महिला ने दो बेटियों के साथ मुख्यमंत्री आवास के बाहर किया आत्मदाह का प्रयास

Woman Tried Suicide With Two Daughters Outside Chief Minister House-1

राजधानी लखनऊ के गौतमपल्ली थाना क्षेत्र के पांच कालिदास मार्ग स्थित मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का सरकारी आवास और विधानसभा आत्मदाह का अड्डा बन चुका है। शायद इसीलिए आये दिन पीड़ित दोनों जगहों पर आत्मदाह करने को मजबूर हैं। आत्मदाह के मामले लगातार बढ़ रहे हैं जो प्रदेश की कानून व्यवस्था की पोल खोल रहे हैं। अभी पिछले दिनों उन्नाव की बलात्कार पीड़िता ने पुलिस की प्रताड़ना से तंग होकर सीएम आवास के बाहर आत्मदाह का का प्रयास किया था। ये मामला हाइलाइट हुआ तो भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर बहुत किरकिरी के बाद सीबीआई द्वारा गिरफ्तार किये गए।

Woman Tried Suicide With Two Daughters Outside Chief Minister House
Woman Tried Suicide With Two Daughters Outside Chief Minister House

इसके बाद एक धनतेरस के दिन सीएम आवास के बाहर रायबरेली जिला की रहने वाली एक महिला ने न्याय ना मिलने से आहत होकर अपनी दो बेटियों के साथ आत्मदाह का प्रयास किया। आत्मदाह के प्रयास की घटना से वहां हड़कंप मचा गया। आनन-फानन में मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने सभी पीड़िता को हिरासत में लिया। जिसे पुलिस गौतमपल्ली थाने ले गई। पुलिस पीड़िता से पूछताछ कर आगे की कार्रवाई कर रही है।

पीड़िता के पास खाने को पैसे नहीं, कई दिनों से लगा रही सीएम आवास के चक्कर

जानकारी के मुताबिक, घटना गौतमपल्ली थाना क्षेत्र के पांच कालिदास मार्ग स्थित सीएम आवास के बाहर की है। यहां रायबरेली के कोतवाली क्षेत्र की रहने वाली एक महिला ने अपनी दो नाबालिग बेटियों के साथ सुबह करीब 11:30 बजे अपने ऊपर बोतल में भरा मिटटी का तेल उड़ेल लिया। घटना से मौके पर हड़कंप मच गया। इससे पहले वह खुद को बेटियों सहित आग लगा पाती कि वहां मौजूद सुरक्षाकर्मियों ने महिला को पकड़ा। इस दौरान महिला सिपाही और महिला के बीच काफी देर भिड़ंत होती रही। बाद में पीड़िता को पुलिस ने बड़ी मुश्किल से पकड़ पाया। महिला का आरोप है वह पिछले कई दिनों से सीएम आवास पर न्याय की गुहार लगाने आती है। लेकिन यहाँ पुलिसकर्मी उसे भगा देते हैं। पीड़िता के माता-पिता नहीं हैं। उसके बच्चे भूखे हैं, खाने को पैसे नहीं हैं। उसके पास आत्मदाह के अलावा कोई चारा नहीं है। महिला ने रोते हुए कहा कि अब सिर्फ आत्मदाह करके ही चैन मिलेगा। क्योंकि पुलिस तो आरोपी भाजपा नेताओं के साथ खड़ी है। उसकी कोई सुनने वाला नहीं है।

भाजपा नेताओं पर भाई और बहन की गैंगरेप के बाद हत्या कर आरोप

पीड़िता का आरोप है कि भाजपा के दबंग नेता ने उसके भाई की हत्या करवा दी। इसके बाद जब पुलिस से शिकायत की तो सुनवाई नहीं हुई। महिला का आरोप है कि उसके भाई की भाजपा नेताओं ने हत्या कर दी। इसकी एफआईआर दर्ज करवाने जब वह रायबरेली कोतवाली गई तो उसे थाने से भगा दिया गया। इसके बाद उसकी छोटी बहन का भाजपा नेताओं ने अपहरण करके गैंगरेप किया। गैंगरेप के बाद बहन की भी हत्या कर दी गई। पीड़िता जब पुलिस के पास गई तो कोतवाली पुलिस ने न्याय देने की बजाय उसे भगा दिया। इससे क्षुब्ध होकर वह राजधानी पहुंची और अपनी जान देने की कोशिश करने लगी। महिला ने हत्या और गैंगरेप का आरोप रायबरेली के भाजपा नेता गजानन सिंह, भानु प्रताप सिंह, सतेंद्र सिंह, गृह मंत्री के करीबी रिश्तेदार अरबी सिंह पर लगाया है। अब देखने वाली बात ये होगी कि क्या महिला सुरक्षा का दावा करने वाली भाजपा सरकार में पीड़ित महिला को न्याय मिल पायेगा?

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Reporter : Sudhir Kumar

Related posts

कानपुर: किशोरी का मिला अर्धनग्न शव, गैंगरेप के बाद हत्या की आशंका

Sudhir Kumar

गर्भवती महिला और उसके पति को बेरहमी से पीटा, थाने से पुलिस ने भगाया

Sudhir Kumar

मासूम की नृशंस हत्या, पुलिस पर फरार आरोपियों को गिरफ्तार ना करने का आरोप

Sudhir Kumar