Home » मध्यप्रदेश : क़र्ज़ के बोझ तले 40 वर्षीय किसान ने ज़हर खाकर दी जान!
Top News

मध्यप्रदेश : क़र्ज़ के बोझ तले 40 वर्षीय किसान ने ज़हर खाकर दी जान!

mp farmer suicide

मध्यप्रदेश के किसानों द्वारा बीते एक लंबे समय से आंदोलन किया जा रहा है. बता दें कि यह आंदोलन किसानों द्वारा सरकार से ऋण मुक्ति और मुआवज़े की मांग को लेकर किया जा रहा है. इस दौरान किसानों द्वारा लगातार क़र्ज़ के बोझ तले अपनी जान दी जा रही है.

किसान का नाम जगदीश मोरी :

  • मध्यप्रदेश में किसानों द्वारा एक लंबे समय से आंदोलन किया जा रहा है.
  • बता दें कि यह आंदोलन किसानों द्वारा अपनी ऋण मुक्ति और मुआवज़े की मांग को लेकर किया गया.
  • आपको बता दें कि इस आंदोलन के दौरान मंदसौर में किसानों के साथ हिंसा भी हो गयी थी.
  • इस दौरान पुलिस से झड़प में फायरिंग के चलते पांच किसानों की मौत हो गयी थी.
  • जिसके बाद इनके परिवार वालों ने किसानों के शवों को सड़क पर रखकर चक्का जाम किया था.
  • बता दें कि इस दौरान मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान द्वारा इन किसानों के परिवारों से भी मुलाक़ात की गयी थी.
  • परंतु अब तक इस दिशा में कोई ऐलान होता नज़र नहीं आ रहा है.
  • जिसके बाद यहाँ आये दिन किसान ऋण के बोझ से दबे होने के चलते मौत को गले लगा रहे हैं.
  • आपको बता दें कि अब तक मध्यप्रदेश में बीते 60 घंटों में 10 किसान आत्महत्या कर चुके हैं.
  • बीते दिन भी एक किसान द्वारा ज़हर खाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली गयी.
  • बता दें कि इस किसान का नाम जगदीश मोरी है जो ऋण के बोझ को सह ना सका.
  • जिसके बाद उस किसान को आत्महत्या के अलावा कोई और रास्ता सामने नहीं दिख सका है.
  • आपको बता दें किसान पूरे देश के अन्नदाता होते हैं जो कड़ी धुप में अपना बदन जलाते हैं.
  • ऐसा इसलिए ताकि देश का कोई भी व्यक्ति भूख से ना मरे यदि we खेती करना छोड़ दें तो देश भूखा रह जाए.
  • परंतु देश उनके हित में ज़्यादा कुछ नहीं कर पा रहा है और इस कारण यह सब हो रहा है.

यह भी पढ़ें : बिजबेहा मुठभेड़ : सेना ने मार गिराए तीन आतंकी, हथियार बरामद!

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

डॉक्टर ने राम रहीम को लेकर किया चौकाने वाला खुलासा

Praveen Singh

गुजरात से गिरफ्तार हुए 2 आतंकी करना चाहते थे ‘लोन वुल्फ’ हमला!

Vasundhra

केंद्रीय गृहमंत्री की तबियत बिगड़ी, गौशालाओं के राष्ट्रीय सम्मलेन में नहीं हुए शामिल!

Divyang Dixit