PM मोदी ने इमरजेंसी के दौरान कुछ ऐसा बनाया था ‘हुलिया’

1

आज 17 सितंबर को पीएम मोदी का 67वां जन्मदिन है और अपने जन्मदिन के अवसर पर मां का आशीर्वाद लेने के बाद मोदी ने 56 साल लंबे इंतजार को पूरा किया है. आज Uttarpradesh.org आपको इमरजेंसी के दौरान प्रधानमंत्री मोदी (amazing facts prime minister) के कुछ ऐसे हैरान कर देने वाले अनसुने किस्से सुनाने जा रहा है. जो आज तक किसी को नहीं पता है.

अगले पेज पर पढ़ें ये पूरी खबर…

इमरजेंसी के दौरान मोदी ने ऐसे गुजारे दिन (amazing facts prime minister):

  • आपको बता दें कि 42 साल पहले जब देश में इमरजेंसी की घोषणा हुई थी.
  • उस समय नरेंद्र मोदी (amazing facts prime ministe) गुजरात लोक संघर्ष समिति (GLSS) का हिस्सा रहे थे.
  • बता दें कि संगठन संभालने के उनके कौशल को देखते हुए उन्हें इस समिति का महासचिव बनाया गया था.

3

  • नरेंद्र मोदी हमेशा से ही विपरीत परिस्थितियों को हैंडल करना बखूबी जानते थे.
  • आपको बता दें कि जिस दिन इंदिरा गांधी के खिलाफ कोर्ट का फैसला आया था.
  • वहीँ उसी दिन ये जानकारी भी आई कि गुजरात में सत्तारूढ़ कांग्रेस विधानसभा चुनावों में हार गई है.
  • उस समय इंदिरा गाँधी ने खुद को गुजरात की बहू बताकर वोट मांगे थे.

ये भी पढ़ें, धूमधाम से मनाया गया पीएम मोदी का 67वां जन्मदिन

  • लेकिन गुजरात की जनता उनके भ्रामक प्रचार में नहीं आई उअर उन्हें बहार का रास्ता दिखा दिया था.
  • वहीँ आपातकाल लागू होने के बाद तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने आरएसएस पर प्रतिबंध लगाने का फैसला कर लिया था.
  • इसी दौरान अरएसएस नेता केशव राव देशमुख को गुजरात में अरेस्ट कर लिये गए थे.

2

  • आपको बता दें कि इसके बाद ही नरेंद्र मोदी ने आपातकाल के खिलाफ मोर्चा थामा था.
  • वहीँ मोदी ने इसे एक चुनौती की तरह लिया था.
  • मोदी ने एक स्वयंसेवक बहन की मदद से डॉक्युमेंट्स को हासिल करने का प्लान बनाया था .
  • बता दें कि मोदी इस स्तर पर सक्रिय हो चुके थे कि उनके पकड़े जाने का खतरा भी हो सकता था.
  • इसीलिए उन्होंने कई बार अपने वेश भी बदले ताकि पहचान में ना आ सकें.
  • आपको बता दें कि मोदी कभी वो एक सीधे-सादे सरदार बन जाते थे तो किसी दिन एक दाढ़ी वाले बुजुर्ग बने थे.

1

मगरमच्छ के चंगुल से ऐसे निकले ‘मोदी’, जाने इनके अनोखे किस्से

आज 17 सितंबर को पीएम मोदी का 67वां जन्मदिन है और अपने जन्मदिन के अवसर पर मां का आशीर्वाद लेने के बाद मोदी ने 56 साल लंबे इंतजार को पूरा किया. वहीँ आज Uttarpradesh.org आपको प्रधानमंत्री मोदी (prime minister narendra modi) के कुछ ऐसे हैरान कर देने वाले अनसुने किस्से सुनाने जा रहा है. जो आज तक किसी को नहीं पता है.

अगले पेज पर पढ़ें ये पूरी खबर…

मोदी के अनसुने किस्से (prime minister narendra modi):

  • आपको बता दें कि आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (prime minister narendra modi) का 17 सितंबर को 67वां जन्मदिन है.
  • वहीँ आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 67 साल के हो गए हैं.

1

  • उनके पीएम बनने के बाद सोशल मीडिया पर मोदी जी कि कई सारी अनसुनी कहानियां भी फेमस हई है.
  • मोदी जी के जीवन की कहानियां किसी फिल्म से कम नहीं है.

2

  • जी हां आज हम आपको मोदी जी का एक ऐसा ही किस्सा बताने वाले हैं.
  • जिसे आपने शायद ही पहले कभी सुना होगा.

मगरमच्छ के चंगुल से निकले मोदी:

  • आपको बता दें कि मोदी जब छोटे थे तो वे गुजरात के शार्मिष्‍ठा झील में अक्‍सर खेलने जाया करते थे.
  • लेकिन उन्‍हें पता नहीं था कि उस झील में मगरमच्‍छ काफी संख्‍या में हैं.

3

  • वहीँ एक बार एक मगरमच्‍छ ने खेलते हुए मोदी को पकड़ने की कोशिश की थी.
  • आपको बता दें कि इस दौरान उन्‍हें गंभीर चोटें भी आईं थी.
  • लेकिन फिर भी वह उसके चंगुल से बाहर निकल गए थे.

नाटक में भी थी इनकी रूचि:

  • आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को स्‍कूल के दिनों में नाटक करना खूब पसंद था.
  • इसीलिए वह युवावस्था में लोगों की मदद करने के लिए भी नाटकों में हिस्‍सा लिया करते थे.
  • हमेशा से ही अपने नाटकों के माध्यम से सभी को हैरान कर देते थे.

ये भी पढ़ें, PM जन्मदिन: विधानसभा के सामने आतिशबाजी करेगी BJP!

अल्पसंख्यक विभाग नहीं लिख पाया देश के प्रधानमंत्री का सही नाम!

1

उत्तर प्रदेश की राजधानी स्थित मौलाना अली मियां मेमोरियल हज हाउस लखनऊ में लगाईं गई होर्डिंग में नज़र आई अल्पसंख्यक विभाग के अफसरों की बड़ी लापरवाही. बता दें कि हज यात्रा के लिए जा रहे हज यात्रियों को मुबारक बाद देने के लिए लखनऊ हज हाउस में होर्डिंग लगाईं गई है. लेकिन अल्पसंख्यक विभाग के अफसरों की लापरवाही के चलते होर्डिंग में पीएम मोदी का नाम ही गलत लिखा हुआ है. जिसे देखने के बाद भी सही करने की ज़हमत नही उठाई जा रही है.

ये भी पढ़ें: कानपुर के बन्दर बने शोले के गब्बर!

होर्डिंग में नरेंद्र ‘मोदी’ की जगह नरेन्द्र ‘मोती’ हैं देश के पीएम-

  • हज यात्रा शुरू होने के साथ ही देश भर से हज यात्री हज यात्रा के लिए रवाना हो रही है.
  • इसी क्रम में सोमवार 24 जुलाई को यूपी से भी हज यात्रियों का पहला जत्था हज यात्रा के लिए रवाना हुआ था.
  • जिसे सुबह 8 बजे योगी सरकार के हज मंत्री चौधरी लक्ष्मी नारायण, राज्य मंत्री मोहसिन रज़ा एवं मंत्री बलदेव अलख सिंह ने झड़ी दिखाकर हज हाउस से रवाना किया था.
  • बता दें कि हज हाउस में यात्रियों से स्वागत और मुबारकबाद के लिए जगह जगह होर्डिंग लगाईं गई है.

ये भी पढ़ें: राम नाथ कोविंद आज लेंगे राष्ट्रपति पद की शपथ!

  • इन होर्डिंग में सबसे ऊपर बीजेपी की टैग लाइन सबक साथ सबका विकास लिखी हुई है.
  • इसके बाद इन मंत्रियों सहित सीएम योगी आदित्यनाथ एवं देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का नाम लिखा गया है.
  • लेकिन होर्डिंग को बनवाने में अल्पसंख्यक विभाग के अफसरों की बड़ी लापरवाही सामने आई है.
  • बता दें कि होर्डिंग में देश के प्रधानमंत्री का ही नाम गलत लिखा हुआ है.
  • होर्डिंग में देश के प्रधानमंत्री ‘नरेन्द्र मोदी’ के नाम की जगह ‘नरेन्द्र मोती’ लिखा हुआ है.
  • लेकिन सब कुछ देखने के बावजूद भी इसे ठीक करने की ज़हमत कोई नही उठाता दिख रहा है.

ये भी पढ़ें: देश के नए महामहिम से जुड़ी 10 रोचक बातें!

1

मोदी के करीबी अडाणी को योगी ने दिया बड़ा झटका!

2

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने देरी पर (pm narendra modi) अडाणी ग्रीन समेत छह सौर बिजली उत्पादन कंपनियों से करार रद्द प्रदेश में सौर ऊर्जा से बिजली बनाने की योजना में असफल रहने पर अडानी ग्रीन समेत छह कंपनियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की गई है। इन कंपनियों से पॉवर कार्पोरेशन ने सौर ऊर्जा बिजली खरीदने का करार तोड़ दिया है।

यह करार सपा सरकार में हुए थे। इन कंपनियों को 80 मेगावाट सौर ऊर्जा से उत्पादित बिजली पॉवर कार्पोरेशन को देनी थी लेकिन कंपनियां अब तक इसे शुरू नहीं कर सकीं। समीक्षा के दौरान यूपीपीसीएल ने यह भी पाया कि वर्तमान में सौर ऊर्जा जनित बिजली के दाम काफी कम हो चुके हैं जबकि करार के समय इसकी कीमतें बहुत ऊंची थीं।

इसलिए इसे आगे जारी नहीं रखा जाएगा। यह था मामला सौर ऊर्जा नीति 2013 के तहत उत्तर प्रदेश के लिये 215 मेगावाट सौर ऊर्जा के लिए यूपी नेडा के माध्यम से सन 2015 में बिडिंग किया गया। इस बिडिंग में सौर ऊर्जा का टैरिफ 7.02 रुपये प्रति यूनिट से 8.60 रुपये तक आया था। बिडिंग में 15 कंपनियों को चयनित किया गया था। जिनमें नौ कंपनियों ने तय समय में 135 मेगावाट की सौर ऊर्जा परियोजनाओं की स्थापना कर दी। छह कंपनियों ने इसमें रुचि नहीं ली।

इन कंपनियों के 80 मेगावाट की परियोजनाएं आज तक लटकी हुई हैं। इस कारण से पॉवर कारपोरेशन ने करार रद करने की नोटिस जारी कर दी। सरकार ने कहा, अब सस्ती है सौर ऊर्जा दो वर्षों में सोलर पैनलों के दामों में खासी कमी आ चुकी है। इसी कारण सौर ऊर्जा के टैरिफ में भी गिरावट हो चुकी है।

वर्तमान में केन्द्र सरकार की संस्था सेकी ने राजस्थान में सौर ऊर्जा परियोजनाओं की स्थापना के लिए जो बिडिंग की उसमें सौर ऊर्जा का न्यूनतम टैरिफ 2.44 रुपये प्रति यूनिट तक आ चुका है। ऐसे में प्रदेश में 2015 के महंगे दरों से सौर ऊर्जा की खरीद करना उचित नहीं है। केन्द्र सरकार के नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय ने भी राज्य सरकारों से किसी भी सौर ऊर्जा से बिजली उत्पादन करने वाली कंपनी को स्थापना-उत्पादन के लिए अतिरिक्त समय न देने के निर्देश दिए हैं।

इन (pm narendra modi) कंपनियों को बाहर का रास्ता – सुधाकर इन्फ्राटेक प्रा. लि. – टेक्नीकल एसोसियेट्स लखनऊ – सहस्रधारा इनर्जी प्रा. लि., – अवध रबर प्रोप मद्रास इलास्टोमर लि. – अडाणी ग्रीन इनर्जी लि. – पिनाकल एयर प्रा. लि. शामिल हैं।

2

राजग ने किसानों पर लादा कर्ज, देश के किसान सड़कों पर: कांग्रेस!

कांग्रेस ने शुक्रवार को सरकार पर किसानों की चिंताएं दूर करने के लिए उचित कदम नहीं उठाने का आरोप लगाया और इसके साथ ही कांग्रेस सदस्य लोकसभा से बर्हिगमन कर गए। कांग्रेस नेप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की किसानों के मामले पर चुप्पी को लेकर भी निंदा की।

किसानों की दुर्दशा पर कांग्रेस ने किया बीजेपी पर वार-

  • कांग्रेस सदस्य दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने शून्य काल के दौरान कहा कि चाहे महाराष्ट्र हो या मध्य प्रदेश, पूरे देश के किसान सड़कों पर हैं।
  • उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर सदन में चर्चा हुई, लेकिन हमें प्रधानमंत्री से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली।
  • उन्होंने कहा कि चर्चा के समय केंद्र ने यह साफ नहीं किया कि उसका एम.एस. स्वामीनाथन आयोग की सिफारिश के क्रियान्वयन की मंशा है या नहीं।
  • आगे उन्होंने कहा कि भाजपा ने अपने 2014 के चुनाव अभियान के दौरान आयोग की सिफारिशें लागू करने का वादा किया था।
  • उन्होंने कहा कि सत्तारूढ़ दल हरदम किसानों की दुर्दशा के लिए संप्रग पर आरोप लगाता है।
  • लेकिन संप्रग ने बीते 60 सालों में जो नहीं किया, वह बीते तीन सालों में राजग सरकार ने किसानों पर कर्ज लादकर किया है।
  • उन्होंने इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री के उत्तर की मांग की।
  • इसके बाद कांग्रेस सदस्य सदन से बाहर चले गए।

घड़ियाली आंसू बहा रही कांग्रेस-

  • संसदीय कार्यमंत्री अनंत कुमार ने आरोपों का जवाब दिया
  • उन्होंने कहा कि विपक्ष घड़ियाली आंसू बहा रहा है।
  • विपक्षी नेताओं के बुधवार को कृषि संकट पर बहस के दौरान अनुपस्थित रहने को अनंत कुमार ने लेकर निशाना साधा
  • उन्होंने कहा कि कांग्रेस को किसानों की दुर्दशा से कुछ नहीं लेना-देना है।
  • वे घड़ियाली आंसू बहा रहे हैं।
  • उन्होंने बताया कि बुधवार को चर्चा सुबह 10 बजे होनी थी।
  • लेकिन सिर्फ दो कांग्रेस सदस्य सदन में मौजूद रहे।

नारेबाजी के बीच चला प्रश्नकाल-

  • लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने शुक्रवार को पूरे प्रश्नकाल के दौरान कांग्रेस के हंगामे के बाद हुड्डा को बोलने की अनुमति दी।
  • सदन की बैठक शुरू होने पर कांग्रेस सदस्यों ने मोदी से कृषि संकट पर जवाब मांगा।
  • लेकिन महाजन ने उन्हें इजाजत नहीं दी।
  • इस पर कांग्रेस सदस्य लोकसभा अध्यक्ष के आसन के पास पहुंच कर नारेबाजी करने लगे।
  • इसके बाद भी महाजन ने नारेबाजी के बीच प्रश्नकाल चलाया।
  • सदन में कांग्रेस के बर्हिगमन के बाद जनता के महत्व के मुद्दों क उठाया गया।
यह भी पढ़ें:

संसद में किसान आत्महत्या को लेकर हंगामा!

संसदीय लोकतंत्र प्रणाली को मजबूत करना होगा: नायडू

संसद की कैंटीन के खाने में मिली मकड़ी!

30 जुलाई को ‘मन की बात’ करेंगे पीएम मोदी, मांगा सुझाव!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को लोगों से 30 जुलाई को होने वाले रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ के लिए सुझाव मांगे हैं।

मन की बात’ का 34वां संस्करण-

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात‘ 30 जुलाई को होगी।
  • यह  रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात‘ का 34वां संस्करण होगा।
  • प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर बताया कि इस माह ‘मन की बात‘ कार्यक्रम अगले रविवार को होगा।
  • इसके लिए उन्होंने जनता से अपने विचारों को एनएम मोबाइल एप पर साझा करने की अपील की।

  • उन्होंने ट्वीट कि अपने सुझाव मायजीओवी ओपन फोरम या फिर अपनी आवाज में रिकॉर्ड कर 1800-11-7800 पर भेज सकते हैं।
  • मायजीओवी फोरम पर जारी एक सरकारी बयान के अनुसार, हर माह की तरह मोदी उन विषयों और विचारों पर अपने विचार साझा करने के लिए तत्पर हैं, जो लोगों के लिए महत्वपूर्ण हैं।
  • बयान में भी लोगों से मोदी के लिए अपने संदेश को हिंदी या अंग्रेजी में रिकॉर्ड करने का आग्रह किया गया हैं।
  • रिकॉर्ड किए गए कुछ संदेश प्रसारण का हिस्सा भी बन सकते हैं।

यह भी पढ़ें: पीएम मोदी इस बार रेडियो से नहीं पुस्तक के ज़रिये करेंगे ‘मन की बात’!

यह भी पढ़ें: पीएम मोदी की मन की बात का असर, अब हर रविवार पेट्रोल पंप रहेंगे बंद!

मोदी की नीतियों के कारण जल रहा कश्मीर: राहुल गांधी!

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कश्मीर मुद्दे को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर वार किया है। राहुल गांधी ने कहा कि पीएम मोदी की नीतियों के कारण कश्मीर जल रहा है।

सरकार कश्मीर संभालने में नाकामयाब-

  • कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि भारत कश्मीर है और कश्मीर भारत है।
  • उन्होंने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि मोदी सरकार कश्मीर को संभालने में नाकामयाब रही।
  • राहुल गांधी संसद की कार्यवाही में भाग लेने पहुंचे थे।
  • संसद में जाते समय उन्होंने कहा कि कश्मीर हमारा आंतरिक मुद्दा हैं
  • उन्होंने कहा कि किसी भी मसले के हल के लिए तीसरे पक्ष की जरूरत नहीं है।
  • आगे उन्होंने कहा कि कांग्रेस लगातार इस बात को उठा रही है कि कश्मीर जल रहा है।
  • बता दें कि संसद के मॉनसून सत्र में कांग्रेस ने बेहद आक्रामक रवैया अपनाया हुआ है।
  • कांग्रेस लगातार केंद्र को कश्मीर, किसान और मॉब लिंचिग के मुद्दे पर घेरने में जुटी है।

मोदी की नीतियों ने आतंकियों को कश्मीर में दी पनाह-

  • कुछ दिन पहले राहुल गांधी ने कहा था किआतंकियों को कश्मीर में पनाह मोदी की नीतियों ने दी है।
  • साथ ही राहुल गांधी ने कहा था-‘मोदी का पर्सनल गेन = भारत की रणनीतिक हानि + निर्दोष भारतीयों के खून का बलिदान।’

यह भी पढ़ें: राजस्थान में किसानों की हालत बदतर: राहुल गांधी

यह भी पढ़ें: नोटबंदी की तरह बिना तैयारी के लागू किया जा रहा जीएसटी: राहुल गांधी

यूपी के सांसदों के साथ पीएम मोदी की ‘चाय पर चर्चा’ शुरू!

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार 20 जुलाई को दिल्ली स्थित संसद भवन में बैठक का आयोजन किया था, बैठक में उत्तर प्रदेश के सभी सांसदों को बुलाया गया था। जिसके तहत सभी सांसद बैठक के लिए पहुँच चुके और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में बैठक शुरू(PM modi meeting MP) हो चुकी है।

यूपी के सांसदों के साथ पीएम मोदी की ‘चाय पर चर्चा’ शुरू(PM modi meeting MP):

  • प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को यूपी के सांसदों के साथ बैठक का आयोजन किया था।
  • जिसके तहत प्रधानमंत्री कार्यालय में यूपी के सांसदों के साथ चाय पर चर्चा शुरू हो चुकी है।
  • बैठक में उत्तर प्रदेश के सभी सांसद मौजूद हैं।
  • साथ ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी बैठक में पहुँच चुके हैं।

योगी सरकार के कामकाज को लेकर बैठक(PM modi meeting MP):

  • प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उत्तर प्रदेश के सांसदों के बीच बैठक शुरू हो चुकी है।
  • जिसके तहत सभी सांसद बैठक में मौजूद हैं।
  • सूत्रों के मुताबिक, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सभी सांसदों से योगी सरकार के कामकाजों का ब्यौरा लेंगे।
  • साथ ही पीएम मोदी बैठक में सांसदों से पूछा जायेगा कि, केंद्र सरकार की कितनी योजनायें जनता तक पहुंची हैं।
  • साथ ही केंद्र की योजनाओं में और अधिक क्या सुधार हो सकता है इस पर चर्चा की जाएगी।
  • बैठक में केन्द्रीय मंत्री अनंत कुमार और वित्त/रक्षा मंत्री अरुण जेटली भी मौजूद हैं।

यूपी विधानसभा के बाद बुलाया था नाश्ते पर(PM modi meeting MP):

  • गुरुवार को पीएम मोदी ने यूपी के सांसदों को चाय पर चर्चा के लिए बुलाया है।
  • जिसके तहत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कार्यालय में बैठक शुरू हो चुकी है।
  • गौरतलब है कि, प्रधानमंत्री मोदी ने इससे पहले भी यूपी के सांसदों को आमंत्रित किया था।
  • उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में ऐतिहासिक जीत के बाद पीएम मोदी ने सांसदों को लंच पर बुलाया था।
  • इस दौरान पीएम मोदी ने सभी सांसदों की पीठ थपथपाई थी।

ये भी पढ़ें: आज देश को मिलेंगे नये राष्ट्रपति, कुछ ही क्षणों में शुरु होगी मतगणना!

मुलायम सिंह यादव हो सकते हैं बिहार के अगले राज्यपाल!

एनडीए सरकार द्वारा राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बनाये जाने के बाद रामनाथ कोविंद ने बिहार के राज्यपाल पद से इस्तीफ़ा दे दिया था. रामनाथ कोविंद को NDA ने राष्ट्रपति का उम्मीदवार बनाया था. लेकिन अब ऐसी ख़बरें हैं कि यूपी के ही एक बड़े नेता को बीजेपी बिहार के राज्यपाल की जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है. वर्तमान में पश्चिम बंगाल के राज्यपाल के पास बिहार की अतिरिक्त जिम्मेदारी है.

मुलायम सिंह (mulayam singh yadav) हो सकते हैं बिहार के राज्यपाल:

मुलायम सिंह यादव के नाम को लेकर चर्चा शुरू गई है कि उन्हें बिहार के राज्यपाल की जिम्मेदारी दी जा सकती है. सूत्रों के अनुसार, मुलायम सिंह यादव द्वारा राष्ट्रपति चुनाव में दिए समर्थन के बाद बीजेपी सरकार उन्हें बिहार का राज्यपाल नियुक्त कर सकती है. बता दें कि राष्ट्रपति चुनाव में मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश यादव के अलग रामनाथ कोविंद का समर्थन करने का ऐलान किया था. वहीँ शिवपाल यादव ने भी रामनाथ कोविंद के समर्थन में वोट करने की बात कही थी.

राज्यपाल पद रामनाथ कोविंद ने दिया था इस्तीफा-

  • एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद ने बिहार के राज्यपाल पद से इस्तीफा दे दिया था.
  • उन्होंने अपना इस्तीफ़ा राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को सौंपा था.
  • बता दें कि एनडीए ने बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बनाया था.
  • राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव 17 जुलाई को हुआ जिसके परिणाम 20 जुलाई को आएंगे.