Home » तीन माह बाद भी नहीं सुलझी IAS अनुराग तिवारी की मौत की गुत्थी
Murder Uttar Pradesh Uttar Pradesh Live

तीन माह बाद भी नहीं सुलझी IAS अनुराग तिवारी की मौत की गुत्थी

ias anurag tiwari

कर्नाटक कैडर के आईएएस अधिकारी अनुराग तिवारी की मौत (murder mystery) के मामले की जांच कर रही सीबीआई टीम इन दिनों बेंगलुरु में डेरा जमाए है। अब तक सीबीआई को किसी घोटाले से जुड़ा ऐसा कोई दस्तावेज नहीं मिल सका है, जिसकी जांच से अनुराग तिवारी जुड़े रहे हों।

IAS अनुराग मामला: कर्नाटक में कनेक्शन ढूंढेगी सीबीआई!

  • सीबीआई के हाथ कन्नड़ भाषा के कुछ दस्तावेज हाथ लगे हैं, जिनका हिंदी में अनुवाद कराया जा रहा है। ताकि उनकी भी पड़ताल कराई जा सके।
  • लंबी छानबीन के बाद भी अभी तक यह तय नहीं हो सका है कि आईएएस अनुराग की मौत हदसा थी अथवा हत्या।
  • लिहाजा सीबीआई टीम बेंगलुरु में कई बिंदुओं पर गहनता से छानबीन कर रही है।
  • उसका खास मकसद यह पता करना है कि अनुराग कहीं किसी बड़े घोटाले की जांच से तो नहीं जुड़े थे। साथ ही यह भी पता करने का प्रयास किया जा रहा है कि अनुराग किन वजहों से परेशान थे।
  • सीबीआई टीम ने बेंगलुरु में फूड एवं सिविल सप्लाई विभाग के कई अधिकारियों व कर्मचारियों से पूछताछ की है।

IAS अनुराग तिवारी के परिजन करेंगे गृहमंत्री से मुलाकात!

  • 17 मई की सुबह मिला था शव
  • सूत्रों के अनुसार सीबीआई ने अनुराग के कुछ खास दोस्तों को भी बेंगलुरु बुलाया है।
  • ताकि उनकी मौजूदगी में अनुराग के घर में छानबीन की जा सके।
  • साथ ही उनसे अनुराग के निजी जीवन से जुड़े कुछ बिंदुओं पर पूछताछ की जा सके।
  • खासकर सीबीआई उन दस्तावेजों की पड़ताल कर रही रही है, जो किसी विभागीय जांच से जुड़े हों।
  • सीबीआई ने कुछ दस्तावेज अपने कब्जे में भी लिए हैं।

IAS अनुराग तिवारी केस: ड्राईवर-महिला से फिर पूछताछ करेगी CBI!

  • हालांकि अब तक अनुराग (murder mystery) के किसी बड़े घोटाले की जांच से जुड़े होने की तस्दीक नहीं हो सकी है।
  • ऐसे में सीबीआई इस बिंदु पर भी पड़ताल करेगी कि आखिर अनुराग की हत्या के पीछे किसी घोटाले से जुड़ी जांच की बात किन परिस्थितियों में कही गई थी।
  • घरवालों को किन कारणों से ऐसा अंदेशा हुआ था।
  • दूसरी ओर अनुराग की विसरा जांच रिपोर्ट भी अभी सीबीआइ को हासिल नहीं हो सकी है।
  • गौरतलब है कि अनुराग तिवारी का शव 17 मई की सुबह मीराबाई मार्ग स्थित राज्य अतिथि गृह के पास बीच सड़क औंधे मुंह पड़ा मिला था।

IAS अनुराग तिवारी की मौत: हुआ सनसनीखेज खुलासा!

  • मामले में घरवालों ने हजरतगंज कोतवाली में हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई थी।
  • एसएसपी दीपक कुमार ने आईएएस की मौत की जांच के लिए एसआइटी गठित की थी।
  • बाद में मामले की जांच सीबीआइ को स्थानान्तरित कर दी गई थी।
  • 17 अगस्त को घटना के तीन माह पूरे हो जाएंगे, लेकिन (murder mystery) अब तक आईएएस की मौत का रहस्य बरक़रार है।

तो क्या IAS अनुराग की मौत रात में ही हुई? सवाल कई, मगर जवाब लापता!

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

यादव परिवार के पैतृक गाँव पर ही मेहरबान रही प्रदेश की समाजवादी सरकार !

Shashank

राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान के तहत 52 करोड़ की पहली किश्त जारी

Kamal Tiwari

Photos: मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की दुर्लभ तस्वीरें, जिन्हें आज तक नहीं देखा गया!

Kumar