Home » हरदोई लोकसभा क्षेत्र : जानिए, हरदोई ( Hardoi ) लोकसभा सीट का इतिहास
Uttar Pradesh Parliamentary Constituencies

हरदोई लोकसभा क्षेत्र : जानिए, हरदोई ( Hardoi ) लोकसभा सीट का इतिहास

उत्तर प्रदेश का हरदोई लोकसभा क्षेत्र संसदीय क्षेत्र अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है. हरदोई में जिले प्रशासनिक मुख्यालय है. हरदोई में 5 किलोमीटर के सघन जंगल और 12 किलोमीटर के खुले जंगल हैं. हरदोई जिले में 5 तहसील, 19 ब्लाक, 191 न्याय पंचायत, 1101 ग्राम सभा, 1901 बसे हुए राजस्व गाँव हैं. 1990 में बना संदी पक्षी अभयारण्य; जिसे पहले दहर झील कहते थे, बहुत ही महत्वपूर्ण पर्यावरण पर्यटन स्थल है. यहाँ 7 नगर पालिका परिषद और 6 नगर पंचायत भी हैं.

लोगों का मानना है की हरदोई शब्द ‘हरिद्रोही’ का जी बिगड़ा हुआ रूप है. यहाँ राजा हिरन्यकश्यप राज करता था जो किसी भी भगवान को न मान कर खुद को ही भगवान कहता था. भगवान के विरुद्ध होने की वजह से इस जगह का नाम हरिद्रोही था. हिरन्यकश्यप का पुत्र हुआ जो हरी भक्त था, इसे मरने के लिए राजा ने कई प्रयास किये पर  सफल नहीं हुआ. राजा को मरने के लिए भगवान विष्णु ने नरसिम्हा का अवतार लिया और यहीं पर उसको मारा था.

एक और किवदंती के अनुसार हरदोई शब्द हरिद्वय से निकला है, जिसका अर्थ होता है 2 भगवान. क्योंकि उस वक़्त लोग विष्णु के 2 अवतारों की पूज करते थे इसलिए इसे हरिद्वय कहते थे.

कुछ लोगों का कहना है की इस शहर को हरदेव बक्श ने बसाया था, हरदोई में उनके नाम से एक इलाका भी है, जिसे हरदेव गंज कहते हैं.

हरदोई जिले का कुल क्षेत्रफल 5947 वर्ग किलोमीटर है. यहाँ की जनसँख्या 4,091,380 है, जिसमें से 1,887,116 महिलाएं और 2,204,264 पुरुष हैं. यहाँ की औसत साक्षरता दर 81.67% है. यहाँ 86.59% पुरुष और 76.22% महिलाएं साक्षर हैं. यहाँ प्रति 1000 पुरुषों में 868 महिलाएं हैं. यहाँ मतदाताओं की संख्या 1,416,949 है, जिसमें से 783,764 पुरुष और 633,185 महिलाएं हैं.

Anshul Verma
हरदोई के तत्कालीन सांसद हैं भाजपा के अंशुल वर्मा

हरदोई के तत्कालीन सांसद हैं भाजपा के अंशुल वर्मा

हरदोई लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के अंतर्गत 5 विधान सभा क्षेत्र आते हैं;

सवैजपुर

शाहाबाद

हरदोई

गोपामऊ

संदी

1957 में यहाँ पहले लोकसभा चुनाव हुए जिसमें भारतीय जन संघ के दरोहर शिवदीन और कांग्रेस नेता छेदा लाल गुप्ता जीते.

1962 में कांग्रेस के किंदर लाल ने हरदोई में अपनी जीत का परचम लहराया और लगातार 3 बार यहाँ से सांसद चुने गये.

1977 में परमई लाल जनता पार्टी की टिकट पर चुनाव लड़े और जीत कर हरदोई के सांसद बने.

1980 में इंदिरा गाँधी की पार्टी कांग्रेस के नेता मन्नी लाल लोकसभा की इस सीट पर बैठे.

1984 में कांग्रेस ने फिर इस सीट पर अपनी दावेदारी मज़बूत की और कांग्रेस नेता किंदर लाल सांसद बन गये.

ये कांग्रेस की आखिरी जीत थी. इसके बाद कांग्रेस हरदोई लोकसभा क्षेत्र में अब तक एक बार भी नहीं जीती.

1989 में जनता दल के परमई लाल फिर से यहाँ के सांसद बने. अगले चुनाव में भी जनता दल के पास ही यह सीट रही पर इस बार चाँद राम यहाँ से सांसद बने.

भारतीय जनता पार्टी का हरदोई में आगमन हुआ 1991 में और लगातार 2 बार भाजपा नेता जय प्रकाश यहाँ पर सांसद रहे. भाजपा का सफ़र इस क्षेत्र में काफ़ी छोटा ही रहा.

1998 में समाजवादी पार्टी की उषा वर्मा भरी मतों से यहाँ विजयी हुईं.

1999 के लोकसभा चुनाव में अखिल भारतीय लोक तांत्रिक कांग्रेस के सदस्य जय प्रकाश, जो इससे पहले भाजपा की टिकट पर चुनाव लड़ चुके थे, हरदोई के संसदीय क्षेत्र से जीते.

2004 में बहुजन समाज पार्टी पहली बार यहाँ जीती और इलियास आज़मी यहाँ के सांसद की कुर्सी पर बैठे.

2009 में सपा नेता उषा वर्मा दोबारा यहाँ की सांसद बनी.

हरदोई के तत्कालीन सांसद हैं भाजपा के अंशुल वर्मा.

लोकसभा वर्ष से वर्ष तक नाम पार्टी
दूसरी 1957 1962 दरोहर शिवदीन भारतीय जन संघ
1957 1962 छेदा लाल गुप्ता भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
तीसरी 1962 1967 किंदर लाल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
चौथी 1967 1971 किंदर लाल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
पांचवी 1971 1977 किंदर लाल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
छठवीं 1977 1980 परमाई लाल जनता पार्टी
सातवीं 1980 1984 मन्नी लाल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस(इंदिरा)
आठवीं 1984 1989 किंदर लाल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
नौवीं 1989 1990 परमाई लाल जनता दल
उपचुनाव 1990 1991 चाँद राम जनता दल
दसवीं 1991 1996 जय प्रकाश भारतीय जनता पार्टी
ग्यारहवीं 1996 1998 जय प्रकाश भारतीय जनता पार्टी
बारहवीं 1998 1999 उषा वर्मा समाजवादी पार्टी
तेरहवीं 1999 2004 जय प्रकाश अखिल भारतीय लोक तांत्रिक कांग्रेस
चौदहवीं 2004 2009 इलियास आज़मी बहुजन समाज पार्टी
पंद्रहवीं 2009 2014 उषा वर्मा समाजवादी पार्टी
सोलहवीं 2014 अब तक अंशुल वर्मा भारतीय जनता पार्टी
UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

रामपुर लोकसभा क्षेत्र : जानिए, रामपुर ( Rampur ) लोकसभा सीट का इतिहास

UP News Desk

अकबरपुर लोकसभा क्षेत्र : जानिए, अकबरपुर लोकसभा सीट का इतिहास

UP News Desk

एटा लोकसभा क्षेत्र : जानिए, एटा ( Etah) लोकसभा सीट का इतिहास

UP News Desk

Leave a Comment