Home » रामपुर लोकसभा क्षेत्र : जानिए, रामपुर ( Rampur ) लोकसभा सीट का इतिहास
Uttar Pradesh Parliamentary Constituencies

रामपुर लोकसभा क्षेत्र : जानिए, रामपुर ( Rampur ) लोकसभा सीट का इतिहास

Rampur

नगर पालिका मुख्यालय रामपुर लोकसभा क्षेत्र जिला उत्तर प्रदेश लोक सभा निर्वाचन क्षेत्रों में सातवां है. यह जिला कई तरह के उद्योग की वजह से जाना जाता है. यहाँ के रामपुर राजा पुस्तकालय में 12,000 से ज्यादा दुर्लभ मनुस्मृतियाँ और मुग़ल लघु चित्रों का संग्रहालय है.

रामपुर जिले का प्रशासनिक मुख्यालय रामपुर में है. रामपुर अपने रामपुरी चाकू की वजह से काफी प्रसिद्ध है.

मध्यकालीन इतिहास के अनुसार रामपुर दिल्ली का भाग हुआ करता और बदौन व सम्भल से बंटा हुआ था. कठेरिया राजपूतों के द्वारा शासन किये जाने के कारण 4 गावों के समूह का नाम कठार था. पहले नवाब ने इसका नाम फैजाबाद रखने का प्रस्ताव रखा था मगर इस नाम से कई और नगर होने के नाते इसका नाम मुस्तफाबाद अलियास रामपुर रखा गया.

1775 में नवाब फैज़ुल्लाह खान ने रामपुर किले की नीवं रखी थी और इस तरह रामपुर नगर का निर्माण हुआ. फैज़ुल्लाह खान से 20 सालों तक यहाँ शासन किया. इनके बाद इनके पुत्र मोहम्मद अली खान ने केवल 24 दिनों तक ही शासन किया क्यूंकि उसके बाद रोहिल्ला पठानों ने इनकी और अगले घोषित नवाब इनके चाचा गुलाम मोहम्मद खान की हत्या कर दी.

नवाब के वंशज स्वतंत्रता और राजसी सत्ता के उन्मूलन के बाद भी नवाब की उपाधि का इस्तेमाल करते रहे पर कभी शासन नहीं किया. रामपुर के कुछ कॉलेजों के नाम नवाबों के नाम पर है.

रामपुर के वर्तमान नाम मात्र के नवाब मोहम्मद काजिम अली खान भारतीय राजनीतिज्ञ हैं. 2003 से नवाब उत्तर प्रदेश के  पर्यटन विकास कारपोरेशन के अध्यक्ष हैं.

रामपुर की कुल आबादी 2,335,398 है जिसमें 52% पुरुष और 48% महिलाएं हैं. यहाँ प्रति 1000 पुरुषों पे 909 महिलाएं हैं. रामपुर की साक्षरता दर केवल 53.34% है जिसमें 61.40% साक्षर पुरुष और 44.44% साक्षर महिलाएं हैं.

Nepal Singh MP
रामपुर के वर्तमान सांसद डॉ नेपाल सिंह हैं

रामपुर के वर्तमान सांसद डॉ नेपाल सिंह हैं

रामपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र के अंतर्गत 5 विधान सभा क्षेत्र आते हैं;

सुआर

चमरुआ

बिलासपुर

रामपुर

मिलक

1952 में लोक सभा के पहले चुनाव हुए भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अबुल कलम आजाद बने. शिक्षा के क्षेत्र में इनके योगदान की कारण इनके जन्म दिवस को देश बहर में राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के रूप में मनाया जाता है. इन्हें पत्रकार के रूप में काफ़ी प्रसिद्धि मिली.

1957 और 1962 के चुनावों में कांग्रेस के राजा सईद अहमद मेहदी जीते और 10 सालों तक रामपुर के सांसद रहे. इसके बाद 2 बार कांग्रेस के ही जुल्फिकार अली खान सांसद रहे. जुल्फिकार अली खान 5 बार इस सीट से जीते.

1977 में इस सीट से भारतीय लोक दल के राजेंद्र कुमार शर्मा विजयी हुए और इनके बाद 3 बार लगातार जुल्फिकार अली खान सांसद बने.

1991 में राजेंद्र कुमार शर्मा फिर से सांसद बने पर इस बार वे भारतीय जनता पार्टी से टिकट ले कर चुनाव लड़े.

1996 में अंतिम नवाब शासक अमिन उद्दीन अहमद खान की पुत्री बेगम नूर बनो कांग्रेस पार्टी की टिकट पे रामपुर से चुनाव लड़ीं और जीती. वे दूसरी बार फिर 1999 के चुनाव में एक साल के अंतर पर जीती.

1998 में भाजपा के नेता मुख़्तार अब्बास नकवी रामपुर की लोकसभा सीट से जीते.

2004 में हुए लोक सभा चुनावों में मशहूर अभिनेत्री और 2 बार की फिल्म फेयर विजेता जाया प्रदा रामपुर सीट जीती और २ बार लगातार यहाँ सांसद रहीं.

रामपुर के वर्तमान सांसद डॉ नेपाल सिंह हैं. नेपाल सिंह माध्यमिक शिक्षा और भाषा मंत्री भी रहे हैं. और अभी वो पिछड़ा वर्ग कल्याण समिति के सदस्य हैं.

लोकसभा वर्ष से वर्ष तक नाम पार्टी
पहली 1952 1957 अबुल कलम आजाद कांग्रेस
दूसरी 1957 1962 राजा सईद अहमद मेहदी कांग्रेस
तीसरी 1962 1967 राजा सईद अहमद मेहदी कांग्रेस
चौथी 1967 1971 जुल्फिकार अली खान कांग्रेस
पांचवी 1971 1977 जुल्फिकार अली खान कांग्रेस
छठवीं 1977 1980 राजेंद्र कुमार शर्मा भारतीय लोक दल
सातवीं 1980 1984 जुल्फिकार अली खान कांग्रेस
आठवीं 1984 1989 जुल्फिकार अली खान कांग्रेस
नौवीं 1989 1991 जुल्फिकार अली खान कांग्रेस
दसवीं 1991 1996 राजेंद्र कुमार शर्मा भाजपा
ग्यारहवीं 1996 1998 बेगम नूर बनो कांग्रेस
बारहवीं 1998 1999 मुख़्तार अब्बास नकवी भाजपा
तेरहवीं 1999 2004 बेगम नूर बनो कांग्रेस
चौदहवीं 2004 2009 जाया प्रदा समाजवादी पार्टी
पंद्रहवीं 2009 2014 जाया प्रदा समाजवादी पार्टी
सोलहवीं 2014 अब तक डॉ नेपाल सिंह भाजपा

 

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

गोंडा लोकसभा क्षेत्र : जानिए, गोंडा लोकसभा सीट का इतिहास

Desk

बस्ती लोकसभा क्षेत्र : जानिए, बस्ती लोकसभा सीट का इतिहास

Desk

उन्नाव लोकसभा क्षेत्र : जानिए, उन्नाव ( Unnao) लोकसभा सीट का इतिहास

Desk