मुलायम को नहीं मिली कमान तो सपा का ये गुट करेगा बड़ा ‘आंदोलन’

आगामी 5 अक्टूबर को समाजवादी पार्टी का राष्ट्रीय अधिवेशन आगरा में होने जा रहा है. इसे लेकर सपा के सभी पदाधिकारियों ने अपनी तैयारियाँ शुरू कर दी है. इस अधिवेशन में अखिलेश यादव का 5 साल के लिए सपा अध्यक्ष चुना जाना लगभग तय मन जा रहा था. लेकिन इससे पहले सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष  पद के लिए मुलायम सिंह यादव (sp leader mulayam) को लेकर हैरान कर देने वाली खबरें आ रही हैं.

अगले पेज पर पढ़ें ये पूरी खबर…

5 अक्टूबर को होगा राष्ट्रीय अधिवेशन (sp leader mulayam):

  • बता दें कि 23 सितम्बर को लखनऊ में सपा का प्रदेश स्तरीय सम्मलेन होना है.
  • वहीँ इसके बाद आगामी 5 अक्टूबर को समाजवादी पार्टी का राष्ट्रीय अधिवेशन आगरा में होने जा रहा है.
  • इस दैरान अगरा में सपा के लाखों कार्यकर्ता जुटने वाले हैं.
  • वहीँ सूत्रों कि माने तो आगरा में ही सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद कि आधिकारिक घोषणा होनी है.
  • साथ ही पूर्व मुख्यमंत्री और सपा सुप्रीमो को इस पद कि कमान सौपने के लिए अपील शुर चुकी है.
  • इस बीच आगरा के सपा नेता नितिन कोहली का एक मैसेज भी वायरल हो रहा है.

वायरल हो रहा है ये मैसेज:

  • मैसेज के मुताबिक “पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और वर्तमान समाजवादी पार्टी शुभ चिंतकगण, हम सभी आपसे यह अपील करते है”.
  • “जो समाजवादी पार्टी हमारे नेताजी मुलायम सिंह यादव (sp leader mulayam) एवं तन मन और धन से बना एक समाजवाद का स्तंभ है”.
  • “जिसकी कमान आपको सौंपकर प्रदेश के मुख्यमंत्री के पद से सुशोभित किया गया था”.
  • “आज इस कठिन दौर पर 23 सितंबर को होने वाले समाजवादी अधिवेशन में हमारे मान.नेताजी को प्रथम दृष्या सादर आमंत्रित किया जाये”.
  • “साथ ही नेताजी को पार्टी के उज्जवल भविष्य के लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित किया जाए”.
  • “जो कि हम कार्यकर्ताओं की नजर में नितांत आवश्यक है”.
  • “वहीँ यदि इसबार भी कोई ऐसा अपमानजनक कदम उठाया गया”.
  • “जिससे हमारे नेताी जो कि समाजवादी पार्टी के मुख्य जनक है, उनके सम्मान को ठेस पहुंचती है”.
  • “तो हम सभी कार्यकर्ता कठोर कार्रवाई एवं आंदोलन के लिए मजबूर होंगे”.
  • वहीँ आपको बता दें कि जब नितिन कोहली से जब इस मैसेज के संबंध में बात की गई, तो तो उन्होंने कहा कि वे चाहते हैं कि नेताजी को राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित किया जाए.

ये भी पढ़ें, शिवपाल के बाद इस सपा नेता ने किया अखिलेश का विरोध

‘भगदड़’ में बाल-बाल बचे मुलायम, कई कार्यकर्ता हुए घायल!

समाजवादी पार्टी में इन दिनों कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है. लगातार नेताओं के पार्टी छोड़ने का सिलसिला लगातार जारी है. वहीँ आज सपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और वर्तमान संरक्षक मुलायम सिंह यादव (former cm mulayam) सपा एमएलसी आशु मलिक से मिलने गये हुए थे और इस दौरान वहां पर मुलायम से मिलने आये हुए पार्टी कार्यकर्ता के बीच अचानक भगदड़ मच गई.

अगले पेज पर पढ़ें ये पूरी खबर…

गाज़ियाबाद पहुँचे थे मुलायम (former cm mulayam):

  • समाजवादी पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव आज गाज़ियाबाद पहुँचे थे.
  • यहाँ पर उन्होंने सपा के एमएलसी आशू मलिक के घर पहुँच कर मुलाकात की.
  • इस दौरान पत्रकारों से बात करते हुए मुलायम सिंह यादव ने बड़ा बयान दी दिया है.
  • मुलायम ने कहा कि रेल हादसे जो भी हो रहे हैं, ये सब दुष्प्रचार है.
  • बीजेपी सरकार में यूपी में सबसे ज्यादा आपदाएं हो रही हैं.
  • उन्होंने कहा कि हमारी जब सरकार थी तो सबसे कम आपदाएं उत्तर प्रदेश में हुई थी.
  • मुलायम ने कहा कि बीजेपी सरकार आने के बाद लग रहा है कि सबसे ज्यादा अपराध यूपी में होंगे.
  • मगर अफ़सोस है कि अपराध करने वालों पर कोई भी कठोर कार्यवाई नहीं की जाती है.
  • ट्रिपल तलाक पर मुलायम ने कहा कि सभी मुसलमानों ने इसे स्वीकार किया है.

अचानक मची भगदड़:

  • बता दें कि मुलायम सिंह यादव (former cm mulayam) जैसे ही आशु मलिक के आवास पर पहुंचे थे.
  • तो उन्हें रास्ते में समर्थकों ने रोक लिया था.
  • आपको बता दें कि इस दौरान समर्थकों की कार्यकर्ताओं की भीड़ उनकी गाड़ी पर चढ़ गई थी.
  • वहीँ जैसे ही मुलायम की कार आगे बढ़ी तो कुछ कार्यकर्ता पीछे भागते समय गिर पड़े थे.
  • जिसकी वजह से वहां हर तरफ भगदड़ सी मच गई थी.
  • वहीँ इस घटना में कई सारे कार्यकर्ता घायल भी हो गए हैं.
  • इसके बाद सुरक्षा कर्मियों ने किसी तरह मुलायम सिंह को वहां से निकाला था.
  • वहीँ सुरक्षा कर्मियों ने बाद में उन्हें सुरक्षित आशु मलिक के आवास पर पहुंचाया.

ये भी पढ़ें, प्रभु देना चाह रहे इस्‍तीफा, मोदी बोले-धैर्य धरो

मुलायम की ये ‘बहू’ हैं कमाल की फोटोग्राफर, तस्वीरें हो रही वायरल!

11

कल वर्ल्ड फोटोग्राफी डे था और दुनिया भर में ये दिन सभी फोटोग्राफर के लिए एक ख़ास दिन होता है. लेकिन आपको जानकार हैरानी होगी कि राजनीतिक परिवार से तालुक रखने वाली इस महिला का नाम भी बेस्ट फोटोग्राफर में दर्ज हो गया है. बता दें कि सपा संरक्षक मुलायम स‌िंह यादव की ये बहू (mulayam singh daughter) वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर भी हैं. बस देखते रह जायेंगे आप इनकी ये तस्वीरें.

अगले पेज पर पढ़े ये पूरी खबर…

फोटोग्राफर है मुलायम की बहू (mulayam singh daughter):

  • सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव की बहु को राजनीति में जरा भी दिलचस्पी नहीं है.
  • जी हां इन्होने कैमरे को अपना साथी बना लिया है और इन्हें इसी का साथ पसंद है.
  • बता दें कि इन्हें अच्छा लगता घने जंगलों में शेर और चीतों के बीच.

1

  • अभी आप नहीं समझे, जी हां हम बात कर रहे हैं वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर अभिलाषा यादव की.

जाने इनके बारे में:

  • बता दें कि अभिलाषा (mulayam singh daughter) सपा संरक्षक मुलायम स‌िंह यादव के भाई अभयराम की बहू हैं.
  • फोटोग्राफर अभिलाषा मुलायम के भाई अभयराम के बेटे अनुराग यादव की पत्नी हैं.
  • लेकिन ये यादव परिवार की बहु के नाते नहीं बल्कि एक बेस्ट वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर की छवि के रूप में जानी जाती हैं.

4

  • वहीँ जब इनसे पूंचा जाता है, तो ये अपना परिचय हाउस वाइफ के रूप में देती है.
  • बता दें कि अभिलाषा प्रक्रति के बहुत ज्यादा ही करीब हैं और साथ ही इन्होने द‌िल्ली आईआईएफटी से फैशन डिजाइनिंग का कोर्स भी किया है.

2

  • लेकिन हैरानी की बात है कि इन्होने फोटोग्राफी की ट्रेनिंग कहीं से नहीं ली है.
  • जीई हाँ फोटोग्राफी का हुनर इनमे पहले से ही था.
  • सच में कमाल की बात है कि इतने बड़े राजनीतिक परिवार से जुड़ने के बाद भी वह फोटोग्राफी को एंज्वॉय करती हैं.

ये भी पढ़ें, ‘प्रभु’ की बेपरवाह रेल व्यवस्था का शिकार हुई ये 23 जिंदगियां!

11

मुलायम आवास के सामने हुआ 10 फीट गहरा गड्ढा, मचा हड़कंप!

1

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में PWD के कामों की पोल खोल कर रख दी है. लखनऊ का दिल कहे जाने वाले सबसे वीआईपी इलाके हजरतगंज में समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव का आवास है. जहाँ कुछ ऐसा हुआ जो वर्तमान भाजपा सरकार के कामो की पोल खोलता हुआ दिखाई दे रहा है.

लेकिन आज हुई बारिश के चलते मुलायम आवास के सामने रोड धस गई. जिससे रोड पर 10 फीट गहरा गड्ढा हो गया.

पुलिस की बैरिकेडिंग से घेरा गया गड्ढा-

  • सावन के आने के बाद से ही प्रदेश भर पर में जमकर बरसात हो रही है.
  • इस बारिश के चलते एक तरफ जहाँ लोगों को गर्मी से राहत मिली है.

ये भी पढ़ें :कानपुर: प्राइमरी स्कूलों में नही है शौचालय!

  • वहीँ जलभराव और रोड के काटने जैसी समस्याएँ भी खड़ी हुई हैं.
  • ऐसे में राजधानी लखनऊ में हुई बरसात ने PWD के कार्यों की पोल भी खोल कर रख दी है.

ये भी पढ़ें :बिजली आपूर्ति को लेकर आबकारी मंत्री ने ऊर्जा मंत्री को लिखा पत्र!

  • बता दें कि सपा संरक्षक मुलायन सिंह के आवास के सामने ही बारिश के चलते रोड धंस गई है.
  • जिसके चलते 10 फीट गहरा गड्ढा हो गया है.

ये भी पढ़ें: इन कार्डों के जरिए गरीबों को मिलेगा मुफ्त में अनाज!

  • इस गड्ढे को फिलहाल पुलिस की बैरिकेडिंग और बांस बल्लियों के सहारे चारों तरफ से घिर दिया गया.
  • जिससे किसी भी प्रकार की दुर्घटना को रोका जा सके.

ये भी पढ़ें: कानपुर: बदंरों के आतंक से इलाके में दहशत, आधा दर्जन बच्चे घायल!

1

Lok Sabha adjourned after protests by Opposition.

On the second day of monsoon session, disruption in Lok Sabha were recorded. the disruption was created on issues like farmers and cow- slaughtering. In addition to which proceedings of Lok Sabha adjourned till Wednesday after noisy protest by opposition.

Postponed till Wednesday, 11 AM

  • Second day of monsoon session was disordered for both the Houses.
  • Issues like condition of farmers, cow-slaughter were raised.
  • Furthermore, proceedings are postponed till Wednesday.
  • Sloganeering and noise were created by the members on numerous issues.
  • After which, Speaker Sumitra Mahajan has postponed the proceedings.
  • In addition to, proceedings are postponed till Wednesday, before 11AM.
  • Before this, proceedings were also postponed for a while in the morning.
  • However, between the disorder, 3 new bills are introduced in Lok Sabha.

Disorder in Rajya Sabha:

  • Major disruption in Rajya Sabha on the second day of monsoon session.
  • Sloganeering for government by the opposition party.
  • In addition to that, proceedings of Rajya Sabha postponed till tomorrow.
  • BSP Supreme Mayawati has also raised issue of Saharanpur violence.
  • She threatened on the floor of house to resign from her member ship, if she is not allowed to speak.
  • BSP Supremo Mayawati said that her voice has been suppressed by government on several occasions.

Will Mulayam Singh Yadav be Bihar’s next governor?

After being nominated as a candidate for presidential elctions by NDA, Ramnath Kovind resigned from Bihar governor’s post. NDA Nominated Ramnath Kovid as a candidate for the presidential election. In addition to which , reports are being heard of posting one of UP’s Minister as Bihar’s Governor. At the present time, Bihar’s responsibities are being fulfilled by the governor of west Bengal.

Mulayam Singh Can be the next Bihar Governor

  • Discussions have started in regards of appointing Mulayam Singh Yadav as Bihar’s next governor.
  • According to sources, after MSY’s support in the presidential elections,the BJP government is planning to appoint him as Governor of Bihar
  • Consequently, MSY had declared to support Ramnath Kovid.
  • Furthermore, Shivpal Yadav also declared his support to Ramnath Kovid

Resignation of Bihar Governor Ramnath Kovid

  • NDA nominated RamnathKovid resigned for the post of governor after his nomination.
  • Furthermore,he handed over his resignation to President Pranab Mukharjee
  • The voting to elect India’s next president was conducted on Mo9nday July 17.
  • The results of which will be declared on july 20

 

 

 

मुलायम सिंह यादव हो सकते हैं बिहार के अगले राज्यपाल!

एनडीए सरकार द्वारा राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बनाये जाने के बाद रामनाथ कोविंद ने बिहार के राज्यपाल पद से इस्तीफ़ा दे दिया था. रामनाथ कोविंद को NDA ने राष्ट्रपति का उम्मीदवार बनाया था. लेकिन अब ऐसी ख़बरें हैं कि यूपी के ही एक बड़े नेता को बीजेपी बिहार के राज्यपाल की जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है. वर्तमान में पश्चिम बंगाल के राज्यपाल के पास बिहार की अतिरिक्त जिम्मेदारी है.

मुलायम सिंह (mulayam singh yadav) हो सकते हैं बिहार के राज्यपाल:

मुलायम सिंह यादव के नाम को लेकर चर्चा शुरू गई है कि उन्हें बिहार के राज्यपाल की जिम्मेदारी दी जा सकती है. सूत्रों के अनुसार, मुलायम सिंह यादव द्वारा राष्ट्रपति चुनाव में दिए समर्थन के बाद बीजेपी सरकार उन्हें बिहार का राज्यपाल नियुक्त कर सकती है. बता दें कि राष्ट्रपति चुनाव में मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश यादव के अलग रामनाथ कोविंद का समर्थन करने का ऐलान किया था. वहीँ शिवपाल यादव ने भी रामनाथ कोविंद के समर्थन में वोट करने की बात कही थी.

राज्यपाल पद रामनाथ कोविंद ने दिया था इस्तीफा-

  • एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद ने बिहार के राज्यपाल पद से इस्तीफा दे दिया था.
  • उन्होंने अपना इस्तीफ़ा राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को सौंपा था.
  • बता दें कि एनडीए ने बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बनाया था.
  • राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव 17 जुलाई को हुआ जिसके परिणाम 20 जुलाई को आएंगे.

राष्ट्रपति चुनाव को लेकर सपा हाईकमान ने दिए ये खास निर्देश!

1

सोमवार 17 जुलाई को प्रथम नागरिक और देश के राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव(president election 2017) होना है, जिसके लिए देश की सभी विधानसभाओं और संसद में मतदान की सभी तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं. इसी के साथ उत्तर प्रदेश विधानसभा में भी राष्ट्रपति चुनाव की सभी तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं. गौरतलब है कि, राष्ट्रपति पद के लिए कुल 2 उम्मीदवार मैदान में हैं. केंद्र सरकार की ओर से बिहार के पूर्व राज्यपाल रामनाथ कोविंद और UPA की ओर से पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार ने नामांकन भरा है. उत्तर प्रदेश में इस चुनाव को लेकर सपा हाईकमान ने अपने सभी सांसदों और विधायकों को खास निर्देश दिए हैं. सपा हाईकमान ने अपने सभी सांसदों और विधायकों को UPA की ओर से राष्ट्रपति पद के लिए नामांकित मीरा कुमार को वोट देने के निर्देश दिए हैं.

ये भी पढ़ें: सुबह 10 बजे से शुरू होगी ‘राष्ट्रपति चुनाव’ की वोटिंग!

सपा में बढ़ी क्रॉस वोटिंग की सम्भावना-

  • देश भर में वोटिंग कर के आज राष्ट्रपति पद का चुनाव किया जा रहा है.
  • इसके लेकर यूपी में भी वोटिंग शुरू हो चुकी है.
  • राष्ट्रपति पद के चुनाव को लेकर सपा हाईकमान ने अपने सभी सांसदों और विधायकों को खास निर्देश दिए हैं.

ये भी पढ़ें :पति से मिलने जेल के अन्दर कारतूस लेकर पहुंची दबंग पत्नी!

  • जिसके तहत सभी सांसदों और विधायकों को मीरा कुमार को वोट देने को कहा गया है.
  • गौरतलब हो कि सपा में हुई दो फाड़ का असर इस चुनाव में भी देखने को मिल सकता है.
  • इस चुनाव में सपा की तरफ से क्रॉस वोटिंग की संभावना बहुत ज्यादा बढ़ गई है.

ये भी पढ़ें: GPS से जुड़ेंगी अब सफाई कार्यों में लगी गाड़ियाँ!

  • गौरतलब हो कि एक तरफ सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव जहाँ राम नाथ कोविंद के सम्मान में आयोजित भोज में शामिल हुए थे.
  • साथ ही शिवपाल यादव भी शुरू से राम नाथ कोविंद को समर्थन देने की बात कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें: विधानसभा गेट से बैरंग लौटाए गए कमिश्नर!

  • वहीँ दूसरी तरफ सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव का खेमा मीरा कुमार का पुरजोर समर्थन कर रहा है.
  • सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने न सिर्फ अपने सांसदों और विधायकों को मीरा कुमार को वोद देने के निर्देश दिए हैं.

ये भी पढ़ें : वीडियो: एटीएस ने की मॉकड्रिल, विधानसभा में बुलेट प्रूफ बॉक्स!

  • वहीँ उन्होंने अन्य दलों से भी मीरा कुमार का समर्थन करने की अपील की है.
  • हालांकि सपा को राज्यसभा में भी क्रॉस वोटिंग का सामना करना पड़ सकता है.
  • बता दें कि राज्यसभा के 3 सदस्य सपा के खिलाफ मतदान कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें: मेरठ: SSP ऑफिस पर एक युवक ने की आत्मदाह की कोशिश!

1

राष्ट्रपति चुनाव के लिए तैयारियां अंतिम चरण में!

कांग्रेस ने लोकसभा की पूर्व स्पीकर मीरा कुमार को राष्ट्रपति का उम्मीदवार (presidential elections) घोषित किया था. मीरा कुमार 5 बार की लोकसभा सांसद और लोकसभा स्पीकर रह चुकी हैं. कांग्रेस ने आज अपने सहयोगी दलों की सहमति के बाद ये फैसला किया. वहीँ NDA की तरफ से रामनाथ कोविंद उम्मीदवार हैं. राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव 17 को होंगे.

लखनऊ में भी होगा मतदान:

 

  • विधानसभा के तिलक हॉल में 17 जुलाई को सुबह 10 बजे से 5 बजे तक राष्ट्रपति के लिए मतदान होगा.
  • वोटिंग के लिए तिलक हॉल में 4 टेबल होगी.
  • राष्ट्रपति चुनाव के मतदान के लिए तैयारियां अंतिम चरण में हैं.
  • टेबल क पर चुने हुए सांसद मत देंगे.
  • अन्य 3 टेबलों को विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के क्रम में बांटा गया है.

मीरा के समर्थन में उतरी माया:

वहीँ मायावती ने भी बसपा का रुख स्पष्ट कर दिया है. मायावती ने कहा है कि बसपा राष्ट्रपति चुनाव में रामनाथ कोविंद को समर्थन नहीं देगी. बसपा मीरा कुमार का साथ देगी. इसकी जानकारी सतीश मिश्रा ने दी. उन्होंने कहा कि बसपा सुप्रीमो ने निर्देश दिया है कि मीरा कुमार को राष्ट्रपति चुनाव में समर्थन किया जाए.

कोविंद हैं NDA के उम्मीदवार:

  • रामनाथ कोविंद को NDA का राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाये जाने पर मायावती ने अपनी राय रखी थी.
  • मायावती ने कहा कि वो एक कोरी जाति से आते हैं.
  • इनकी संख्या सूबे में बहुत ही कम है.
  • कोविंद संघ और बीजेपी के साथ जुड़े रहे हैं.
  • इसकी राजनीतिक पृष्ठभूमि से मैं सहमत नहीं हूँ.
  • उन्होंने कहा कि इसके कारण इनके नाम की घोषणा की गई है.
  • मायावती ने कहा था कि कोई अन्य दलित उम्मीदवार आने पर बसपा रामनाथ कोविंद को समर्थन नहीं देगी.
  • वहीँ बिहार में इस चुनाव को लेकर भी तकरार सामने आयी.
  • लालू चाहते हैं कि गठबंधन की सरकार UPA के उम्मीदवार का समर्थन करे.
  • लेकिन नितीश कुमार ने स्पष्ट कर दिया था कि वो रामनाथ कोविंद के समर्थन में हैं.