब्लास्ट में 17 लोग मारे गए थे और 76 लोग घायल हुए थे।
  • वर्ष 2001 में शू बॉम्बर के नाम से मशहूर टेररिस्ट रिचर्ड रीड ने मियामी से जाने वाले अमेरिकन एयरलाइंस जेट पर इसका इस्तेमाल किया था।

महागुन सोसाइटी में तोड़फोड़ करने के मामले में 13 गिरफ्तार!

  • वर्ष 2009 में अलकायदा मेंबर उमर फारुख अब्दुलमुतल्लब ने नॉर्थवेस्ट जाने वाली एक फ्लाइट में PETN के इस्तेमाल की कोशिश की, लेकिन नाकामयाब रहा। यह अपने अंडरवियर में एक्सप्लोसिव छिपाकर ले गया था और पकड़ा गया।
  • वर्ष 2010 में अक्टूबर महीने में यमन से अमेरिका जाने वाले एक कार्गो प्लेन में PETN मिला था।
  • वर्ष 2011 में दिल्ली हाईकोर्ट में PETN से ब्लास्ट किया गया। हाईकोर्ट धमाके में भी इस विस्फोटक (PETN Powder) के उपयोग की बात सामने आई थी।

लखनऊ मेट्रो: लोहे का बोर्ड 12वीं के छात्रों के सिर पर गिरा एक की मौत!

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

डकैतो व लुटेरों की फर्जी जमानत कराने वाले दो जमानतदार गिरफ्तार

Sudhir Kumar

वाराणसी में गंगा उफान पर, सीढ़ियों पर हो रहा शवों का दाह संस्कार

Kamal Tiwari

37 और 93 रुपए के कर्जदार किसानों का ऋण माफ!

Sudhir Kumar