बांदा जिला उत्तरप्रदेश के 75 जिलों में से एक है| इसका जिला मुख्यालय बांदा है| यह चित्रकूट मंडल का हिस्सा है| बुंदेलखंड क्षेत्र में स्थित बांदा में ‘शज़र’ के पत्थर पाए जाते है जिनका उपयोग गहने बनाने में किया जाता है| यह क्षेत्र उत्तर में फतेहपुर, पूर्व में चित्रकूट, पश्चिम में  हमीरपुर और महोबा और दक्षिण में मध्य प्रदेश के सतना,पन्ना और छतरपुर से घिरा हुआ है| बांदा देश के 250 अति पिछड़े जिलों में शामिल है इस कारण इसे पिछड़ा क्षेत्र अनुदान निधि मिलती है| बांदा से होकर एनएच-76 और एनएच- 232 गुजरते है| जिला 4,413 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है| यहाँ की आबादी का मुख्य पेशा खेती है| यहाँ खरीफ़,रबी और ज़ैद(ककडी,तरबूज,खरबूजा) हर प्रकार की चीज़े उपजाई जाती है| बांदा में मुख्यत: बुंदेली भाषा बोली जाती है| यहाँ की संस्कृति और कालिंजर दुर्ग के प्रचार  के लिए हर साल सात दिन तक चलने वाला कालिंजर महोत्सव मनाया जाता है|बांदा जिले में पांच तहसीलें है-

बांदा, नारैनी, बाबेरु, अतर्रा, पैलानी|

2011 की जनगणना के मुताबिक़ बांदा जिले की आबादी 1,799,410 है जिनमे 965,876 पुरुष और 833,534 महिलायें शामिल है| 2001 से 2011 तक बांदा की जनसंख्या 17.05% बढ़ी जबकि यह बढ़ोतरी 1991 से 2001 के बीच 21.03% थी| यहाँ की 16.39% आबादी छ: साल सेकम उम्र की है| जिले में प्रति 1000 पुरुषों पर 863 महिलायें है| यहाँ की साक्षरता दर 66.67% है, जिनमे पुरुषों की साक्षरता दर 77.78% जबकि महिलाओं की साक्षरता दर 53.67% है| बांदा मुख्य रूप से हिन्दू बहूल क्षेत्र है| यहाँ की 91% आबादी हिन्दू और 8.76% आब्दी इस्लाम में आस्था रखती है| चुनाव आयोग की 2009 की रिपोर्ट के मुताबिक़ बांदा में 1,386,265 मतदाता है| इन मतदाताओं में 618,983 महिला वोटर्स जबकि 767,282 पुरुष वोटर्स है| बांदा संसदीय क्षेत्र में उत्तरप्रदेश की कुल पांच विधानसभा सीटें आती है-

बाबेरु, नारैनी, बांदा, चित्रकूट और माणिकपुर

नारैनी की विधानसभा सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है|

Banda
वर्तमान में यहाँ से भारतीय जनता पार्टी के भैरों प्रसाद मिश्रा सांसद है.

[penci_blockquote style=”style-1″ align=”none” author=””]वर्तमान में यहाँ से भारतीय जनता पार्टी के भैरों प्रसाद मिश्रा सांसद है.[/penci_blockquote]

बांदा की लोकसभा सीट अस्तित्व में आने के बाद से ही सामान्य श्रेणी की सीट रही है| 1957 में जब यहाँ आमचुनाव हुए तब यह सीट यूपी की 30 लोकसभा सीट हुआ करती थी| पहली बार हुए चुनाव में कांग्रेस के राजा दिनेश सिंह प्रजा सोशलिस्ट पार्टी के  भूपेंद्र निगम उर्फ़ भूपत बाबू को 20,542 वोटों से हरा दिया था|1962 में दोबारा कांग्रेस ने इस सीट पसर जीत दर्ज की| 1967 से लेकर 2004 तक अलग अलग पार्टी के लोग यहाँ से जीत कर लोकसभा में बांदा का प्रतिनिधित्व करते रहे| 2004 और 2009 में सपा ने इस सीट पर जीत दर्ज की| 1967 के बाद यह पहला मौका था जब किसी पार्टी ने बांदा की सीट पर लगातार दूसरी बार कब्ज़ा किया| वर्तमान में यहाँ से भारतीय जनता पार्टी के भैरों प्रसाद मिश्रा सांसद है| 63 वर्षीय भैरों प्रसाद मिश्रा पहली बार लोकसभा के लिए निर्वाचित हुए है| सोलहवीं लोकसभा में यह मानव संसाधन विकास से जुड़े मामलों की स्थाई समिति के सदस्य है| मौजूदा लोकसभा में इनकी उपस्थिति 100% रही है| जहाँ एक ओर चर्चाओं में हिस्सा लेने का राष्ट्रीय औसत 57.9 है वहीँ स्थानीय सांसद महोदय ने 1722 चर्चाओं में हिस्सा लिया है| इन्होने अबतक 11 व्यक्तिगत सदस्य बिल पेश किये है|

लोकसभा वर्ष पार्टी नाम
दूसरी 1957 भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस राजा दिनेश सिंह
तीसरी 1962 भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस सावित्री निगम
चौथी 1967 कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ इंडिया जागेश्वर
पांचवीं 1971 भारतीय जनसंघ रामरतन शर्मा
छठीं 1977 जनता पार्टी अम्बिका प्रसाद पाण्डेय
सातवीं 1980 भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस रामनाथ दुबे
आठवीं 1984 भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस भीष्म देव दुबे
नौवीं 1989 बहुजन समाज पार्टी राम सजीवन
दसवीं 1991 भारतीय जनता पार्टी प्रकाश नारायण त्रिपाठी
ग्यारहवीं 1996 बहुजन समाज पार्टी राम सजीवन
बारहवीं 1998 भारतीय जनता पार्टी रमेशचंद्र द्विवेदी
तेरहवीं 1999 बहुजन समाज पार्टी राम सजीवन
चौदहवीं 2004 समाजवादी पार्टी श्यामचंद्र गुप्ता
पंद्रहवीं 2009 समाजवादी पार्टी आर.के.सिंह पटेल
सोलहवीं 2014 भारतीय जनता पार्टी भैरों प्रसाद मिश्रा
UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें