Home » तस्वीरें: ‘बीटिंग द रिट्रीट’ की पुरातन काल से चली आ रही प्रथा!
Uttar Pradesh

तस्वीरें: ‘बीटिंग द रिट्रीट’ की पुरातन काल से चली आ रही प्रथा!

beating the retreat ceremony lucknow

गणतंत्र दिवस के समापन के बाद समाप्ति का सूचक ‘बीटिंग द रिट्रीट’ का कार्यक्रम में रविवार को रिजर्व पुलिस लाइंस लखनऊ में मुख्य अतिथि के रूप में राज्यपाल रामनाईक पहुंचे। उन्होंने यहां परेड की सलामी ली। यह प्रथा पुरातन काल से चली आ रही है.

देखिये बीटिंग द रिट्रीट की तस्वीरें:

[ultimate_gallery id=”51093″]

29 जनवरी को आयोजित किया जाता कार्यक्रम

  • बता दें कि यह कार्यक्रम गणतंत्र दिवस के समाप्ति के बाद हर साल 29 जनवरी को आयोजित किया जाता है।
  • ‘बीटिंग द रिट्रीट’ कार्यक्रम में पुलिस बैंड के साथ सेना के जवान मार्च पास्ट करते हैं।
  • यह कार्यक्रम गणतंत्र दिवस समारोह की समाप्ति का सूचक और सेना की बैरक वापसी का प्रतीक है।
  • इसमें नौसेना, वायु सेना और थल सेना के बैंड पारंपरिक धुन के साथ मार्च करते हैं।
  • इस दिन सभी महत्‍वपूर्ण सरकारी भवनों को तिरंगी रोशनी से सुंदरता पूर्वक सजाया जाता है।
  • हर साल यह कार्यक्रम 29 जनवरी की शाम को गणतंत्र दिवस के तीसरे आयोजित किया जाता है।
  • इस कार्यक्रम में खास करके महात्मा गांधी की प्रिय धुनों में से एक ‘एबाइडिड विद मी’ धुन बजाई जाती है।
  • इसके अलावा ट्युबुलर घंटियों द्वारा चाइम्‍स बजाई भी जाती हैं।
  • यह काफी दूरी पर रखी होती है, इसके बाद रिट्रीट का बिगुल वादन किया जाता है।
  • ठीक शाम के 6:00 बजे बगलर्स रिट्रीट की धुन बजाई जाती है।
  • इसके बाद राष्‍ट्रीय ध्‍वज तिरंगे को उतार लिया जाता है और राष्‍ट्रगान गाया जाता है।
  • इस दौरान इस भव्य समारोह को देखने के लिए हजारों की तादात में लोग उपस्थित रहे।

पुरातन काल से चली आ रही प्रथा

  • परिसमाप्ति समारोह की प्रथा उस पुरातन काल से चली आ रही है।
  • जब सूर्यास्त होने पर युद्ध बंद कर दिया जाता था।
  • बिगुल पर रिट्रीट की धुन सुनते ही योद्धा युद्ध बंद कर देते थे और अपने शस्त्र समेट कर रणस्थल से अपने शिविरों को चले जाते थे।
  • इसी कारण रिट्रीट वादन के समय स्थिर खड़े रहने की प्रथा आज तक चली आ रही है।
  • रिट्रीट के समय सेनाओं के झंडे और निशान उतार कर रख दिये जाते थे।
  • नगाड़ा बजाना (ड्रम बीट्स) उस काल का प्रतीक है जब कस्बों तथा शहरों में रहने वाले सैनिकों को सायंकाल निश्चित समय पर अपने शिविरों में वापस बुला लिया जाता था।
  • इन्हीं प्राचीन प्रथाओं के मेलजोल से वर्तमान परिसमाप्ति समारोह का जन्म हुआ है।
UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

समाजवादी पार्टी विकास के लिए केंद्र की पूरी मदद करेगी- सीएम अखिलेश

Divyang Dixit

समीक्षा बैठक में सीएम ने अधिकारियों को दिए कड़े निर्देश!

Nitish Pandey

अवैध कब्जों पर चला निगम का जेसीबी!

Vasundhra