Home » Literature special poetry on

Tag : Literature special poetry on

व्यंग्य

व्यंग: ना छोड़ो ईरान !

Krishnendra Rai
सजग रहना भारत । ना छोड़ो ईरान ।। अमरीका का चक्कर । घटा देगा शान ।। रहे ख़रीदी जारी । तेल ईरान वाला ।। बच