आम बजट 2018: जनता ने नकारा कहा- सरकार ने दिया केवल लॉलीपॉप

संसद में आम बजट गुरुवार सरकार ने बजट के जरिये जनता को 2019 में होने वाले लोक सभा चुनाव के लिए अपने पाले में लाने की कोशिश की हो लेकिन जनता ने इस बजट को नकार दिया है। जनता ने रिएक्शन देते हुए सरकार को आड़े हाथों लेते हुए इसे ठगने जैसा करार दिया है।

बजट में जनता को मिला लॉलीपॉप

aam budget 2018 reaction

लखनऊ के हजरतगंज में रहने वाले अनिल के अंकुर ने कहा कि मोदी सरकार ने बजट के नाम पर सिर्फ लॉलीपॉप दिया है। इस बजट के जरिए जनता को लोकसभा चुनाव 2019 के लिए सिर्फ साधने की कोशिश की गई है। बजट में दिखावा के रूप में काफी कुछ किया गया है, लेकिन अगर जमीनी स्तर पर यह लागू हो जाए तो जनता का भला हो सकता है। फिलहाल ऐसा होने वाला नहीं।

यूपी में बेरोजगारी, पलायन कर रहे युवा

aam budget 2018 reaction-1

कृष्णानगर में रहने वाले दीक्षांत शर्मा ने कहा कि प्रदेश में युवाओं का पलायन हो रहा है। राजधानी लखनऊ में आईटी सिटी तो बनी है लेकिन आईटी कंपनियां निवेश करने को तैयार नहीं है। इसलिए युवा राज्य के बाहर जा रहे हैं। सरकार ने युवाओं के लिए ज्यादा कुछ खास नहीं किया। सरकार ने अपने बारे में ही सोचा है, बजट मिडिल क्लास परिवार के लिए निराशाजनक है।

महिला सुरक्षा के लिए बजट में कुछ नहीं

aam budget 2018 reaction-5

समाजसेवी ऊषा विश्वकर्मा ने बताया महिला सुरक्षा के लिए भी बजट में कुछ खास नहीं किया गया। महिलाओं को सिर्फ गैस कनेक्शन देने का दावा किया गया है। बजट के जरिए बजट में कानून-व्यवस्था जैसी कोई खास चीज देखने को नहीं मिली। अगर यह बजट जमीनी स्तर पर लागू हो तो कुछ सही हो सकता है लेकिन ऐसा होने वाला नहीं।

पुलिस के लिए भी कुछ नहीं, पुलिसकर्मी निराश

aam budget 2018 reaction-2

उत्तर प्रदेश पुलिस में सब इंस्पेक्टर संजय कुमार गुप्ता ने बताया कि पुलिस के लिए बजट में कुछ भी नहीं है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति, राज्यपाल का वेतन बढ़ा दिया गया। दिन रात सेवा करने वाली पुलिस को सिर्फ सरकार ने झुनझुना थमा दिया है। बजट के जरिए आम आदमी को राहत नहीं दी गई है।

आम बजट पर एक नजर

-10 करोड़ गरीब परिवारों को कवर करने के लिए सरकार की स्वास्थ्य योजना दुनिया की सबसे बड़ी सरकारी वित्त पोषित स्वास्थ्य सुरक्षा योजना है।
-अरुण जेटली ने इंडेक्सेशन के बिना एक लाख रुपये से अधिक 10% से अधिक कर के लिए दीर्घकालिक पूंजी लाभ कर के प्रस्ताव का प्रस्ताव दिया।
-इलेक्ट्रॉनिक आईटी मूल्यांकन पूरे देश में बढ़ेगा, जिससे अधिक दक्षता और पारदर्शिता हो सकती है।
-उन पर कस्टम ड्यूटी के तौर पर मोबाइल फोन महंगा हो गया है, जो बढ़ाकर 20 फीसदी कर दिया गया है।
-स्वास्थ्य और शिक्षा उपज को बढ़ाकर 4 प्रतिशत कर दिया गया है।
-वरिष्ठ नागरिकों के लिए, बैंक जमा पर ब्याज आय से छूट 50,000 रुपये तक पहुंच गई।
-इक्विटी ओरिएंटेड म्युचुअल फंडों द्वारा वितरित आय पर 10 प्रतिशत पर कर लगाने का प्रस्ताव है।
-परिवहन और चिकित्सा व्यय के लिए वेतनभोगी कर्मचारियों के लिए 40,000 रुपये का मानक कटौती।
– 250 करोड़ रुपए के कारोबार के साथ 25 प्रतिशत पर कर लगाने वाली कम्पनियां।
– अरुण जेटली का कहना है कि सरकार इस वर्ष वेतनभोगी वर्ग के लिए कर स्लैब में कोई भी बदलाव नहीं पेश करती है।
– 2018-19 के लिए जीडीपी के 3.3% की राजकोषीय घाटे का प्रस्ताव करता है।
– वित्त मंत्री अरुण जेटली ने निम्नलिखित संरचना के अनुसार मूल्यवृद्धि को संशोधित करने का प्रस्ताव दिया है।
– भारत के राष्ट्रपति के लिए 5 लाख रुपये।
– उपाध्यक्ष के लिए 4 लाख रुपये।
– गवर्नर्स के लिए 3.5 लाख रुपये।
– जेटली ने भी हर पांच सालों में सांसदों के प्रतिपूर्ति का स्वत: संशोधन किया है, जो मुद्रास्फीति को अनुक्रमित करता है।
– हमने पहले ही अपने विनिवेश लक्ष्य को पार कर लिया है, अरुण जेटली की घोषणा। 2017-18 के लिए विनिवेश लक्ष्य पार कर गया है और 1 लाख करोड़ तक पहुंच जाएगा।
2018-19 के लिए लक्ष्य 80,000 करोड़ रुपये है।
– आसान इंटरनेट पहुंच प्रदान करने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में 5 लाख वाईफाई हॉटस्पॉट स्थापित किए जाएंगे।
– सरकार क्रिप्टोक्यूर्यूज के उपयोग को खत्म करने के लिए सभी कदम उठाएगी जो नाजायज़ लेनदेन को निधि दे रहे हैं।
– सरकार ने 500 शहरों में सभी परिवारों को पानी की आपूर्ति पर ध्यान देने के लिए अमृत कार्यक्रम की घोषणा की। 1 9, 428 कोर के 494 परियोजनाओं के लिए जल आपूर्ति अनुबंध को सम्मानित किया जाएगा।
– राष्ट्रीय उद्योग विकास के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के क्षेत्र में हमारे प्रयासों को निदेश देने के लिए राष्ट्रीय कार्यक्रम स्थापित करेगा।
– प्रत्येक वर्ष 1 अरब यात्राओं को संभालने के लिए हवाई अड्डे की क्षमता बढ़ाई जा सकती है
– अरुण जेटली का कहना है कि 201 9 तक 4,000 किलोमीटर तक नया रेलवे ट्रैक निर्धारित किया जाएगा।
– सभी रेलवे स्टेशन 25,000 से अधिक एस्केलेटर के लिए पैदल चलने वाले स्टेशन कहते हैं, वित्त मंत्री ने कहा-मुंबई परिवहन को 40,000 करोड़ रुपये का लाभ मिलता है।
– सरकार पूरे देश में 600 प्रमुख रेलवे स्टेशनों के पुनर्विकास का काम करेगी।
– अरुण जेटली ने 2018-19 में भारतीय रेलवे के लिए 1,48,528 करोड़ रुपये का पूंजीगत व्यय घोषित किया।
– राष्ट्रीय विरासत शहर विकास वृद्धि योजना देश में विरासत शहरों को बनाए रखने और संरक्षित करने के लिए की गई है।
– सभी क्षेत्रों में नए कर्मचारियों के लिए ईपीएफ योगदान का 12 प्रतिशत योगदान करने के लिए सरकार।
– बुनियादी ढांचा अर्थव्यवस्था की विकास दर है।
– प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत उधार देने के लिए 3 लाख करोड़ का लक्ष्य।
– एमएसएमई उद्यम विकास के लिए एक प्रमुख तत्व हैं। उन्होंने यह भी कहा कि एमएसएमई क्षेत्र का जन औपचारिकरण राजनैतिकरण और जीएसटी के बाद हो रहा है।
– 10 करोड़ गरीब परिवारों को कवर करने के लिए सरकार स्वास्थ्य योजना शुरू करेगी, अरुण जेटली कहते हैं।
– सरकार धीरे-धीरे धीरे-धीरे सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज की तरफ बढ़ रही है।
– जन धन योजना के तहत 60 करोड़ बैंक खाते लाने का सरकार का लक्ष्य है।
– अनुसूचित जनजाति आबादी के लिए एकलव्य विद्यालय शुरू करने के लिए: वित्त मंत्री।
– इलाज के तहत तपेदिक रोगियों को आवंटित 600 करोड़ रुपये।
– सरकार योजना और वास्तुकला के दो नए स्कूलों की स्थापना करेगी।
– मस्तिष्क की नाली से निपटने के लिए, जेटली ने प्रीमियर इंजीनियरिंग संस्थानों में बी टेक का पीछा करने वाले उज्ज्वल छात्रों की पहचान करने और आईआईटी और आईआईएससी में उच्च शिक्षा के अवसर प्रदान करने की योजना की घोषणा की। इन छात्रों को सुंदर फेलोशिप मिलेगी, और साप्ताहिक उच्च शिक्षा संस्थानों में पढ़ाने के लिए कुछ घंटों को समर्पित करने की उम्मीद की जाएगी।
– वडोदरा में विशेष रेलवे विश्वविद्यालय स्थापित किया जाएगा।
– जेटली ने शिक्षकों के लिए एकीकृत बीएड कार्यक्रम का प्रस्ताव दिया: “सेवा के दौरान शिक्षकों को प्रशिक्षण देना आवश्यक है।” शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार करने में प्रौद्योगिकी सबसे बड़ी चालक होगी।
– बजट में सभी विधवाओं और अनाथ बच्चों के लिए सामाजिक सुरक्षा और सुरक्षा कार्यक्रम के लिए पैसा आवंटित करता है।
– 2022 तक सभी भारतीयों को अपने घरों में उपलब्ध कराने का हमारा लक्ष्य है।
– लक्ष्य को बढ़ाने के लिए उज्ज्वला योजना, अब 8 करोड़ ग्रामीण महिलाओं को मुफ्त एलपीजी कनेक्शन मुहैया कराएगा।
– दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण चिंता का विषय रहा है, सरकार ने पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और एनसीटी दिल्ली में फसल के अवशेषों के प्रबंधन के लिए सब्सिडी वाली मशीनरी का प्रस्ताव किया है।
– भारत सरकार स्थानीय किसानों द्वारा खरीदा जाने वाली अधिशेष सौर ऊर्जा खरीदने के लिए राज्य सरकार के उपायों के लिए आवश्यक कदम उठाएगा।
– ‘ऑपरेशन फ्लड’ की तर्ज पर ‘ऑपरेशन ग्रीन’ के लिए अरुण जेटली ने 500 करोड़ रुपये की राशि का प्रस्ताव रखा है।
– खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र प्रतिवर्ष 8 प्रतिशत की औसत पर जा रहा है।
– हम वर्षों से यह कह रहे हैं कि भारत मुख्य रूप से एक कृषि देश है: जेटली।
– कृषि उत्पादों की न्यूनतम समर्थन मूल्य पर अरुण जेटली: केवल एमएसपी बढ़ाने के लिए पर्याप्त नहीं है, सरकार कृषि उत्पादों के एमएसपी को बाजार दर से 1.5 गुना तक तय करेगी।
– हमारा जोर किसानों के लिए उच्च लाभ और उत्पादक रोजगार पैदा करने पर है।

जेटली ने अपने बजट भाषण में कृषि क्षेत्र को संबोधित करते हुए कहा कि हमारी सरकार ने ईमानदारी से काम किया है, और राजनीतिक खर्चों के वजन के बिना, उम्मीद करते हुए कि लोगों को उनके दरवाजे पर लाभ पहुंचाया जाता है। भारत का प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण प्रणाली एक सफल कहानी है जिसे दुनिया भर में दोहराई गई है। जेटली ने कहा- इस साल के बजट में विशेष रूप से कृषि पर ध्यान दिया जाएगा। वित्त मंत्री ने यह भी बताया कि भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक है। अरुण जेटली ने कहा, हमारी सरकार ने मई 2014 में भारतीय अर्थव्यवस्था से बहुत अच्छा प्रदर्शन किया है।

UTTAR PRADESH NEWS की अन्य न्यूज पढऩे के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें
Next Post