You Already Reviewed
राजनाथ सिंह के सांसद आदर्श ग्राम बेंती का #RealityCheck (Star Rating : 0)

बहुत ज़ोरों शोरों के साथ शुरू हुई नरेन्द्र मोदी की सांसद आदर्श ग्राम योजना अपने 4 साल पूरे कर चुकी है. इस योजना के तहत लोकसभा और राज्य सभा के सांसदों को अपने लोकसभा क्षेत्र या राज्य से हर साल एक गाँव को गोद ले कर उसे एक आदर्श गाँव बनाना था. नरेन्द्र मोदी की योजना का उद्देश्य 3 सालों में 2500 गांवों को आदर्श ग्राम बनाना था. इस योजना के द्वारा महात्मा गांधी के आदर्श गाँव के सपने को पूरा करना था. जब 11 अक्टूबर 2014 को प्रधान मंत्री के द्वारा इस योजना का प्रक्षेपण किया गया तब, बड़ी बड़ी बातें की गयीं, बड़े बड़े दावे किये गये.

पर पहले चरण के बाद ज्यादातर सांसदों ने दूसरा गाँव गोद लिया ही नहीं और जिन्होंने लिया भी वो वहां झाँकने तक नहीं गये. पहले चरण में ही गोद लिए गांवों की हालत में ज्यादा सुधार हो नहीं पाए हैं.

केंद्रीय गृह मंत्री द्वारा गोद लिया गाँव बेंती तो अपने मंत्री को देखने के लिए तरस गया है.

Rajnath Singh SAGY adopted village Benti

यहाँ न विकास का कोई नामो निशान है और न ही निकट भविष्य में विकास की कोई आशा. राजनाथ ने गाँव को गोद लेने की बस रसम निभाई है और इसके अलावा वे इस गाँव में सिर्फ एक बार गये थे, वो भी ओरिएण्टल बैंक ऑफ़ कॉमर्स का उद्घाटन करने. गृहमंत्री ने इसके बाद इस गाँव की कोई खोज खबर नहीं ली. यहाँ कई नल भी लगे जिसमें से पानी कभी नहीं आया. यहाँ की औरतों को पानी लेनें बहुत दूर जाना पड़ता है. गाँव की समस्याएं, जस की तस बनी हुईं हैं.

जब गृहमंत्री के गाँव गोद लेने की खबर बेंती के लोगों तक पहुंची तो लोगों की ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा. उन्हें लगा की अब उनके दिन फिरने वाले हैं. पर ऐसा कुछ नहीं हुआ. गाँव के प्रधान तक ने कोई काम नहीं किया है. ग्रामीणों की शिकायतों का भी किसी पर कोई असर नहीं हुआ है. यही वजह है की बेंती गाँव के निवासी ऐसी बदतर ज़िन्दगी जीने पर मजबूर हैं.

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

0

Leave a Comment

Related posts

Ram Pratap Verma

UP News Desk

Harishankar Mahor

UP News Desk

Jaya Bachchan

UP News Desk