unbelievable moment capture when three son seen at same time
February, 23 2018 11:39
फोटो गैलरी वीडियो

कुदरत का करिश्मा, जब दिखाई दिए एक साथ तीन सूरज!

Shashank

By: Shashank

Published on: रवि 16 जुलाई 2017 04:56 अपराह्न

Uttar Pradesh News Portal : कुदरत का करिश्मा, जब दिखाई दिए एक साथ तीन सूरज!

दुनिया भर में आये दिन कई हैरान कर देने वाले नजारे हमें देखने को मिलते रहते है। ये सभी नजारे कुछ ऐसे होते है कि किसी को भी पहली बार में इसे सुनकर यकीन नहीं होगा कि क्या ऐसा भी हो सकता है। मगर इन सभी की पुष्टि कर पाना काफी कठिन होता है। बेटे दिनों कुछ ऐसा ही नजारा रूस में भी देखने को मिला। ये नजारा ऐसा था कि शायद किसी को भी इसे देखकर यकीन नहीं हुआ होगा। आज हम आपके लिए इस अद्भुत नजारे (moment) के बारे में पूरी जानकारी लेकर आये है।

ये भी पढ़ें, इस महिला ने अपने मंगेतर को भेजी ऐसी अजीबोगरीब ‘फोटो’ कि…

सामने आया आकाशीय नजारा (moment) :

  • बीते दिनों रूस में एक हैरान कर देने वाली घटना घटित हो गयी थी।
  • इस घटना के बाद से ही लोगो के बीच अफवाहों का दौर शुरू हो चुका है।
  • असल में एक चमत्कार की तरह आसमान में एक साथ तीन सूर्य दिखाई दिए थे।
  • वहाँ मौजूद लोगो ने ये नजारा देखते ही इसे कैमरे में रिकॉर्ड करना शुरू कर दिया था।
  • कुछ ने कहा कि ये भगवान का चमत्कार है तो कुछ लोगो ने कहा कि ये प्रलय आने का भी अंदेशा है।
  • ये पूरी घटना काफी देर तक लोगो की आँखों के सामने होती रही थी।

ये भी पढ़ें, वीडियो: इस शहर के एक्वेरियम में कैद है असली ‘जलपरी’!

  • मगर इस घटना की सच्चाई क्या है, ये हम आपको आज बताएँगे।
  • सभी को पता है कि धरती सूर्य की धुरी पर घूमती है और वह सौरमंडल का एक हिस्सा है।
  • धरती एक ही सूर्य की परिक्रमा करती है और हमारे सौरमंडल का एक ही तारा है।
  • यही नजारा फिर से कजाकिस्तान के बॉर्डर से कुछ दूर फिर से देखने को मिला था।
  • मौसम वैज्ञानिकों के हिसाब से ये घटना कुछ मौसम के प्रभाव के कारण ही घटित हुई है।

ये भी पढ़ें, तस्वीरें: दुनिया से दूर 130 फुट की ऊँचाई पर इस आदमी ने बनाया घर!

  • उन्होंने बताया कि इस घटना को वैज्ञानिक भाषा में ‘सनडॉग’ या ‘फैंटम सन’ कहते है।
  • असल में हवा में रहने वाले बर्फ के कणों के कारण ही ऐसा नजारा बनता है।
  • ये सभी कण इतने छोटे है कि कोई इन्हें आँखों से नहीं देख सकता है।
  • इसी कारण ये कण हमारी आँखों में दृष्टिभ्रम पैदा कर देते है।
  • रूस में भी जब ये घटना हुई थी तो तापमान -25 डिग्री के आस-पास था।

ये भी पढ़ें, पलक झपकते ही रेलवे की जानकारी देने वाले ऐप से लगा लोगों को झटका!

Shashank

नवाबो के शहर का वासी हूँ, पत्रकारिता में नया हूँ मगर बहुत आगे तक जाने का हौसला और भरोसा रखता हैं. राजनीति और खेल में खास रुचि है.