Home » लविवि : छात्रावास की बढ़ी हुई फीस वापस!
Uttar Pradesh

लविवि : छात्रावास की बढ़ी हुई फीस वापस!

lucknow university
लखनऊ विश्वविद्यालय प्रशासन ने छात्रों को बड़ी राहत दी है। विश्वविद्यालय ने छात्रावास की बढ़ी हुई फीस वापस ले ली है। अब, छात्रावासों में दाखिला लेने वाले छात्रों को पिछले सत्र में ली जाने वाली फीस ही देनी होगी। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के छात्रनेता सत्यभान सिंह भदौरिया और विवेक सिंह मोनू के साथ दूसरे चरण की हुई विशेष वार्ता के बाद यह फैसला जारी किया गया। इससे पहले एक चरण की वार्ता एबीवीपी, समाजवादी छात्र सभा समेत अन्य संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ हुई। लेकिन वह विफल रही।

13 से 15 प्रतिशत का हुआ था इजाफा

  • कुलपति प्रो. एसपी सिंह ने बताया कि इस फैसले को वापस ले लिया गया।
  • अगले सत्र में फीस बढ़ाने पर विचार होगा। इसके अलावा, फीस वृद्धि की मात्रा भी सीमित रहेगी।
  • प्रशासन ने हॉस्टल को सेल्फ फाइनेंस में परिवर्तित करने की जानकारी भी दी।
  • विश्वविद्यालय ने नए सत्र में दाखिला लेने वाले छात्रों के छात्रावास शुल्क में इजाफा किया था।
  • रेगुलर की हॉस्टल फीस में करीब 13 से 15 प्रतिशत का इजाफा किया गया था।
  • जबकि, सेल्फ फाइनेंस में यह फीस 30 से 95 प्रतिशत तक बढ़ाई गई।
  • साथ ही, सेल्फ फाइनेंस कोर्स में दाखिला लेने वाले छात्रों  को सेल्फ फाइनेंस मोड में फीस लिए जाने की बात कही गई थी।
  • छात्रों ने दिखाया आइना, बैठक छोड़ बाहर
  • कुलपति की अध्यक्षता में प्रशासन और छात्रों की वार्ता शुरू हुई।
  • एबीवीपी, समाजवादी छात्र सभा समेत अन्य संगठनों के प्रतिनिधि मौजूद थे।
  • इस दौरान छात्रों ने कुलपति को हॉस्टल से लेकर दूसरी खामियों के बारे में जानकारी दी।
  • छात्रनेता अनुराग,विवेक ने प्रॉक्टर प्रो. विनोद समेत दूसरे गुरुजनों के बर्ताव पर सवाल खड़े किए।
  • वहीं, छात्रनेता अंकित सिंह बाबू, छात्रनेता अजीत सिंह ने हॉस्टल में ली जानी वाली फीस और वहां के हालातों की जानकारी दी।
  • पूजा शुक्ला ने विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा शासन से मिलने वाले अनुदान को बढ़ाने की बात रखी।
  • अनिल मास्टर ने छात्रहित में यह फैसला वापस लिए जाने की बात कही।
  • कोई नतीजा न देख अंकित सिंह के कहने पर अन्य छात्रनेता भी वार्ता छोड़ बाहर निकल गए।
  • वार्ता को विफल मान कुछ छात्रनेताओं के कहने पर गेट नम्बर-1  के बार छात्र सड़क पर उतर आए।
  • वाहन की आवाजाही तक रोक दी। लेकिन बाद में, फैसला आने पर जश्न सा माहौल देखने को मिला।

ये भी पढ़ें : CREDAI के कार्यक्रम में शामिल होंगे CM योगी!

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

IAS WEEK दूसरा दिन: सीएम की अध्यक्षता में अधिकारियों का सम्मेलन!

Divyang Dixit

कानपुरः गर्भवती न्यायिक मजिस्ट्रेट की गला घोंटकर निर्मम हत्या!

Rupesh Rawat

विधानसभा सत्र के तहत भाजपा-सपा-बसपा ने बुलाई विधान मंडल दल की बैठक!

Divyang Dixit