Home » RTI: यूपी की जेलों के भीतर 5 साल में 2002 की मौत
Uttar Pradesh Uttar Pradesh Live

RTI: यूपी की जेलों के भीतर 5 साल में 2002 की मौत

prisoners died in jail

उत्तर प्रदेश की जेलें कैदियों की कब्रगाह बनती दिखाई दे रही हैं। ये हम नहीं बल्कि एक आरटीआई में ऐसा चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। यूपी के आगरा जिले के आरटीआई एक्टिविस्ट नरेश पारस द्वारा मांगी गई सूचना के अनुसार वर्ष 2012 से जुलाई 2017 के बीच जेल की चहारदीवारी के भीतर दो हजार से अधिक कैदियों-बंदियों की जिंदगी का सूर्यास्त हो गया। हालांकि ये बड़ा सोचनीय विषय है लेकिन सत्य भी है। (prisoners deaths)

वीडियो: कासगंज रेल लाइन पर ट्रेनों का संचालन पूरी तरह ठप

  • जहां एक ओर यूपी की योगी सरकार लगातार जेलों के सुधार की बात कर रही है।
  • इतना ही नहीं जेलों में गौशाला खोले जाने की बात तक की जा रही है।
  • यहां तक की जेलों को हाईटेक करने की योजनाएं बना रही है।
  • वहीं उत्तर प्रदेश की जेलें कैदियों की कब्रगाह बनती जा रही हैं।

वीडियो: नगर निगम में गुटखा खाकर आने वालों का प्रवेश बंद

ये हैं कुछ जेल में मरने वालों के आकंड़े

  • 24 मई 2013 को हरदोई जिला जेल में वंदना के छह महीने के पुत्र प्रिंस की मौत हुई।
  • 18 अक्टूबर 2014 को मथुरा जिला जेल में जुमराती के नवजात बच्चे की मौत हो गई।
  • 18 सिंतबर 2014 को कानपुर देहात जेल में रामकली के नवजात पुत्र की मौत हो गई।
  • 21 सिंतबर 2014 वाराणसी जेल में रेखा के डेढ़ महीने के बेटे ने दम तोड़ दिया।
  • 10 मई 2013 को बुलंदशहर जिला में निरुद्ध 106 साल की रामकेली पत्नी स्वरूप की मौत हो गई।
  • 02 दिसंबर 2016 को बस्ती जिला जेल में 100 साल के बंदी वासुदेव ने दम तोड़ा।
  • इसके अलावा सीतापुर जेल में कुंदना पत्नी सुरजाना के एक साल के बेटे अनमोल ने इस साल दम तोड़ दिया। (prisoners deaths)
  • जेलों में मरने वालों में नवजात बच्चे भी शामिल हैं।

वीडियो: SC के जज को लिखी चिट्ठी लिख कक्षा 3 की बच्ची ने पटाखे छुड़ाने की मांगी इजाज़त

जेलों में क्षमता से अधिक कैदी बंद

  • जेलों के भीतर निरुद्ध कैदियों की मौतों का कारण जेलों में क्षमता से अधिक कैदियों का होना भी है।
  • आगरा जिला जेल की क्षमता 1015 कैदियों की है, लेकिन यहां 2600 से ज्यादा कैदी निरुद्ध हैं।
  • केंद्रीय कारागार में 1110 कैदियों की क्षमता है लेकिन यहां 1900 से ज्यादा बंदी हैं।
  • जेलों में कैदियों की होने वाली मौतों में बड़ी संख्या बुजुर्गों की हैं।
  • हालांकि इनमें ज्यादातर टीबी, दमा और उच्च रक्तचाप से पीड़ित थे।
  • बैरकों में क्षमता से अधिक कैदियों के चलते टीबी जैसी बीमारी तेजी से फैलती है।
  • खुले में न रहने के कारण कैदियों की रोगों से लड़ने की प्रतिरोधक क्षमता भी कम हो जाती है।
  • वहीं दूसरी ओर जेलों में सुधार के लिए गठित मुल्ला कमेटी की सिफारिशें 25 साल बाद भी धूल फांक रही हैं।
  • इसमें जेल नियमावली में संशोधन के साथ ही कैदियों के पुर्नवास से संबंधित सिफारिशें की गई थीं, जिन्हें आज तक लागू नहीं किया गया। (prisoners deaths)
  • ऐसे में जेल को कैसे हाईटेक बनाया जा सकता है ये गौर करने वाली बात है।

लखनऊ: पुरानी रंजिश में आधा दर्जन दबंगो ने बुजुर्ग सहित 4 को पीटा

किस साल हुईं कितनी मौतें

  • आरटीआई के तहत दी गई सूचना के अनुसार वर्ष 2012 में 360 मौते हुई हैं।
  • वर्ष 2013 में 358 मौते हुई हैं।
  • वर्ष 2014 में 339 मौते हुई हैं।
  • वर्ष 2015 में 359 मौते हुई हैं।
  • वर्ष 2016 में 412 मौते हुई हैं।
  • वर्ष 2017 में 188 मौते हुई हैं।
  • ये आंकड़ा वर्ष 2012 से जुलाई 2017 के बीच हुई मौतों का है। (prisoners deaths)
  • सूचना का अधिकार अधिनियम के तहत मांगी गई सूचना के तहत जेलों में प्रदेश की 62 जिला जेल, 5 सेंट्रल जेल और 3 विशेष कारागार हैं।

सपा सरकार के पूर्व राज्यमंत्री और तत्कालीन एसडीएम सहित 41 लोगों पर मुकदमा दर्ज

RTI prisoners deaths in uttar pradesh

RTI prisoners deaths in uttar pradesh

RTI prisoners deaths in uttar pradesh

RTI prisoners deaths in uttar pradesh

RTI prisoners deaths in uttar pradesh

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

दलित शिक्षकों ने बेसिक शिक्षा निदेशक से की वार्ता, सौंपा ज्ञापन!

Sudhir Kumar

कानपुर: सीबीआई ने घूस लेते प्रधानाचार्या के पति और शिक्षक को रंगे हाथ पकड़ा!

Kumar

बर्खास्त युवा नेताओं पर ‘मुलायम’ सपा प्रमुख, उदयवीर पर अब भी ‘सख्त’!

Divyang Dixit