Home » उत्तर प्रदेश की स्थानीय खबरें » कोषागार में 4 करोड़ से अधिक की धनराशि के घोटाले का शुरू हुआ ऑडिट जांच

कोषागार में 4 करोड़ से अधिक की धनराशि के घोटाले का शुरू हुआ ऑडिट जांच

लखनऊ से आई आडिट टीम ने शुरू की मामले की जाँच।

कोषागार में वर्ष 2010-17 के मध्य हुआ था घोटाला।

हरदोई।  कोषागार में सरकारी कर्मियों की पेंशन मद में करीब चार करोड़ से अधिक की पेंशन राशि को फर्जी नाम से निकालने के घोटाले की जांच तेज हो गई है।लखनऊ से आई ऑडिट टीम पूरे प्रकरण की जांच कर रही है।एडीएम संजय सिंह ने बताया की 2 करोड़ से अधिक की धनराशि का अभी तक मामला सामने आया है जांच चल रही है।कोषागार में पेंशन घोटाला वर्ष 2010-17 के मध्य हुआ। जब पेंशन राशि पेंशनर्स के खातों में सूची और चेक के माध्यम से भेजी जाती थी। इस मामले में तत्कालीन कोषाधिकारी दीपांकर शुक्ला ने सहायक कोषाधिकारी दिनेश प्रताप सिंह एवं लेखाकार राकेश कुमार सिंह के साथ ही एक अन्य तत्कालीन कोषाधिकारी देवी प्रसाद के विरुद्ध शहर कोतवाली में एफआइआर दर्ज कराई गई थी।इस मामले में शहर कोतवाली पुलिस ने सुरसा थाना क्षेत्र के मरसा निवासी अशोक यादव को गिरफ्तार किया और उसे जेल भेजा है क्योंकि अशोक यादव ने ही कई लोगों के बैंक में खाते खुलवाए थे।बहरहाल जांच के बाद इसमे बड़ा खुलासा सामने आएगा।

इनपुट- मनोज़

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

श्री श्री रविशंकर पहुंचे काशी, संत समागम में हिस्सा हुए शामिल, आयोजन में लगभग 60 हिन्दू-मुस्लिम धर्मगुरु हुए हैं शामिल, चौकाघाट स्थित गिरिजा देवी सांस्कृतिक संकुल में हो रहा है आयोजन.

Desk

कानपुर : एसपी सिटी सुरेन्द्र दास द्वारा जहरीला पदार्थ खाने की आशंका

Short News Desk

मुजफ्फरनगर से 2 सर्राफा कारोबारियों की गिरफ्तारी का मामला, लश्कर-ए-तैयबा के फाइनेंसर थे मुजफ्फरनगर के सर्राफा कारोबारी, एनआईए और एटीएस ने 3 फरवरी को लिया था हिरासत में, छापेमारी में विदेशों की 45 लाख की करेंसी बरामद हुई, 2 काउंटिंग मशीन, 2 पिस्टल, लैपटॉप की भी बरामदगी, सऊदी अरब के जरिए पाकिस्तान तक जाता था कारोबारियों का पैसा, मुजफ्फरनगर में बैठकर पाकिस्तान को दी जा रही थी आतंकी मदद, एनआईए ने लश्कर को 2 ट्रांजैक्शन होने की पुष्टि की, लश्कर के सक्रिय आतंकी अब्दुल समद के जरिए होती थी फंडिंग, लश्कर के पाकिस्तानी कमांडर ने 4 राज्यों में नेटवर्क बढ़ाने का दिया था ठेका, रुड़की के समद का बॉस है मुंबई हमले का मास्टरमाइंड अबू जिंदाल।

Ashutosh Srivastava