Home » उत्तर प्रदेश की स्थानीय खबरें » कुंभ को आयोजित करने के लिए मात्र डेढ़ वर्ष का समय था : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 

कुंभ को आयोजित करने के लिए मात्र डेढ़ वर्ष का समय था : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 

CM Yogi says it was only one and a half years for organizing Kumbha.

कुंभ को आयोजित करने के लिए मात्र डेढ़ वर्ष का समय था : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए पहुंचे
  • तुलसी का पौधा देकर मुख्यमंत्री को किया गया स्वागत
  • कार्यक्रम में पहुंचे मुख्यमंत्री के संबोधन शुरू
  • मानवता का सबसे बड़ा समागम है कुंभ
  • कार्यक्रम में देर से पहुंचने के लिए क्षमा प्रार्थी हूं
  • फोटोग्राफी के लिए आप स्वयं प्रेरित हुए इसके लिए बधाई
  • वासुदेव कुटुंबकम का सबसे अच्छा उदाहरण कुंभ
  • संगम में साइबेरियन पक्षी है एक माह के लिए आते हैं
  • संपूर्ण दुनिया के जीव किसी न किसी रूप में प्रयागराज आते है
  • कुंभ का सबसे बड़ा महत्व प्रयाग में है
  • 71 देशों ने अपना राष्ट्रध्वज को कुंभ में स्थापित किया है
  • 6 लाख गांव का प्रतिनिधित्व भी कुंभ में होगा
दुनिया के कई देशों के लोग भी यहां आएंगे
  • कुंभ को आयोजित करने के लिए मात्र डेढ़ वर्ष का समय था
  • सवा वर्षों में हम लोगों ने कई पुल और अंडर पास बनाए
  • 16 सौ से 32 सौ हेक्टेयर में फैला कुम्भ
  • पूरी दुनिया में कुम्भ का संदेश जाय इसकी तैयारी की है
  • 45 दिन का कार्यक्रम अलौकिक अनुभव का होगा
  • पूरे कुम्भ में कहीं पर किसी प्रकार की गंदगी नहीं होगी
  • एक एक स्थान पर नज़र रखने के लिए हमने इंतेज़ाम किये हैं
  • अक्षय वट के दर्शन को भी हम लोगो ने खोला था
  • हमने कुंभ में इस बार सबसे बेहतर व्यवस्था की है
  • पार्किंग की व्यवस्था हम लोगों ने की है
  • संगम तट से 5 किमी पहले ही पार्किंग की व्यवस्था की है
  • स्वास्थ्य, पेयजल की व्यवस्था की गई है
  • आजादी के बाद यह पहला मौका है जब गंगा और यमुना में पर्याप्त जल है
  • कुम्भ में देश के अलग-अलग राज्यो से कला संस्कृति वहां पहुंची है
  • 26 जनवरी को वाराणसी से प्रयाग के बीच जल मार्ग को खोलने जा रहा है
  • पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए हमारी सरकार काम कर रही है
UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

सुप्रीम कोर्ट द्वारा एससी-एसटी एक्ट में संशोधन किए जाने के विरोध में दलित सामाजिक संगठन ने धरना स्थल पर बैठकर अपना विरोध प्रकट किया व जिला प्रशासन को ज्ञापन दिया, जिसमे संशोधन को समाप्त कर एक्ट को पहले की भांति रखने की मांग की जा रही है। 15 दिन के समय के अंदर यदि उनकी मांगों को नहीं माना गया तो चक्का जाम कर अपना विरोध जताने की धमकी भी दी है। अनुसचित जनजाति के लोग इस एक्ट को शिथिल करने के विरोध में आज भारत बंद का एलान किया है।

Ashutosh Srivastava

गठबंधन होता देख सरकार सीबीआई के दुरुपयोग में लगी -ओमप्रकाश राजभर

UP ORG Desk

बस्ती-शराब के भट्टे के पास एक शख्स की लाश मिली

kumar Rahul

Leave a Comment