Home » कन्या भ्रूण हत्या की सूचना वाले ‘मुखबिर’ को 2 लाख!
Uttar Pradesh Uttar Pradesh Live

कन्या भ्रूण हत्या की सूचना वाले ‘मुखबिर’ को 2 लाख!

CM yogi

प्रदेश सरकार अगले महीने से बेटों के हाथों मोक्ष पाने की चाहत में कोख में ही बेटियों की हत्या करने वालों को पकड़ने के लिए मुखबिरों (informer plan mukhbir) को सक्रिय करने जा रही है। यह मुखबिर लिंग की पहचान व अवैध गर्भपात कराने वाले व्यक्तियों और संस्थाओं की गोपनीय सूचना देंगे। इस सूचना पर एक गर्भवती महिला और उसके सहायक को ग्राहक बना कर भेजा जाएगा। यह टीम लिंग चयन के बदले जैसे ही केमिकल लगे करेंसी नोटों से भुगतान करेगी, स्वास्थ्य विभाग की टीम छापा मार कर सुबूत के साथ दोषियों को रंगे हाथों गिरफ्तार कर लेगी।

ये भी पढ़ें- आम महोत्सव का आज सीएम योगी करेंगे शुभारम्भ!

लिंगानुपात को बचाने के लिए शुरू होगी योजना

  • प्रदेश में बिगड़ते लिंगानुपात को बचाने के लिए अगले महीने से यह योजना शुरू हो जाएगी।
  • प्रमुख सचिव स्वास्थ्य प्रशांत त्रिवेदी ने शुक्रवार को महानिदेशक परिवार कल्याण और सभी जिलाधिकारियों को इसके निर्देश भेज दिए हैं।
  • राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की वित्तीय सहायता से शुरू की जा रही मुखबिर योजना के तहत चलाए जाने वाले डिकॉय ऑपरेशन में मुखबिर की पहचान गुप्त रखी जाएगी लेकिन, मुखबिर की सूचनाएं लगातार गलत निकलने पर उसे व्यावसायिक मानते हुए काली सूची में डाल दिया जाएगा।
  • ऑपरेशन के लिए मिथ्या ग्राहक के तौर पर चुनी गई गर्भवती महिला के सहायक को मामले में स्वतंत्र गवाह की भूमिका भी अदा करनी होगी।

ये भी पढ़ें- नगर निगम का प्रचार एजेंसियों पर 52 करोड़ रुपये बाकी!

मुखबिर व मिथ्या ग्राहक ऐसे बनेंगे

  • राज्य या केंद्र सरकार की सेवाओं में कार्यरत व्यक्तियों या गर्भवती महिलाओं को मुखबिर, मिथ्या ग्राहक या सहायक के तौर पर चुना जा सकेगा।
  • मिथ्या ग्राहक बनने के लिए गर्भवती महिला को शपथ पत्र देना होगा।
  • मुखबिर, मिथ्या ग्राहक या सहायक बनने के लिए राज्य स्तर पर सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, अध्यक्ष राज्य समुचित प्राधिकरण या पीसीपीएनडीटी अधिनियम के राज्य नोडल अधिकारी से और जिला स्तर पर जिलाधिकारी या मुख्य चिकित्सा अधिकारी से संपर्क किया जा सकता है।

ये भी पढ़ें- रेस्क्यू वैन का आज मुख्यमंत्री योगी करेंगे शुभारम्भ!

  • योजना के क्रियान्वयन के लिए राज्य स्तर पर राज्य समुचित प्राधिकरण की अध्यक्षता में डिकॉय समिति का गठन किया जाएगा।
  • जिला स्तर पर गठित होने वाली समिति में जिलाधिकारी को अध्यक्ष, मुख्य चिकित्साधिकारी को सदस्य सचिव और पीसीपीएनडीटी अधिनियम के जिला नोडल अधिकारी व जिला सलाहकार समिति के अध्यक्ष शामिल होंगे।

ये भी पढ़ें- चिड़िया घर में नई टिकट दर, ईद का मजा होगा दोगुना!

हर केस पर दिए जायेंगे दो लाख

  • सफल ऑपरेशन पर मुखबिर को 60 हजार, मिथ्या ग्राहक को एक लाख और उसके सहायक को 40 हजार रुपये का पुरस्कार देने की व्यवस्था की गई है।
  • हालांकि यह रकम चरणबद्ध प्रक्रिया के तहत मिलेगी।
  • यानी सूचना सही पाए जाने और जांच में साक्ष्य मिलने पर मुखबिर को 20 हजार, गर्भवती महिला को 30 हजार और सहायक को 10 हजार रुपये मिलेंगे।
  • न्यायालय में मामले के दौरान हाजिर होने पर दूसरी किस्त के तौर पर भी इतनी रकम मिलेगी।
  • न्यायालय से सजा सुनाए जाने के बाद तीसरी व अंतिम किस्त को तौर पर मुखबिर को 20 हजार, गर्भवती महिला को 40 हजार और सहायक को 20 हजार रुपये दिए जाएंगे।

ये भी पढ़ें- गर्भवती महिला को दबंगो ने लात-घूंसो से पीटा!

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

जेल में गायत्री से मिल कर मुलायम सिंह ने दिया ‘बड़ा बयान’!

Shashank

30 सितम्बर से शुरू होगी गोरखपुर-दिल्ली उड़ान सेवा!

Divyang Dixit

मंत्री के काफिले से रौंदे बच्चे के परिवार की अखिलेश ने की मदद

Shashank