Home » विधानसभा में KGMU की आग से सरकार के जले ‘हाथ’!
Uttar Pradesh Uttar Pradesh Live

विधानसभा में KGMU की आग से सरकार के जले ‘हाथ’!

KGMU Fire

KGMU में लगी आग की लपटें विधानसभा तक पहुँच गईं. विपक्ष ने KGMU में लगी आग को लेकर योगी सरकार को घेरा. योगी सरकार से विपक्ष ने पूछा की इस लापरवाही पर क्या कार्रवाई की गई है?

सिद्धार्थनाथ सिंह ने दिया जवाब:

  • रामगोविंद चौधरी ने सरकार को कटघरे में खड़ा किया.
  • ट्रामा सेंटर का मामला संवेदनशील है इसमें राजनीति नहीं होनी चाहिए.
  • लेकिन आग के कारणों और दोषियों पर कार्रवाई की जानी चाहिए.
  • वहीँ इस मुद्दे पर स्वास्थ्य मंत्री ने सफाई पेश की.
  • उन्होंने कहा कि ट्रामा सेंटर निर्माण के समय ध्यान देना चाहिए था.
  • फायर फाइटिंग पार्टी कहाँ से जा सकती है ये देखना था.
  • सभी अस्पतालों में फायर फाइटिंग ऑडिट और फायर सेफ्टी ड्रिल होगी.
  • नई बन रही बिल्डिंगों में इसका ध्यान रखा जाएगा.
  • सुरेश खन्ना ने बताया कि आज शाम या कल सुबह तक ट्रामा सेंटर अग्निकांड की जांच रिपोर्ट आ जाएगी.
  • पूरी संवेदनशीलता के साथ कार्रवाई होगी.

आर्किटेक का लाइसेंस रद करने की सिफारिश

  • डीजी फायर सर्विस ने सीएम को भेजे पत्र में कहा है कि अस्पताल, स्कूल जैसे संवेदनशील भवनों के निर्माण में हो रही लापरवाही हादसों की वजह बन रही है।
  • भवनों में सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम किए बिना निर्माण कराने वाली कार्यदायी संस्थाओं के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।
  • भवन का नक्शा बनाने और उसे अप्रूव करने वाले आर्किटेक का लाइसेंस रद करने की कार्रवाई भी होनी चाहिए।
  • एअर हैंडलिंग यूनिट की पॉवर सप्लाई नहीं बंद हुई
  • ट्रॉमा सेंटर में लगी आग की जांच कर रहे डायरेक्टर फायर सर्विस ने बताया कि हर फ्लोर की फॉल्स सीलिंग बिना पार्टिशन के लगा दी गई है।
  • डिजास्टर वार्ड के जिस स्टोर में आग लगी उससे करीब पांच मीटर दूर ही एअर हैंडलिंग यूनिट थी।
  • बंद वॉर्ड में आग लगने पर फॉल्स सीलिंग के रास्ते धुआं पूरे फ्लोर में फैल गया।
  • इस दौरान एअर हैंडलिंग यूनिट की पॉवर सप्लाई बंद नहीं हुई।
  • इसकी वजह से डक्ट के रास्ते धुआं तीसरी, चौथी और पांचवीं मंजिल तक पहुंच गया।
  • डिजास्टर वॉर्ड के बाहर लॉबी से सीढ़ी, लिफ्ट और रैंप के बीच कोई दरवाजा नहीं लगाया गया था।
  • इसकी वजह से सीढ़ियों और रैंप पर भी धुआं भर गया।
  • डीजी फायर सर्विस ने बताया कि ट्रॉमा सेंटर के पिछले हिस्से में सेटबैक छह मीटर से कम हैं।
  • यहां बने साइकल स्टैंड को तोड़कर सेटबैक बढ़ाना होगा जिससे भविष्य में कभी हादसा होने पर दमकल के लिए रास्ता मिल सके।
  • बिल्डिंग में केवल दो जगह सीढ़ियां बनी हैं।
  • इमरजेंसी (fire department noc) एग्जिट को कबाड़ रखकर बंद कर दिया गया है।
UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

फिर गोमती में मिला युवक का शव, हत्या की आशंका!

Sudhir Kumar

चन्द्रशेखर पर ज्यादती हुई तो परिणाम अच्छे नहीं होंगे- इमरान मसूद

Divyang Dixit

26 जून से यूपी के 74 बस अड‌्डों पर फ्री वाई-फाई!

Sudhir Kumar