council meeting councilors worried to face public no work within 8 month
August, 17 2018 10:52
फोटो गैलरी वीडियो

पार्षदों की चिंता: आखिर जनता को कैसे मुंह दिखाएँ, नहीं हुआ 8 महीने से काम

By: Shivani Awasthi

Published on: Fri 10 Aug 2018 02:15 PM

Uttar Pradesh News Portal : पार्षदों की चिंता: आखिर जनता को कैसे मुंह दिखाएँ, नहीं हुआ 8 महीने से काम

नगर निगम सदन प्रशासन को घेरने और वार्ड की समस्याओं के चक्कर में कई महत्वपूर्ण नीतिगत मसलों को लेकर बीते दिन पार्षदों की सर्वदलीय बैठक हुई. लालबाग मुख्यालय के सभागार में आयोजित बैठक में नगर निगम उपाध्यक्ष अरुण तिवारी, बीजेपी पार्षद दल के नेता रामकृष्ण यादव, विरोधी दल के पार्षद नेता यावर हुसैन रेशू, वरिष्ठ बीजेपी नेता रमेश कपूर बाबा, वरिष्ठ सपा पार्षद शफीकुर्रहमान, कार्यकारिणी सदस्य राजकुमार सिंह, कार्यकारिणी सदस्य गिरीश मिश्रा, कांग्रेस पार्षद ममता चौधरी और अमित चौधरी समेत बड़ी संख्या में पार्षद शामिल हुए.

नहीं हुआ 8 महीने से पार्षदों के क्षेत्र में काम:

इस दौरान विरोधी पार्षद नेता यावर हुसैन रेशू ने ईको ग्रीन और ईईएसएल की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए सदन में जवाब लेने की बात कही। इस पर सभी से सहमति जताई । कांग्रेस पार्षद अमित चौधरी ने कहा कि पिछले आठ महीनों से कोई काम ना होने से नए पार्षदों के लिए क्षेत्र में निकलना मुश्किल हो गया है।

council meeting councilors worried to face public no work within 8 month

बीजेपी पार्षद दल के नेता रामकृष्ण यादव ने उनकी समस्या पर कहा कि अफसर कई मुद्दों पर गुमराह करने का काम कर रहे हैं। सदन में हंगामा होने पर अधिकारी जवाब देने से बच जाते हैं। ऐसे में हंगामे से बचना जरूरी है।

कार्यकारिणी सदस्य गिरीश मिश्रा ने सुझाव दिया कि सभी दलों के वरिष्ठ नेता अपने दल के पार्षदों को सदन में अनुशासित रखने में मदद करें, ताकि अफसरों से अहम मुद्दों पर जवाब लिया जा सके।

बैठक के दौरान पार्षदों में अपने क्षेत्रों में काम न हो पाने की समस्या का मुद्दा उठाया. इस दौरान भाजपा पार्षद रमेश कपूर बाबा और पार्षद दल के उपनेता राम कृष्ण सहित कई अन्य पार्षदों ने कहा कि अब सदन में 15 लाख के पुराने कोटे पर कोई बार नहीं होगी.

15 लाख रुपये के पुराने कोटे पर चर्चा:

इस पर कांग्रेस पार्षद अमित चौधरी सहित ज्यादातर ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि सदन में 15 लाख रुपये का पुराना कोटा पास होने की बात तो हो गयी लेकिन काम अभी तक कुछ नहीं हुआ. उन्होंने कहा कि उनके क्षेत्र में काम नहीं हो पा रहा है, जिसके कारण वे क्षेत्र वासियों से मिलने में शर्म महसूस करते हैं. क्योंकि लोगों को तो यहीं लगता है कि पार्षद काम नहीं करवा रहे. जबकि

कार्यकारिणी सदस्य गिरीश मिश्रा ने बताया कि पिछले वित्तीय वर्ष का बजट मार्च तक ही इस्तेमाल करना था, लेकिन जानकारी के अभाव में नए पार्षद ऐसा नहीं कर सके। इसपर बीजेपी पार्षद रामकृष्ण ने बताया कि बजट ही मार्च में मिला था, ऐसे में नए पार्षद कैसे इस्तेमाल करते। हालांकि तय हुआ कि इस मुद्दे पर सदन में बहस करना बेकार है, क्योंकि अक्टूबर में मिलने वाले बजट से ही काम हो सकेगा।

इसके अलावा पार्षदों ने विकास कार्यों की मंद गति, निजी कंपनी इको ग्रीन की काम में लापरवाही , एलईडी लाइटों की कमी से विकट समस्या को लेकर भी सदन में प्रशासन को घेरने के लिए पार्षदों ने एक जुटता दिखाई. वहीं इस दौरान कई पार्षद आपस में ही भीड़ गये. जिसके बाद तय हुआ कि हर पार्षद एजेंडा के चर्चा से पहले सदन में 2 मिनट बोलेगा और प्रशासन से पूछे गये सवाल का उत्तर लेगा.

सभी पार्षदों को दो मिनट:

सदन में सभी पार्षदों को अपने वॉर्ड की समस्या बताने के लिए दो दो मिनट देने का फैसला हुआ। इसके लिए मेयर से अनुरोध किया जाएगा। नगर निगम उपाध्यक्ष अरुण तिवारी के मुताबिक वॉर्ड की समस्या बताते समय पार्षद को कोई बीच में नहीं टोकेगा। विरोधी दल के पार्षद नेता यावर हुसैन रेशू ने सुझाव दिया कि सदन के बाद हर वॉर्ड से जुड़े अधिकारी पूछे गए सवालों का जवाब भी देंगे।

खुद से सिल्ट उठाने की दी चेतावनी:

मौलवीगंज के पार्षद मुकेश सिंह मोंटी ने अपनि समस्या बताते हुए कहा कि उनके इलाके में नाले की सिल्ट 15 दिन से पड़ी हुई है. कई बार शिकायत की है, महापौर संयुक्ता भाटिया भी कह चुकी हैं, बावजूद इसके अब तक सिल्ट नहीं उठी हैं. उन्होंने चेताया कि अगर एक दिन में सिल्ट नहीं उठी तो वे खुद ठेलिया लेकर जायेंगे और सिल्ट उठाएंगे.

वहीं एलईडी लाइट की समस्या भी उठाई गयी. एक पार्षद ने बोला कि मोहल्लों में एक भी लाइट नहीं जलती है, ऐसा ही रहा तो लोग मौहल्लें में घुसने तक नहीं देंगे.

पार्षदों में दिखी एक जुटता:

पार्षदों की सर्वदलीय बैठक में गुरुवार को सपा, बसपा, कांग्रेस और निर्दल पार्षदों के साथ कई बीजेपी पार्षदों ने तय किया कि 11 अगस्त को होने वाली सदन की बैठक में जनहित के मुद्दों को हंगामे की भेंट नहीं चढ़ने दिया जाएगा। सभी दलों के प्रमुख और वरिष्ठ नेताओं ने लाइट, सड़क, साफ सफाई और विकास कार्यों के सवाल पर विरोध की जगह सहयोग करने का फैसला लिया है। तय हुआ कि अफसरों की तरफ से सवाल का जवाब न मिलने तक पार्षद अपनी बारी का इंतजार करेंगे.

.........................................................

Web Title : council meeting councilors worried to face public no work within 8 month
Get all Uttar Pradesh News  in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment,
technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India
News and more UP news in Hindi
उत्तर प्रदेश की स्थानीय खबरें .  Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट |
(News in Hindi from Uttar Pradesh )