You Already Reviewed
हुकुम सिंह के सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत सहारनपुर के सुखेरी गाँव का #RealityCheck (Star Rating : 0)

सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत जब सांसदों द्वारा गाँव गोद लिए गये तो बहुत से नेताओं और सांसदों पर यह आरोप लगा की वे ऐसे ही गाँव को गोद ले रहे हैं जहाँ या तो मुस्लिम आबादी है ही नहीं या न के बराबर है. पार्टी के ज्यादातर सांसदों और नेताओं ने यही रुख अपनाया. ऐसा ही आरोप कैराना के सांसद हुकुम सिंह पर भी लगा था. पर गाँव को गोद लेने में भेदभाव करने की क्या ज़रूरत थी? काम तो इन्हें कहीं भी नहीं करना था.

हुकुम सिंह ने भी एक गाँव को गोद ले कर उसे उसके हाल पर छोड़ दिया. इन्होने सहारनपुर जिले के नकुर ब्लाक के सुखेरी को गोद लिया था. पर 2017 तक यहाँ कोई बदलाव नहीं आये थे.

आलम यह है की हुकुम सिंह के द्वारा गोद लिए इस गाँव में अस्पताल न होने की वजह से दर्जनों मौतें हो चुकी हैं. एक परिवार के 3 पीढ़ी के तीन सदस्य बीमारी की चपेट में आ के मर गये. और इन बिमारियों का मुख्य कारण दूषित पेयजल और गन्दगी है. यहाँ पीने के लिए साफ़ पानी तक मौजूद नहीं है और स्वच्छ भारत अभियान मिशन तो यहाँ तक पहुंचा ही नहीं. इन समय भी दर्जन भर लोग बीमारी की वजह से ज़िन्दगी और मौत के बीच झूल रहे हैं.

सांसद जब यहाँ आये थे तब उन्होंने के अस्पताल का वादा किया था जो आज तक पूरा नहीं हुआ है.

2018 फ़रवरी में हुकुम सिंह की मृत्यु के बाद तो अब ये सपना सिर्फ सपना बन के रह गया है.

दूसरे चरण में तो हुकुम सिंह ने जो गाँव लिया उसकी हालत पहले से ही सुधरी थी. लोगों का आरोप है की वे बिना काम किये नाम बनाना चाहते थे. दूसरे साल में इन्होने शामली शमला को गोद लिया था.

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

0

Leave a Comment

Related posts

Naseemuddin Siddiqui

UP News Desk

Raja Ram

UP News Desk

Alka Rai

UP News Desk