Home » UttarPradesh.Org साहित्य विशेष

Tag : UttarPradesh.Org साहित्य विशेष

व्यंग्य

व्यंग: ना छोड़ो ईरान !

Krishnendra Rai
सजग रहना भारत । ना छोड़ो ईरान ।। अमरीका का चक्कर । घटा देगा शान ।। रहे ख़रीदी जारी । तेल ईरान वाला ।। बच
व्यंग्य

व्यंग: समाजवाद विखराव!

Krishnendra Rai
हुए दो फाड़ । वर्चस्व की जंग ।। होना ये अलग । लाएगा उमंग ? फट गया पोस्टर । नेताजी नदारद ।। समाजवादी मोर्चा ।
व्यंग्य

व्यंग: कुर्सी ली अँगड़ाई ?

Krishnendra Rai
रैलियों का दौर । मंच हो रहे साझा ।। कोई मानसरोवर । और कोई ख्वाजा ।। सिंहासन की जंग । विरासत की लड़ाई ।। हवा
व्यंग्य

कविता: ऐ छप्पन इंच !

Krishnendra Rai
एक के बदले दस । जोश पड़ा ठंडा ? ऐ छप्पन इंच । कब उठेगा डंडा ? काँप रही रूह । ग़ुस्से में आवाम ।।