Home » शहीद नितिन यादव को नम आंखों से दी गई विदाई
Top News

शहीद नितिन यादव को नम आंखों से दी गई विदाई

nitin-yadav

रविवार को बारामूला कैंप पर हुए हमले में शहीद हुआ था नितिन यादव. अंतिम संस्कार में उमड़ी भीड़, पिता बोले- शहादत पर गर्व.

मंगलवार को पैतृक गांव में हुआ अंतिम संस्कार-

  • बारामूला के सैनिक कैंप पर हुए आतंकी हमले में शहीद नितिन यादव का उनके गांव नंगलाबरी में अंतिम संस्कार हुआ.
  • राजकीय सम्मान के साथ नितिन की अंत्येष्टि हुई.
  • शहीद के अंतिम संस्कार में शामिल होने सपा के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव पहुंचे थे.
  • उन्होंने नितिन के परिजनों को सांत्वना दी.

हर शख्स की आँखों में थे आंसू-

  • शहीद नितिन यादव का शव जब इटावा के उसके नंगलाबरी गांव पंहुचा तो हर शख्स रो पड़ा.
  • मां के आंसू थम नहीं रहे थे, पिता के लिए अपने छोटे बेटे नितिन का मुंह देखना मुश्किल था.
  • गांव के इस लाल को अंतिम विदाई देने के लिए पूरा गांव उमड़ा पड़ा.
  • नितिन की इस शहादत पर घरवालों के साथ-साथ पूरे गांव को भी गर्व है.

दिवाली में आने की कही थी बात-

  • 24 साल का नितिन यादव अपने दोनों भाइयों में छोटा था.
  • दो दिन पहले ही उसने अपनी मां से बात कर दिवाली में आने की बात कही थी.
  • नितिन तो नहीं आया लेकिन उसका पार्थिव शरीर आया.
  • बीएसएफ ने परिवार को बताया कि नितिन की बहादुरी की वजह से बारामूला कैंप में बड़ा आतंकी हमला टल गया.

एक महीने पहले ही भेजा गया था बारामूला-

  • गौरतलब है कि वर्ष 2013 में नितिन बीएसएफ में भर्ती हुए थे.
  • उनकी पहली तैनाती महाराष्ट्र में हुई थी.
  • इसके बाद वह बंगाल सीमा पर तैनात हुए.
  • एक महीने पहले नितिन को जम्मू एवं कश्मीर के बारामूला भेजा गया था.

 

यह भी पढ़ें: बारामुला हमला: महज़ 24 वर्ष का था बीएसएफ़ का नौजवान नितिन!

यह भी पढ़ें: आतंक के इंफ्रास्ट्रक्चर को खत्म करने के लिए सेना बना रही लंबे समय तक सर्जिकल स्ट्राइक की योजना

यह भी पढ़ें: पाक क्रिकेट टीम के कप्तान शाहिद अफरीदी ने दी भारत को चेतावनी

 

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

Related posts

उत्तर प्रदेश चुनाव -आखिर महागठबंधन से भाजपा को क्यों डरना चाहिए?

Prashasti Pathak

जानें किन-किन देशों में मनाई जाती है महाशिवरात्रि का पर्व!

Deepti Chaurasia

15 मई : जानें इतिहास के पन्नों में आज का दिन क्यों है ख़ास!

Vasundhra