Home » उत्तर प्रदेश » स्वरचित दुख भरी कविता में झलका प्रसपा अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव का दुख

स्वरचित दुख भरी कविता में झलका प्रसपा अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव का दुख

Shivpal Singh Yadav's Grief glance

स्वरचित दुख भरी कविता में झलका प्रसपा अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव का दुख

इटावा। किसानो के मसीहा चौधरी चरण सिंह की जयंती पर आयोजित समारोह में  प्रसपा अध्यक्ष शिवपाल सिंगहा यादव ने स्वरचित एक कविता पढी “कैसे पढ़ा कैसे चला क्या क्या किया कैसे किया यह सबको पता है। किसी से क्या कहूं मैं होकर बड़ा शहर में चला और ऐसे ढाला वैसे ढला दौर था काला घना है मैं तब भी न डरा धूप में बरसात में काली अंधेरी रात में संग-संग चला दुश्मन से लड़ा हूं। आज भी संग उनके खड़ा अब और क्या करूं मैं वो मंजर याद है कुचला भी गया रौंदा भी गया क्या अपराध था यही अपराध था कि मैं उनके साथ खड़ा और क्या क्या सहू मैं क्या चुप रहूं।

  • उनकी इस कविता में उनका दुख भर हुआ नजर आया।
देश के अर्थशास्त्री थे चौधरी चरण सिंह: शिवपाल यादव

प्रगतिवादी समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि चौधरी चरण सिंह देश के अर्थशास्त्री थे। उन्होंने आजादी की लड़ाई के लिए संघर्ष भी किया जेल भी गए। उन्हें कई बार फरार भी होना पड़ा। उन्होंने विधानसभा में मंत्री, मुख्यमंत्री और वित्तमंत्री के रूप में किसानों का सदैव ख्याल रखा इसीलिए वे किसान नेता के रूप में हमेशा याद किए जाते हैं। यादव ने कहा कि हमें चौधरी साहब के आदर्शों पर चलना चाहिए।

  • उन्हें प्रेरणा मानकर जीवन जीना है।
  • चौधरी साहब अनुशासनशील थे। उनकी आवाज पर देश का किसान निकल पड़ता था।
इस समय व्याप्त है देश और प्रदेश में सबसे ज्यादा बेईमानी व नौकरशाह: शिवपाल यादव

उन्होंने कहा कि उनकी विरासत को नेता जी (मुलायम) ने भी बहुत बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि सब जानते हैं कि किसानों को समर्थन मूल्य सरकार निश्चित करती उतना भी नहीं मिल पाता है।  इस मौके पर प्रसपा की सदस्यता ग्रहण कर रही देश की नामचीन कवियत्री अनामिका अंबर जैन ने मेरठ से चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर की। जिस पर यादव ने अपनी सहमति प्रदान करते हुए साफ किया कि वे उन्हें चुनाव भी लड़ाएंगे और पार्टी में पद भी प्रदान करेंगे।

  • आज देश और प्रदेश में सबसे ज्यादा बेईमानी नौकरशाह ही करते है।
  • सरकार और नौकरशाही अगर चाहे तो किसानों को समर्थन मूल्य से ज्यादा कीमत मिल सकती है।
  • कई मंत्री भी बेईमान हुए है।

 

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Reporter : UP ORG DESK

Related posts

शिक्षा सुधार के क्षेत्र में मिसाल कायम कर रही भाजपा सरकार-डा0 चन्द्रमोहन

Shivani Awasthi

उपचुनाव: 5 में 4 ब्लॉक प्रमुख सीट जीती बीजेपी, सपा को मिली सिर्फ 1

Shashank

Weddings in Prayagraj Banned Between January – March by Yogi Adityanath government.

UPORG Desk