Home » देश » सवर्णों/ओबीसी के कथित भारत बंद पर सरकार अलर्ट, जारी की एडवाइज़री

सवर्णों/ओबीसी के कथित भारत बंद पर सरकार अलर्ट, जारी की एडवाइज़री

bharat-bandh-MHA-issue-advisory-to-state-governments

सोशल मीडिया पर 10 अप्रैल को बुलाए गए भारत बंद की खबरों के बीच गृह मंत्रालय ने अडवाइज़री जारी कर सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से कहा है कि वे किसी भी तरह की हिंसक घटना और अन्य गतिविधियों को रोकने के लिए सुरक्षा बढ़ा दें। साथ ही गृह मंत्रालय ने कहा है कि जरूरत पड़ने पर हिंसा को रोकने के लिए वे तमाम ऐक्शन ले सकते हैं।

10 अप्रैल को भारत बंद के मेसेज हो रहे वायरल:

2 अप्रैल को को दलितों द्वारा बुलाये भारत बंद के बाद से ही सोशल मीडिया पर कुछ समूहों द्वारा सवर्णों के भारत बंद का आवाहन किया ja रहा है.10 अप्रैल को होने वाले इस कथित भारत बंद के मैसज सोशल मीडिया में विस्तार से प्रसारित हो रहे है. भारत बंद के इस मैसेज को सरकार हल्के में नहीं लेना चाह रही है। गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों के लिए एक एडवाइजरी जारी की है। गृह मंत्रालय की ओर से सभी राज्‍यों को जारी एडवाइजरी में निर्देश दिया गया है कि कानून व्‍यवस्‍था को बनाए रखें। मंत्रालय ने सभी राज्यों से इसके मद्देनजर सुरक्षा के लिए जरूरी कदम उठाने को कहा है। राज्यों से सभी संवेदनशील जगहों पर गश्त तेज करने को कहा गया है।

इस बंद को लेकर गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों को किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिये उचित इंतजाम करने को कहा है। साथ ही जरूरत पड़ने पर धारा 144 लगाने के भी निर्देश दिए हैं। गृह मंत्रालय ने कहा कि अपने इलाके में होने वाली किसी भी हिंसा के लिये जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार होंगे।

वहीं  हापुड़ में कल होने वाले भारत बंद के मद्देनजर ऐहतियातन आज शाम 6 बजे से 24 घंटे के लिए इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया गया है।  बता दें कि एससी/एसटी एक्ट के विरोध में दलित समुदाय ने दो अप्रैल के भारत बंद बुलाया था। यह बंद कई राज्यों में हिंसक हो गया था। जिसमें 12 लोगों की मौत हो गई थी।

इस बंद के बाद सोशल मीडिया पर एक मैसेज वायरल हो रहा था। जिसमें 10 अप्रैल को फिर से भारत बंद करने की अपील की गई थी। साथ ही इस बंद के समर्थन में ओबीसी और सवर्णों को भी साथ आने का अह्वान किया गया है।

दो अप्रैल को दलितों द्वारा बुलाए गए भारत बंद में मध्य प्रदेश में भारी हिंसा देखने को मिली थी। यहां के तीन जिलों ग्वालियर, मुरैना और भिंड में हुई हिंसा में 8 लोगों को मौत हुई थी। ऐसे में प्रशासन 10 अप्रैल को प्रस्तावित कथित भारत बंद और 14 अप्रैल को डॉ बीआर रामजी आम्बेडकर की जयंती को देखते हुए किसी भी तरह की ढील नहीं बरतना चाह रहा है।

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Reporter : bharat-bandh-MHA-issue-advisory-to-state-governments

Related posts

आज चौकीदार शब्द देशभक्ति का पर्याय बन गया है: पीएम नरेन्द्र मोदी

UP ORG DESK

महागठबंधन पर अखिलेश ने दिया बड़ा बयान, फिर से कांग्रेस को दी जिम्मेदारी

Shashank

ब्रिटेन और भारत के बीच तकनीकी, व्यापार और निवेश समेत नौ समझौतों पर दस्तखत

Shivani Awasthi