Home » उत्तर प्रदेश की स्थानीय खबरें » UP : CM का बड़ा फैसला अब यूपी में विवाहित पुत्री को भी मृतक आश्रित लाभ

UP : CM का बड़ा फैसला अब यूपी में विवाहित पुत्री को भी मृतक आश्रित लाभ

CM Yogi will lay the foundation stone of medical college on February 26

लखनऊ | सूबे के मुखिया मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने महत्वपूर्ण निर्णय लेते हुए मृतक आश्रित सेवायोजन के लिए कुटुंब की परिभाषा में विवाहिता पुत्री और परित्यक्ता पुत्री को भी शामिल कर लिया है।मुख्यमंत्री ने इसके लिए मंगलवार को मृतक आश्रित को नौकरी के लिए कुटुंब की परिभाषा में विवाहित पुत्री और परित्यक्ता पुत्री भी शामिल करने के लिए उप्र सेवाकाल में मृत सरकारी सेवकों के आश्रितों की भर्ती नियमावली-1974 के नियम -2(ग)(तीन) में संशोधन की अनुमति दे दी है। मुख्यमंत्री ने महिला अधिकारों के संरक्षण के लिए हाईकोर्ट के आदेश के आधार पर यह फैसला किया है।

हाईकोर्ट के आदेश के अनुसार उत्तर प्रदेश सेवाकाल में मृत सरकारी सेवकों के आश्रितों की भती नियमावली 1974 में इसका प्रावधान करने की अनुमति दी गई है। इसके आधार पर कुटुंब के अंतर्गत मृत सरकारी सेवक की पत्नी या पति, पुत्र, दत्तक पुत्र और अविवाहित पुत्रितयां, आविवाहित दत्तक पुत्रियां, विधवा पुत्रियां और विधवा पुत्र वधुओं के साथ अब विवाहित पुत्रितयां और परित्यक्ता पुत्रियां भी संबंधी होंगी|

महिला संरक्षण के हित में एक और महत्वपूर्ण फैसला करते हुए मृतक आश्रित कोटे पर विवाहित पुत्री और परित्यक्ता पुत्री को नौकरी देने को मंजूरी दे दी है। हलाकी प्रदेश मे अभी तक यह व्यवस्था नहीं थी|
UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

ज़िला विद्यालय निरीक्षक ने यूपीबोर्ड परीक्षा की उत्तर पुस्तिका जांचने को लेकर दिए कड़े निर्देश, सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में होगा मूल्यांकन, CCTV में केन्द्रों पर जांची जाएंगी उत्तर पुस्तिकाएं, मूल्यांकन केन्द्रों पर बाहरी व्यक्तियों का वर्जित, मूल्यांकन केन्द्रों पर फोटोग्राफी पर लगाई रोक , उप नियंत्रक, डीएचई ,परीक्षकों को दिए निर्देश, मूल्यांकन का कार्य 17 मार्च से होगा शुरू।

Ashutosh Srivastava

रोहता रोड पर दलितों की दबंगई पत्रकारों और पुलिस पर पथराव फायरिंग भी हुई, कई लोग घायल, दबंगई उतारी हुए दलित समाज के लोग जमकर कर रहे हंगामा, डीएम अनिल ढींगरा और एसएसपी मंजिल सैनी कंकर खेड़ा में पहुंचे। आरएएफ बुलाई। SP सिटी ने भाग कर जान बचाई.

Ashutosh Srivastava

मुगलसराय से कानपुर के बीच बिछ रहे नये रेलवे ट्रैक के लिए बालू, गिट्टी, बोल्डर न मिलने के लेकर याचिका, हाईकोर्ट उपखनिज आदि की आपूर्ति न होने पर सख्त, कोर्ट ने डेडिकेटेड फ्राइड कॉरिडोर कार्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड के प्रबन्ध निदेशक व रेल मंत्रालय के सचिव को दिया आदेश, बैठक कर समस्या का हल निकालने का दिया निर्देश, कोर्ट ने 20 मार्च को रिपोर्ट के साथ किया तलब, जीएमआर इंफ्रास्ट्रक्चर्स कम्पनी को मिला है रेल लाइन तैयार करने का ठेका, 9000 करोड़ के प्रोजेक्ट के लिए खनिज आपूर्ति को कोर्ट के आदेश से राज्य सरकार ने कार्पोरेशन के मार्फत जारी किया है खनन फिल्ड, कार्पोरेशन की निष्क्रियता के कारण नहीं हो पा रही खनिज की आपूर्ति, कोर्ट ने कहा प्रोजेक्ट में देरी से बढ़ सकती है लागत, कोर्ट का मामले में अधिकारियों के जल्द निर्णय लेने का आदेश, 20 मार्च को होगी मामले की अगली सुनवाई, चीफ जस्टिस डीबी भोसले और जस्टिस सुनीत कुमार की खंडपीठ ने दिया आदेश।

Ashutosh Srivastava