Home » साहित्य विशेष

Tag : साहित्य विशेष

व्यंग्य

पनपाओ भाईचारा !

Krishnendra Rai
पनपाओ भाई-चारा । ना तुम भड़काओ ।। सड़ी-गली मानसिकता । घर रख कर आओ ।। माफ़ ना करेगा । तुमको ये मुल्क ।। गवाह है