Home » पुलिस को चकमा देकर 7.5 करोड़ के साथ पकड़ा गया अतुल भाटिया थाने से गायब!
Uttar Pradesh Uttar Pradesh Live

पुलिस को चकमा देकर 7.5 करोड़ के साथ पकड़ा गया अतुल भाटिया थाने से गायब!

lucknow police recovered 7.5 crore rupees

यूपी में वैसे तो कई बार खूंखार अपराधी भी पुलिस की कस्टडी से भागने के किस्से आप ने सुने होंगे। लेकिन राजधानी की हसनगंज पुलिस ने जिस अतुल भाटिया को पौंटी चड्ढा ग्रुप की 7.5 करोड़ रुपये की नई करेंसी के साथ पकड़ा था वह पुलिस को गच्चा देकर फरार हो गया।

  • हालांकि इस मामले में हसनगंज पुलिस इनकम टैक्स विभाग को दोषी बता रही है।
  • जबकि इनकम टैक्स अधिकारियों का कहना है कि उन्होंने बयान दर्ज करके पुलिस को सौंप दिया था पुलिस के पास से भाटिया कहां गया उन्हें जानकारी नहीं।
  • अतुल भाटिया कहां गया इसके बारे में किसी को जानकारी नहीं है।
  • वहीं सूत्रों का कहना है भाटिया ने पुलिस से साठगांठ कर ली थी इसके बाद वह पुलिस कस्टडी से गायब हुआ है।

यह था पूरा मामला

  • राजधानी के हसनगंज इलाके में शनिवार सुबह डालीगंज पुल पर पुलिस ने चेकिंग के दौरान दो लग्जरी कारों से ले जाई जा रही पौंटी चड्ढा ग्रुप की 7.5 करोड़ रुपये की नई करेंसी बरामद कर तीन लोगों को हिरासत में लिया था।
  • गाड़ियों की जांच के दौरान सात बंद गत्ते की पेटियां बरामद हुई, जिसे पूरी तरह सील कर दिया गया था। यह रकम उत्तराखंड के हल्द्धानी ले जाई जा रही थी।
  • आयकर अधिकारियों के मुताबिक, पकड़े गये कर्मचारियों में राजेश, अवधेश और एसोसिएशन का प्रमुख अतुल भाटिया था।
  • आयकर अधिकारियों ने इस रकम को कालाधन घोषित कर दिया।
  • अतुल भाटिया से शिवशक्ति ट्रेडर्स के सीनियर मैनेजर के तौर पूछताछ की गई।

क्या कहते हैं जिम्मेदार

  • इस संबंध में थाना प्रभारी हसनगंज ने बताया कि सभी को हिरासत लेकर पूरी रकम के साथ आयकर विभाग के अधिकारियों को सौंप दिया गया था।
  • अब वहां से अतुल कहां गया इसकी जानकारी उन्हें नहीं है।
  • वहीं आयकर के उपनिदेशक (जांच) प्रमोद कुमार ने बातचीत के दौरान बताया कि पकड़ी गई रकम सरकार के खाते में जमा कर दी गई है।
  • टीम ने शिवशक्ति ट्रेडर्स के सहारागंज के सामने स्थित कार्यालय में सर्वे किया।
  • वहीं शनिवार रात तक अतुल भाटिया उनकी कस्टडी में था उससे बयान लेने के बाद पुलिस के सुपुर्द कर दिया गया था।
  • पुलिस की कस्टडी से अतुल कहां गया इसकी जानकारी उन्हें नहीं है।
  • क्योंकि आयकर विभाग की जो कार्रवाई थी उसे पूरा करने के बाद ही सभी को पुलिस को सौंपा गया था।
  • आयकर के उपनिदेशक (जांच) जयनाथ वर्मा के अनुसार कई कारोबारियों की एसोसिएशन या सिंडीकेट द्वारा शराब कंपनी का यह दफ्तर चलाए जाने की जानकारी मिली है इसकी भी जांच की जा रही है।
UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

शामली में आज सुरेश राणा ने किया नामांकन!

Mohammad Zahid

अखिलेश यादव ने दिया बयान, ‘कुत्तों से सावधान रहें’!

Divyang Dixit

भ्रष्ट प्रोजेक्ट मैनेजर के बनवाये भवन का लोकार्पण करेंगे पीएम!

Kamal Tiwari