ये सियासत नही संवेदना का वक्त है- CM योगी

ये सियासत नही संवेदना का वक्त है- CM योगी

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार 13 अगस्त को बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज पहुंचे थे, जहाँ उन्होंने शुक्रवार को ऑक्सीजन की सप्लाई बंद होने से हुई करीब 50 लोगों की मौत की जानकारी ली, साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इन्सेफ्लाइटिस वार्ड का भी निरीक्षण किया। साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कॉलेज प्रशासन के अधिकारियों के साथ एक बार फिर से बैठक की।बैठक के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रेस कांफ्रेंस(yogi press conference) को संबोधित किया।इस दौरान प्रेस कांफ्रेंस में केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे.पी. नड्डा भी प्रेस कांफ्रेंस में मौजूद थे।

BRD मेडिकल कॉलेज के निरीक्षण के बाद CM योगी की प्रेस कांफ्रेंस(yogi press conference):

प्रकरण की जांच बहुत आवश्यक है(yogi press conference):

  • इस घटना से बहुत दुखी हूँ।
  • इस प्रकरण की जांच बहुत आवश्यक है।
  • प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे.पी. नड्डा को यहाँ भेजा है।
  • पीएम मोदी ने हर संभव मदद का आश्वासन दिया है।
  • 1996 से मैं इंसेफेलाइटिस की लड़ाई लड़ रहा हूँ।

वीडियो(yogi press conference):

https://www.youtube.com/watch?v=3ixeV7JtK1k&feature=youtu.be

बच्चों के लिए मैं सड़क से संसद तक लड़ा हूँ(yogi press conference):

  • मैं आप से अनुरोध करता हूँ कि आप सभी वार्डों में जाइए।
  • बच्चों के लिए मैं सड़क से संसद तक लड़ा हूँ।
  • मैं ये कहना चाहता हूँ कि, सही तथ्यों को पता लगाकर ही रिपोर्टिंग करनी चाहिए।
  • आप लोगों को वार्ड में जाकर रिपोर्टिंग करनी चाहिए बाहर से नही।

फेक रिपोर्टिंग नहीं वास्तविक रिपोर्टिंग हो(yogi press conference):

  • आप सब एक बार वार्ड में जाकर देखिए और वास्तविक स्थिति जानिए।
  • फेक रिपोर्टिंग नही वास्तविक रिपोर्टिंग हो।
  • आप लोग वार्ड में जाकर देखे तब खबर चलाएं,
  • जनता को भी पता चलना चाहिए कि BRD में इलाज हो रहा है या नरसंहार हो रहा है।
  • लेकिन रिपोर्ट आने दें उसके बाद दोषी के खिलाफ निश्चित रूप से कार्यवाही होगी।
  • भारत सरकार के डॉक्टरों की टीम यहाँ आयी है।
  • ये सियासत नही संवेदना का वक्त है।

कांग्रेस की संवेदनाएं मर चुकी हैं(yogi press conference):

  • गुलाम नवी आज़ाद ने मंत्री रहते हुए कहा था कि BRD के लिए हम कुछ नही कर सकते।
  • जिनकी खुद संवेदनायें मर गई हों वे अब राजनीति कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें: BRD मामले में नया मोड़, एक टेंडर कैंसिल नहीं, दूसरा जारी!

Share it
Share it
Share it
Top