Home » उत्तर प्रदेश की स्थानीय खबरें » जौनपुर: तहसीलदार ने जाना विकलांग व्यक्ति का तंग हाल

जौनपुर: तहसीलदार ने जाना विकलांग व्यक्ति का तंग हाल

Jaunpur: Tahsildar has a tight spot of the disabled person
  • उत्तर प्रदेश के जनपद जौनपुर केराकत तहसील क्षेत्र के अच्छे लाल राजभर हाथ पैर से विकलांग ग्राम बोड़सर, खुर्द पुत्र श्यामलाल जो 4 वर्ष से दाखिल खारिज के लिए तहसील का चक्कर काट रहे थे।
  • जिनके ऊपर तहसीलदार केराकत प्रकाश गुप्ता की नजर तहसील प्रांगण में पड़ी, तो उन्होंने पीड़ित विकलांग व्यक्ति से हाल पूछा कि आप इतने परेशान क्यों है।
  • उस पर पीड़ित रो पड़ा और उसने अपनी व्यथा बताई कि मैं 4 साल से तहसील का चक्कर काट रहा हूं मेरा दाखिल खारिज नहीं हो पा रहा है।
  • अब मेरे पास कोई दूसरा रास्ता नहीं बचा है आखिर मैं क्या करूं जिस पर तहसीलदार ने पीड़ित को ढांढस बंधाया और कहा कि मैं केराकत तहसील का तहसीलदार हूं मुझे इस विषय के बाबत जानकारी नहीं थी अब तुम्हारा काम जरूर हो जाएगा।
  • जिसके बाद उन्होंने अपने अधीनस्थ कर्मचारियों को फटकार भी लगाई कि पीड़ित इतने दिन से परेशान क्यो था।
  • जिसके बाद उन्होंने पीड़ित से जल्द ही उसका दाखिल खारिज करने का वादा किया, जिसपर प्रार्थी अच्छेलाल बहुत ही प्रसन्न हुआ।
  • इस बात की चर्चा तहसील में जोरो से बनी हुई है। मीडियाकर्मियो के सवाल पर तहसीलदार प्रकाश गुप्ता ने कहा कि जब गरीब,असहाय,पीड़ित, व विकलांग व्यक्ति ही किसी काम के लिए तहसील का चक्कर काटेगा तो आम व्यक्ति का क्या होगा और हम जैसे अधिकारी इसी काम के लिए बैठे है, जनता का काम ही हम लोगो के लिए सर्वोपरि है।

 

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Reporter : तन्मय बरनवाल

Related posts

नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने पर पोस्टमैन गिरफ्तार, डाक विभाग में नौकरी के लिए युवक से लिये थे 3 लाख 70 हजार, कोइरौना थाना के मवैयाथान सिंह का मामला.

Ashutosh Srivastava

1 लाख के इनामी बग्गा के एनकाउंटर का मामला, एनकाउंटर के बाद बग्गा पर 2 और मुकदमें दर्ज, एसटीएफ ने निघासन कोतवाली में दर्ज कराए मुकदमें।

Ashutosh Srivastava

कचहरी में फायरिंग के दौरान घायल रेफर किया गया, दिल्ली के अस्पताल भेजा गया गोली से घायल कर, अंकुर की चाची का बयान- डॉक्टरों ने कहा कुछ नहीं बचा है, तमाशा करने के लिए पुलिस रेफर करा ले गई अंकुर को.

Ashutosh Srivastava