Home » उत्तर प्रदेश की स्थानीय खबरें » एक फाेन कॉल पर काेर्ट के आदेश पर अतिक्रमण हटवाने गया प्रशासन खुद काे समझने लगा पंगु

एक फाेन कॉल पर काेर्ट के आदेश पर अतिक्रमण हटवाने गया प्रशासन खुद काे समझने लगा पंगु

encroachment on orders of court

मंत्री-विधायक के फाेन कॉल पर ही नतमस्तक हाे गया प्रशासन

  • मुख्यमंत्री याेगी आदित्यनाथ भले ही नाैकरशाहाें काे सुधराने के लिए सख्ती दिखा रहे हैं, किंतु जाैनपुर में उनकी मंशा के विपरीत काम कराया जा रहा है।
  • दरहसल खबर जनपद  से आयी है जहा यह काम काेई आैर नहीं, बल्कि उनके ही मंत्रिमंडल में शामिल एक मंत्री आैर विपक्ष के पूर्व मंत्री व विधायक करा रहे हैं,
  • जिनके एक फाेन कॉल पर काेर्ट के आदेश पर अतिक्रमण हटवाने गया प्रशासन खुद काे पंगु समझने लगा आैर बैरंग लाैट गया, जिसे लेकर लाेग खूब चटखारे ले रहे हैं।
 

जानिए इस मामले के पीछे की कहानी का पूरा मामला

  • शाहगंज कोतवाली क्षेत्र के गोल्हागौर गांव में ग्राम समाज के चारागाह खाते की जमीन में विद्यालय बना है।
  • इसे लेकर कोर्ट रिट दाखिल की गई थी।
  •  कोर्ट ने ग्रामसभा बनाम आशा देवी के इस मामले में आदेश पारित की थी,
  • जिसके अनुपाल में शनिवार की सुबह उपजिलाधिकारी शाहगंज राजेश कुमार वर्मा, डीएसटीओ आदि जेसीबी लेकर पहुंचे आैर निर्माणाधीन विद्यालय की चहारदीवारी ढहवाने लगे।
  • इतने में विद्यालय संचालक ने सपा विधायक आैर पूर्व मंत्री काे स्थिति से अवगत कराया,
  • जिन्हाेंने एसडीएम काे फाेन काल कर समझा दिय़ा।
  • इतना ही नहीं कुछ ही देर में सत्ताधारी दल के एक मंत्री का फाेन काल आ गया,
  • जिसके बाद एसडीएम खुद काे असहाय समझने लगे आैर अपनी टीम काे लेकर तत्काल वापस हाे गए।
  • उधर यह आराेप लगाते हुए मुकदमे के वादी मनोज चौहान ने कहा कि 2002 से जिला के प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा कार्रवाई नहीं की गई तो उच्च न्यायालय की शरण में गया था।
  • जिसके बाद यह पालन कराया जा रहा था, किंतु दबाव के कारण अतिक्रमण नहीं हटाया जा सका।
UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

कानपुर – कांग्रेस में महापौर के बागी उगलने लगे आग

kumar Rahul

लखनऊ : चुनाव नजदीक है और हम लोगों ने पूरी तैयारी कर ली है : अखिलेश यादव

Short News Desk

उन्नाव रेलवे ट्रैक के लिए गिट्टी ले जा रहा ट्रैक्टर ट्रॉली ट्रेन से टकराई।

Desk