Home » व्यंग

Tag : व्यंग

व्यंग्य

हादसा ये अमृतसर !

Krishnendra Rai
त्राहिमाम-त्राहिमाम । सस्ती हुई जान ।। घोर लापरवाही । हर लिए प्राण ।। असह्य अब पीड़ा । हादसा ये अमृतसर ।। जो भी ज़िम्मेदार ।
व्यंग्य

व्यंग: नैतिकता लाचार!

Krishnendra Rai
टूट रहे विधायक । जुट रही सरकार ।। जनसेवा हावी । नैतिकता लाचार ।। राजनीतिक अखाड़ा । पटखनी पर ज़ोर ।। हो जाना क़ाबिज़ ।
व्यंग्य

व्यंग: बेपटरी अब रेल

Krishnendra Rai
बेपटरी अब रेल । लापरवाही चरम ।। शक हो रहा रेलवे । ना निभाते धरम ।। मुआवज़ा-निलंबन । सुनते केवल कान ।। तरस गयीं आँखें
व्यंग्य

व्यंग: लूँगा अब नाम !

Krishnendra Rai
सियासी मजबूरी । लूँगा अब नाम ।। खिसका जनाधार । बोलो जयश्रीराम ।। बदली है रंगत । कायापलट जारी ।। असमंजस स्थिति । करूँ मैं
व्यंग्य

व्यंग: समाजवाद विखराव!

Krishnendra Rai
हुए दो फाड़ । वर्चस्व की जंग ।। होना ये अलग । लाएगा उमंग ? फट गया पोस्टर । नेताजी नदारद ।। समाजवादी मोर्चा ।
व्यंग्य

व्यंग: कुर्सी ली अँगड़ाई ?

Krishnendra Rai
रैलियों का दौर । मंच हो रहे साझा ।। कोई मानसरोवर । और कोई ख्वाजा ।। सिंहासन की जंग । विरासत की लड़ाई ।। हवा
व्यंग्य

व्यंग: कौन है विभीषण ?

Krishnendra Rai
चढ़ा सियासी पारा । बुआ और अजित  ।। शांतचित बबुआ । असमंजस घटित  ।। गठबंधन पर ग्रहण । टिकी हैं निगाहें ।। थम गयी एकता
व्यंग्य

व्यंग: हर वर्ग सिरमौर ?

Krishnendra Rai
भागवत उवाच । नया हिन्दुत्व ।। समझायी परिभाषा । मुसलमान महत्व ।। नागपुर तटस्थ । करता ना दखल ।। राजनीति से दूरी । नयी ये
व्यंग्य

व्यंग: चुनाव की ये बेला..

Krishnendra Rai
चुनाव की ये बेला  । दोषारोपण जारी  ।। उछालना कीचड़ । प्राथमिकता हमारी ।। भटक रहे मुद्दे । वादों की अनदेखी ? करना दो-दो हाथ
व्यंग्य

व्यंग: जानती ये दुनिया !

Krishnendra Rai
गर्म हुआ बाज़ार । माल्या और जेटली ।। केवल हैंडशेक । या चर्चा चली ? अगर इमानदार । तुम माल्या बाबू ।। था करना सामना