Home » देश » नीतीश कुमार ने दलितों को दी आम्बेडकर जयंती पर सौगात

नीतीश कुमार ने दलितों को दी आम्बेडकर जयंती पर सौगात

facilities-available-to-mahadalits-will-now-be-available-to-all-dalits-in-bihar

लोजपा दलित संगठन ने दो भीमराव आम्बेडकर जयंती पर एक समारहो का आयोजन किया जिसमे सी एम् नितीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशिल मोदी,केंद्र मंत्री रामविलास पासवान, रविशंकर प्रसाद और उपेन्द्र कुशवाहा वहा उपस्तिथि थे.  

महादलितों को मिलने वाली सुविधाए अब मिलेगी सुब दलितों को.

सी एम् नितीश कुमार ने ये घोषणा कि,महादलितों को मिलने वाली तमाम सुविधाएं और उनकी योजनाओं का लाभ अब सारे दलितों को मिलेगा इन सुविधाओं से अब कोई भी दलित वंचित नही होगा और इसकी परिधि से कोई बाहर नहीं रहेगा.अबतक पासवान समाज के लोग जिस लाभ और सुविधाये से वंचित थे उन्हें उन सारी सुविधाये का लाभ प्राप्त होगा. आम्बेडकर जयंती समारोह में यह ऐलान किया है कि लोजपा के प्रदेश अध्यक्ष पशुपति पारस ने पासवान वर्ग के लिए महादलित वाली सुविधाएं मांगी थीं।

सीएम ने चौकीदारों व दफादारों को भी सौगात दी है और कहा कि वे रिटायरमेंट के 4 माह पहले एक पात्र लिखकर देंगे तो उनके परिजन को उनकी जगह नियुक्त किया जाएगा. सीएम ने उनके पोशाक भत्ते को भी बढ़ाने की घोषणा की उन्का कहना है अब चौकीदारों को हर साल 3 हजार की जगह 4 हजार और दफादारों को 8 हजार रुपए मिलेंगे. सीएम ने एससी-एसटी-पिछड़े-अति पिछड़े-अल्पसंख्यक छात्रावास में रहनेवालों को बीपीएल दर पर अनाज देने व उन्हें विशेष आर्थिक सहायता देने का एेलान किया था. उनका खाना है की यह छात्रवृत्ति से अलग होगा.

नीतीश ने कहा-15 साल तक शासन करने वाले पति-पत्नी को आज दलित याद आ रहे हैं

सीएम ने आरक्षण मुद्दे के विरोधियों को निशाने पर लेते हुए ये कहा की किसी में इतना दम नहीं कि वो आरक्षण को खत्म कर सके. इसके नाम पर बस लोगो में अफवा ही खड़ा किया जा रहा है. उन्होंने नाम लिये बगैर लालू प्रसाद को कटघरे में खड़ा कर दिया और कहा 15 वर्षों तक पति-पत्नी ने पुरे प्रदेश में अपना साशन किया पर उन्होंने दलितों के लिए क्या किया है क्या तब इन्हें इन दलितों की यद् नही आई थी. इनका खाना है कि लालू प्रसाद ने पंचायतों में आरक्षण क्यों नहीं दिया? आज आरक्षण के हिमायती बन रहे हैं. हमारी सरकार बनी तो हमने पंचायतों में आरक्षण का प्रावधान शिखा रहे है.
वर्ष 2005-06 में दलित छात्रों पर महज 32 करोड़ खर्च होते थे, आज 428 करोड़ खर्च हो रहे. एससी कल्याण विभाग का बजट मात्र 40 करोड़ का था और आज 1550 करोड़ का है.

रामविलास पासवान बोले- न्यायपालिका में आरक्षण के लिए आंदोलन करेंगे

लोजपा सुप्रीमो रामविलास पासवान ने कहा है कि अब न्यायपालिका में आरक्षण के लिए आंदोलन होगा। लंबे समय से इसकी मांग होती रही है? वे बतौर केन्द्रीय मंत्री नहीं, लोजपा प्रमुख होने के नाते आंदोलन की वकालत कर रहे हैं।

सुशील मोदी बोले-आरक्षण बाबा साहेब और गांधी की देन, नहीं खत्म होगा

आरक्षण आंबेडकर व गांधी की देन हैं। इसे कोई ताकत खत्म नहीं कर सकती है। अनुसूचित जाति-जनजाति अत्याचार निवारण कानून 1989 में उस बी. पी. सिंह की सरकार ने बनाई, जिसमें भाजपा भी शामिल थी.

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Reporter : facilities-available

Related posts

Karnataka Opinion Poll: कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी पर बहुमत किसी को नहीं

Shivani Awasthi

चारा घोटाला: आज सुनाई जाएगी लालू यादव को सजा

Kamal Tiwari

‘संविधान बचाओ’ अभियान की शुरुआत, दलित वोटों पर राहुल गाँधी की नजर

Shivani Awasthi

Leave a Comment