Home » पारसी समुदाय मना रहा नए साल का जश्‍न
Uttar Pradesh Uttar Pradesh Live

पारसी समुदाय मना रहा नए साल का जश्‍न

Parsi New Year 2017 Navroze

नवजोत यानी पारसी समाज के लिए नववर्ष (Navroze) का आगाज। विभिन्‍न संस्‍कृतियों की मोती से पिरोई गई भारतीय संस्‍कृति की माला में पारसी समाज का भी अहम योगदान रहा है। गुरुवार को सोशल मीडिया पर भी नवजोत के संदर्भ में पारसी समुदाय के लोग एक-दूसरे को शुभकामनाएं भेज रहे हैं। ऐसे में आज हम हम आपको बताते हैं नवरोज के बारे में कुछ रोचक तथ्‍य…

वकील और भाजपा नेता ने दी सिटी ट्रांसपोर्ट के एमडी को धमकी

धर्म के तहत प्रार्थना करने की दी जाती है सीख

  • नवरोज के दिन से ही पारसी समुदाय में जन्‍मे बच्‍चों को उनके धर्म के तहत प्रार्थना करने व धर्म का अनुपालन करने की सीख दी जाती है।
  • इसके तहत सिर्फ वही बच्‍चे इस अनुपालन सीख में भाग ले सकते हैं जिनकी आयु सात वर्ष हो चुकी होती है।
  • नवरोज के दिन बच्‍चों को पहली बार सुद्रेह-क्रुस्‍ती का परिधान पहनाया जाता है।
  • यह परिधान पारसी समाज की पहचान है।

तीन माह बाद भी नहीं सुलझी IAS अनुराग तिवारी की मौत की गुत्थी

  • हालांकि, यह जरूरी नहीं है कि सुद्रेह-क्रुस्‍ती का परिधान नवजोत के बाद बच्‍चे को हर रोज पहनना अनिवार्य है।
  • नवरोज के दिन सात वर्ष की आयु पूरी कर चुके बच्‍चों को उनके पारसी माता-पिता उनके धार्मिक दायित्‍वों का पाठ पढ़ाते हैं।
  • बता दें कि सात से 11 वर्ष की आयु के बीच में पारसी समुदाय के बच्‍चों को धार्मिक दायित्‍वों का पाठ पढ़ाया जाता है।

आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों ने निकाली ‘वादा याद दिलाओ रैली’

  • इरान की धार्मिक पुस्‍तकों में भी नवरोज के बारे में विस्‍तार में वर्णन किया गया है।
  • यही नहीं पहले नवरोज की खुशियां लोग दिन के उजाले में ही मनाते थे।
  • मगर अब समय बदलने के साथ ही पारसी समुदाय के लोग इस दिन शाम को भी सेलिब्रेशन करते हैं।
  • इस दिन धार्मिक सीख पाने वाले बच्‍चे को एक छोटे से स्‍टूल पर बैठाया जाता है जबकि ठीक उनके सामने उनके पादरी बैठते हैं।
  • बच्‍चे का (Navroze) मुंह पूरब दिशा में होता है।
  • फिर उन्‍हें धार्मिक दायित्‍वों के बारे में बताया जाता है।

विधान सभा के सामने युवक ने किया आत्मदाह का प्रयास

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

लखनऊ: कानून-व्यवस्था को लेकर अधिकारियों के पेंच कसेंगे CM योगी!

Divyang Dixit

जब सड़क पर मिले 500 और 1000 के नोटों के बारीक टुकड़े!

Shashank

लाठीचार्ज में शिक्षक की मौत के बाद, दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्यवाई की मांग!

Kamal Tiwari