Home » उत्तर प्रदेश की स्थानीय खबरें » वाराणसी : उनकी इच्छा ही नहीं थी कि वह मंदिर बनाए-प्रवीण तोगड़िया

वाराणसी : उनकी इच्छा ही नहीं थी कि वह मंदिर बनाए-प्रवीण तोगड़िया

Dr. Praveen Togadia given Statement on Ram Temple
प्रवीण तोगड़िया वाराणसी बाबतपुर एयरपोर्ट पर मीडिया से बातचीत करते हुए केंद्र में मोदी सरकार पर लगाया आरोप कहा कि मंदिर के नाम पर ये सरकार सिर्फ व सिर्फ वोट प्राप्‍त करके हिन्‍दुओं के साथ 15 लाख रुपये की तरह का चुनावी जुमला किया और इसी जुमलों पर बस वोट की राजनीति पेश करती है।

वाराणसी पहुंचे प्रवीण तोगड़िया का बयान:

इन्हें अयोध्या में श्री राम मंदिर बनवाना ही नही था

  • ये लोग नही चाहते कि अयोध्या में राम मंदिर बने
  • जबकि गुजरात मे सरदार वल्‍लभ भाई पटेल की जयंती पर 182 मीटर की दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा का अनावरण करने जा रहे प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी पर सीधा हमला बोलते हुए डॉ प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि यह सरकार में सरदार पटेल जैसा साहस नहीं है।
  • जो सरदार पटेल ने कर दिखाया था इस सरकार में उतनी साहस नही जो सरदार पटेल जी की तरह देश आजाद हुआ था तब तीन वर्षों अंदर ही सरदार पटेल ने सोमनाथ का मंदिर बनवाना शुरू कर दिया था।
  • डॉ0 प्रवीण तोगड़िया ने कहा मोदी सरकार पर आरोप लगाया की सरदार पटेल के नाम पर सिर्फ राजनीति करने और वोट की राजनीति करने का इन्हें साहस है।
  • इन्‍होंने सरदार पटेल का नाम लिया और कहा भी था कि जैसे सरदार पटेल ने सोमनाथ का मंदिर बनाया उसी तरह हम भी श्री राम मंदिर का निर्माण करेंगे।
  • जबकि सरदार पटेल का नाम ले तो रहे हैं, पर उनका काम नहीं कर रहे हैं।
  • डॉ0 प्रवीण तोगड़िया ने दुःख प्रकट करते हुए ऐलान किया कि देश की जनता का अब नारा है राममंदिर नहीं तो बीजेपी को हिन्‍दुओं का वोट नहीं।
UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Reporter : Vivek Pandey

Related posts

बहराइच: सीएमओ ने किया करोड़ों का गबन

UP ORG Desk

बड़डू पुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत महमूदाबाद मार्ग पर टाटा सफारी व स्विफ्ट कार में हुई टक्कर, 5 लोग घायल, ट्रामा सेंटर रेफर।

Ashutosh Srivastava

बाइक से घर आ रहे स्वर्णकार को अज्ञात बाइक सवारों ने असलहे के नोक पर लाखों रुपये के सोने चांदी के जेवर, नगदी लूट कर हुए फरार, मामला थाना तरबगंज के दुर्जनपुर घाट के पास का, पुलिस मौके पर, फैजाबाद से वापस घर तरबगज आ रहा था स्वर्णकार रामचंद्र।

Ashutosh Srivastava