न्याय न मिलने पर विधानसभा के सामने जान देने पहुंचा पीड़ित परिवार

Victim Family Seek Justice Near UP Assembly Son Killed After Kidnap

उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिला में रहने वाला एक पीड़ित परिवार न्याय के लिए दर-दर की ठोकरें खाने पर मजबूर है। पीड़ित परिवार का आरोप है कि उसके बेटे की अपहरण के बाद हत्या कर दी गई है। लेकिन स्थानीय पुलिस और प्रशासन के यहां चक्कर लगा लगाकर उनके पैर घिस गए लेकिन बेरहम कानून के रखवाले उन्हें लगातार दौड़ा रहे हैं। पीड़िता परिवार ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और डीजीपी से आरोपियों की गिरफ्तारी की गुहार लगाई है।

सभासद पर अपहरण और हत्या करवाने का शक

उन्नाव जिले के सफीपुर थाना क्षेत्र के कजियाना कस्बा निवासी सुलेमान पुत्र यासीन ने बताया कि उनके पुत्र मोहम्मद साहिद 19 अगस्त 2018 को घर के बाहर गया था और वापस नहीं आया। जानकारी होने पर पता चला कि सईद, अतीत पुत्रगण अकील निवासी मोहल्ला कजियाना कस्बा सफीपुर जिला उन्नाव पीड़ित के पुत्र को मोटरसाइकिल से बांगरमऊ की तरफ अपहरण करके ले गए हैं। उन्हें ले जाते हुए दिलशाद पुत्र छोटे व रहीश पुत्र सदीक ने देखा। पीड़ित ने आरोपियों से अपने पुत्र के बारे में जानकारी ली दो उन्होंने कहा कि उनका बेटा एक सप्ताह में लौट आएगा। परंतु उन लोगों के द्वारा अपहरण कर बंधक बनाए रखने के कारण मेरा पीड़ित का बेटा वापस नहीं आया और नहीं उसकी जानकारी हो पा रही है। पीड़ित परिवार को आशंका है कि सईद, अतीक ने उनके पुत्र का अपहरण कर हत्या कर दी है। पीड़ित के अपहरण में अब्दुल रहमान सभासद पुत्र साकिर अली का पूरा सहयोग एवं साजिश है।

पुलिस ने नामजद आरोपी का नाम विवेचना से हटाया

पीड़ित ने बताया इस घटना के संबंध में सफीपुर थाने को सूचना दी। जिस पर पुलिस ने तहरीर के आधार पर मु.अ.सं. 190/2016 धारा 365 आईपीसी में उपरोक्त सभी आरोपियों के विरुद्ध नामजद मुकदमा दर्ज किया। लेकिन आज तक अभियुक्तों की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। पुलिस ने आरोप पत्र न्यायालय भेज दिया। पीड़ित ने बताया कि पुलिस ने आरोपी अब्दुल रहमान का नाम भी विवेचना से अलग कर दिया। पीड़ितों ने बताया कि सभी आरोपी प्रभावशाली व्यक्ति हैं और अपने प्रभाव का गलत इस्तेमाल कर गरीब व्यक्ति को न्याय नहीं मिलने दे रहे हैं। आरोपी लगातार विवेचना को भी प्रभावित कर रहे हैं।

पीड़ित परिवार को जान से मरने की धमकी दे रहे आरोपी

आरोप है कि पीड़ित परिवार को आरोपी आए दिन जान से मारने की धमकी दे रहे हैं। इससे पीड़ितों के गवाह भी भयभीत हैं। इस संबंध में एसपी उन्नाव व अन्य अधिकारियों को कई प्रार्थना पत्र दिए गए। लेकिन पीड़ितों ने बताया कि नामजद अभियुक्त अपराधिक किस्म के हैं। इन पर इससे पहले भी कई आपराधिक मुकदमे दर्ज हुए हैं। पीड़ितों का आरोप है कि 9 जून 2018 को अलाउद्दीन रहमान ने जबरदस्ती सादे कागज पर अंगूठा लगवा कर सुलाह के लिए लगवा लिया। इस पर सफीपुर पुलिस ने बुलाया और लड़का कन्नौज में होना बताया। उसके बाद फिर पुलिस जानबूझकर बेटे को बरामद नहीं कर रही है। इसलिए पीड़ितों ने न्याय के लिए विधानसभा के सामने पहुंचे और न्याय न मिलने पर आत्मदाह की चेतावनी दी है। साथ ही इस केस की जांच किसी दूसरी एजेंसी से करवाने की भी मांग की है।

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Reporter : Sudhir Kumar

Related posts

मुजफ्फरनगर में पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़, एक घायल

Bharat Sharma

मेरठ : पिता ने थप्पड़ मारा तो पुत्र ने कर दी गोली मारकर हत्या

Sudhir Kumar

भदोही पुलिस का रिपोर्ट कार्ड: एक साल में 25 रेप, 15 हत्या

Sudhir Kumar