Home » एड्स पीड़ित महिला और उसके 2 बच्चों को सुनाया गांव छोड़ने का फरमान!
Uttar Pradesh Uttar Pradesh Live

एड्स पीड़ित महिला और उसके 2 बच्चों को सुनाया गांव छोड़ने का फरमान!

AIDS victim in meerut

देश भर में एड्स के प्रति लोगों को जागरूक करने का अभियान यूपी के मेरठ जिले में खोखला साबित हो रहा है। यहां फैली अज्ञानता के चलते एक एड्स पीड़ित महिला और उसके दो बच्चों को गांव छोड़कर चले जाने का फरमान सुना दिया गया।

गांव ना छोड़ने पर दे रहे हत्या की धमकी

  • जानकारी के मुताबिक, सरधना थाना क्षेत्र के सलावा गांव में रह रही एड्स पीड़ित महिला की शादी करीब 5 साल पहले यहां रहने वाले एक ट्रक ड्राईवर से हुई।
  • महिला मूलरूप से हरियाणा की रहने वाली है।
  • महिला का आरोप है कि शादी से पहले ही उसके पति को एड्स था लेकिन उसने बीमारी छिपाकर शादी कर ली।
  • कुछ समय बाद महिला का पति बीमार रहने लगा, तो उसने ट्रक की ड्राईवरी छोड़कर गांव में ही टेंपो चलाना शुरू कर दिया।

घरवालों ने बताया टीबी की बीमारी

  • महिला के अनुसार, पति लगातार बीमार रहते थे उसने इस बारे में घरवालों से पूछा तो टीबी बताई गई।
  • कुछ समय पूर्व उसके हाथ पति के इलाज के कुछ कागजात लगे, इससे बाद पति को एड्स होने की जानकारी मिली।
  • महिला ने इसके बाद अपना और दोनों बच्चों (3 साल और डेढ़ साल) की भी जांच कराई।
  • जांच में महिला और उसके दोनों बच्चों को एड्स होने की पुष्टि हुई।
  • महिला ने इस बात को लेकर हंगामा किया और ससुराल पक्ष पर जीवन बर्बाद करने का आरोप लगाया।

गांव छोड़कर जाने का सुनाया फरमान

  • महिला का आरोप है कि उसे ससुरालियों ने गांव छोड़कर जाने का फरमान सुना दिया है।
  • गांव नहीं छोड़ने पर हत्या की धमकी दी जा रही है।
  • उसे ना तो इलाज के लिए पैसा दिया जा रहा है और ना ही पति से मिलने दिया जा रहा है।
  • उसके पति की संपत्ति को ससुराल पक्ष कब्जाना चाहता है।
  • इस बात की शिकायत पीड़िता ने सीओ सरधना और सरधना थाने में की।
  • हालांकि पुलिस अधिकारियों का कहना है कि जांच में तथ्य सही पाए गए तो महिला की मदद कर कार्रवाई की जायेगी।

एड्स के प्रति रहें जागरूक, कुछ मुख्य बातें

  • एड्स किसी के साथ शारीरिक संबंध बनाने से नहीं फैलता। यह एक बीमारी है जो शरीर में खून, स्‍पर्म, सैलाइवा, संक्रमित रक्त चढ़ाने से फैल सकता है।
  • एचआईवी/एड्स छूने से, पसीने से, आंसुओं से, साथ बैठने से, खाने से नहीं फैलता। एड्स एक संक्रामक बीमारी नहीं है, यह संक्रमित रक्‍त चढ़ाने, संक्रमित सुई के इस्‍तेमाल, असुरक्षित यौन संबंध बनाने और मां के दूध से फैलता सकता है।
  • एचआईवी/एड्स से पीड़ित कोई भी व्यक्ति कई सालों तक सामान्‍य जीवन जी सकता है। कुछ लोगों में एड्स होने के कई सालों तक उसके लक्षण दिखायी नहीं देते हैं। शरीर पर संक्रमित सुई से टैटू या बॉडी पियर्सरिंग करवाने से भी एड्स हो सकता है।
  • एचआईवी और एड्स दोनों अलग-अलग बीमारी हैं इनमें में अंतर जरूर समझें। एड्स पीड़ित मां के गर्भ में पल रहे बच्चे को भी यह बीमारी हो सकती है। एड्स के प्रति जागरूकता जरुरी है यह छूने से नहीं फैलता।
UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

सपा के प्रचार वाहन से ये 4 मुख्य नाम हुए गायब!

Divyang Dixit

वीडियो: आंधी से यमुना में टक्कर के बाद पलटी थी नाव, लापता लोगों की तलाश जारी!

Sudhir Kumar

उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी की सुरक्षा में हुआ था खिलवाड़, RTI में हुआ खुलासा!

Sudhir Kumar