मायावती का राज्यसभा से इस्तीफा का फैसला स्वभाविक : लालू

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की सुप्रीमो मायावती के राज्यसभा से इस्तीफा को राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद ने सही और स्वभाविक बताया.

लालू ने किया माया का समर्थन-

  • राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने कहा कि भाजपा दलित विरोधी पार्टी है, राजद मायावती के साथ है।
  • लालू ने मायावती के राज्यसभा से इस्तीफा को स्वभाविक और सही कहा
  • मायावती का समर्थन में उतरे लालू यादव ने कहा कि मायावती चाहेंगी तो हम बिहार से उन्हें दोबारा राज्यसभा भेजेंगे।
  • बीजेपी पर निशाना साधते हुए लालू ने कहा कि भाजपा अहंकार में डूबी है, दलितों की आवाज दबाई जा रही है।

18 जुलाई को दिया इस्तीफ़ा-

  • बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो और राज्यसभा सांसद मायावती ने मंगलवार 18 जुलाई को अपने सांसद पद से इस्तीफ़ा दे दिया
  • बसपा नेता का आरोप है कि मानसून सत्र की राज्यसभा सदन की कार्यवाही में उन्हें बोलने नहीं दिया गया
  • उन्हें बोलने नहीं दिए जाने की बात कहकर सदन से वॉक आउट किया था।
  • संसद की कार्यवाही खत्म होते ही बसपा सुप्रीमो मायावती ने अपना इस्तीफ़ा सौंप दिया।
  • राज्यसभा अध्यक्ष और उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने उनका इस्तीफ़ा स्वीकार कर लिया।

मायावती ने बताया इस्तीफ़ा देने का कारण-

  • सभापति को लिखित में इस्तीफे की चिट्ठी दी।
  • सदन में मुझे बोलने नहीं दिया गया।
  • शोर शराबे के बीच बात रखने की कोशिश की।
  • बीजेपी की मानसिकता जातिवादी।
  • सभापति ने घंटी बजाकर मुझे ही चुप करा दिया।
  • शोर रोकने के बजाए मुझे ही चुप करा दिया।
  • मुझे अपनी बात कहने से रोका गया।
  • सहारनपुर कांड पर मुझे बोलने नहीं दिया गया।
  • दलित समाज पर उत्पीड़न की बात नहीं कहने दी।
  • मुझे दुख के साथ इस्तीफा देने का फैसला लेना पड़ा।
  • दलितों के हित के लिए पूरी जिंदगी समर्पित की है।

यह भी पढ़ें: दलितों के हित के लिए पूरी जिंदगी समर्पित की- मायावती

यह भी पढ़ें: बौखलाई मायावती ने राज्यसभा से दिया इस्तीफ़ा!

 

BSP Supremo Mayawati resigned from Rajya Sabha!

Bahujan Samaj Party supremo and RAjya Sabha MLA Mayawati  on Tuesday ,July 18 ,resigned from her MLA post. She had earlier walked out from the house saying that she was not being allowed to speak. In addition to which she had handed over her resignation.

also read: Mayawati threatens to resign from Rajya Sabha.

Resignation handed to Rajya sabha Chairman Hamid Ansari

  • BSP supremo Mayawati has resigned from her MLA post.
  • Mayawati has accused the government for not letting her speak during the session.
  • In Addition to which, Mayawati resigned from MLA post as soon as the session on Tuesday ended.
  • Rajya Sabha Chairman and Vice president Hamid Ansari accepted her Resignation.
  • Also read:Parliamentary monsoon session adjourned till Wednesday

Mayawati threatens to resign from Rajya Sabha.

Opposition party surrounded central government in the parliamentary monsoon session on Tuesday. In addition to which ,BSP Supreme Mayawati has raised issues of Saharanpur violence. In conclusion she said that she was not allowed to raise her voice in the House.

Mayawati targeted BJP:

  • Harassment of Dalits and poor people is increasing in BJP rule.
  • She raised Saharanpur case in Rajya Sabha.
  • The case was thoughtful conspiracy.
  • In addition to, a Dalit was framed in Saharanpur.
  • Furthurmore, Dalits were not allowed for procession.
  • She also aimed Yogi government .
  • Despotism of Dalits in UP.
  • Congress has also done workout from Rajya Sabha.
  • Congress has also aimed BJP government.

If I am not permitted to speak then I will give resignation:

  • She said, I will give resignation from Rajya Sabha.
  • Central government has just observed the consumed houses and helped Dalits.
  • Furthurmore, not done any proceedings.
  • There is mobster rule in UP.
  • In addition, any community is not safe in UP.
  • BJP has won elections through EVM.
  • Existing party is not allowed to speak in the house.
  • I have no fears in fighting elections.
  • Gulam Nabi Azad targeted BJP.
  • BJP is obstructing the proceedings of houses.
  • Opposition wants to discuss in the house.
  • Also concluded that BJP doesn’t wants to discuss.

मायावती को मिला उदयवीर का साथ!

संसद के मानसून सत्र (monsoon session) में विपक्ष ने केंद्र सरकार को घेरा है. बसपा सुप्रीमो मायावती ने सहारनपुर हिंसा का मामला उठाया. उन्होंने कहा कि सदन में उनकी आवाज को दबाने की कोशिश की जा रही है. उन्हें बोलने नही दिया जा रहा है. मायावती के बयान के बाद सपा एमएलसी उदयवीर सिंह ने उनका समर्थन किया. साथ ही उन्होंने बीजेपी सरकार पर हमला भी बोला.

राज्यसभा पीठ को देना होगा ध्यान:

  • उदयवीर सिंह ने मायावती के बयान का समर्थन किया है.
  • उन्होंने कहा कि मायावती ने जो मुद्दे उठाये थे, उन्हें भी सुना जाना चाहिए.
  • सरकार विपक्ष की आवाज को दबाने का काम न करे.
  • विपक्ष का सम्मान किया जाना चाहिए.
  • उन्होंने कहा कि राज्यसभा पीठ को इसपर ध्यान देना चाहिए.
  • ये बहुत ही गंभीर मामला है.

मायावती ने बीजेपी पर बोला हमला:

  • बीजेपी सरकार में दलितों, गरीबों का उत्पीड़न बढ़ा है.
  • माया ने सहारनपुर का मुद्दा राज्यसभा में उठाया.
  • सहारनपुर की घटना सोची समझी साजिश का नतीजा थी.
  • सहारनपुर में एक दलित को फंसाया गया है.
  • दलितों को जुलूस निकालने की अनुमति नहीं दी गई.
  • मायावती ने योगी सरकार पर हमला बोला.
  • यूपी में दलितों पर अत्याचार हो रहा है.
  • कांग्रेस ने भी राज्यसभा से वॉकआउट किया है.
  • कांग्रेस ने भी बीजेपी सरकार पर हमला बोला.

नहीं बोलने दिया गया तो दूंगी इस्तीफा:

  • उन्होंने कहा कि मैं राज्यसभा से इस्तीफा दूंगी.
  • दलितों के जले हुए घर देखे और उन्हें मदद की.
  • केंद्र ने दोषियों पर कार्रवाई नहीं की है.
  • अपने लोगों की मदद करने से रोका जा रहा है.
  • यूपी में महागुंडा राज चल रहा है.
  • यूपी में कोई भी समाज सुरक्षित नहीं है.
  • BJP ने ईवीएम की मदद से चुनाव जीता है.
  • सदन में सत्ता पक्ष के लोगों ने बोलने नहीं दिया जा रहा है.
  • मैं चुनाव लड़ने से डरती नहीं हूं.
  • गुलाम नबी आजाद ने कहा कि बीजेपी सदन की कार्रवाही में बाधा डाल रही है.
  • गुलाम नबी आजाद ने बीजेपी पर साधा निशाना है.
  • सदन में विपक्ष चर्चा करना चाहता है.
  • उन्होंने कहा कि बीजेपी सदन में चर्चा से भाग रही है.

 मायावती ने इस्तीफा देने की दी धमकी!

मायावती ने इस्तीफा देने की दी धमकी!

संसद के मानसून सत्र (monsoon session) में विपक्ष ने केंद्र सरकार को घेरा है. बसपा सुप्रीमो मायावती ने सहारनपुर हिंसा का मामला उठाया. उन्होंने कहा कि सदन में उनकी आवाज को दबाने की कोशिश की जा रही है. उन्हें बोलने नही दिया जा रहा है.

मायावती ने बीजेपी पर बोला हमला:

  • बीजेपी सरकार में दलितों, गरीबों का उत्पीड़न बढ़ा है.
  • माया ने सहारनपुर का मुद्दा राज्यसभा में उठाया.
  • सहारनपुर की घटना सोची समझी साजिश का नतीजा थी.
  • सहारनपुर में एक दलित को फंसाया गया है.
  • दलितों को जुलूस निकालने की अनुमति नहीं दी गई.
  • मायावती ने योगी सरकार पर हमला बोला.
  • यूपी में दलितों पर अत्याचार हो रहा है.
  • कांग्रेस ने भी राज्यसभा से वॉकआउट किया है.
  • कांग्रेस ने भी बीजेपी सरकार पर हमला बोला.

नहीं बोलने दिया गया तो दूंगी इस्तीफा:

  • उन्होंने कहा कि मैं राज्यसभा से इस्तीफा दूंगी.
  • दलितों के जले हुए घर देखे और उन्हें मदद की.
  • केंद्र ने दोषियों पर कार्रवाई नहीं की है.
  • अपने लोगों की मदद करने से रोका जा रहा है.
  • यूपी में महागुंडा राज चल रहा है.
  • यूपी में कोई भी समाज सुरक्षित नहीं है.
  • BJP ने ईवीएम की मदद से चुनाव जीता है.
  • सदन में सत्ता पक्ष के लोगों ने बोलने नहीं दिया जा रहा है.
  • मैं चुनाव लड़ने से डरती नहीं हूं.
  • गुलाम नबी आजाद ने कहा कि बीजेपी सदन की कार्रवाही में बाधा डाल रही है.
  • गुलाम नबी आजाद ने बीजेपी पर साधा निशाना है.
  • सदन में विपक्ष चर्चा करना चाहता है.
  • उन्होंने कहा कि बीजेपी सदन में चर्चा से भाग रही है.

राष्ट्रपति चुनाव के लिए तैयारियां अंतिम चरण में!

कांग्रेस ने लोकसभा की पूर्व स्पीकर मीरा कुमार को राष्ट्रपति का उम्मीदवार (presidential elections) घोषित किया था. मीरा कुमार 5 बार की लोकसभा सांसद और लोकसभा स्पीकर रह चुकी हैं. कांग्रेस ने आज अपने सहयोगी दलों की सहमति के बाद ये फैसला किया. वहीँ NDA की तरफ से रामनाथ कोविंद उम्मीदवार हैं. राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव 17 को होंगे.

लखनऊ में भी होगा मतदान:

 

  • विधानसभा के तिलक हॉल में 17 जुलाई को सुबह 10 बजे से 5 बजे तक राष्ट्रपति के लिए मतदान होगा.
  • वोटिंग के लिए तिलक हॉल में 4 टेबल होगी.
  • राष्ट्रपति चुनाव के मतदान के लिए तैयारियां अंतिम चरण में हैं.
  • टेबल क पर चुने हुए सांसद मत देंगे.
  • अन्य 3 टेबलों को विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के क्रम में बांटा गया है.

मीरा के समर्थन में उतरी माया:

वहीँ मायावती ने भी बसपा का रुख स्पष्ट कर दिया है. मायावती ने कहा है कि बसपा राष्ट्रपति चुनाव में रामनाथ कोविंद को समर्थन नहीं देगी. बसपा मीरा कुमार का साथ देगी. इसकी जानकारी सतीश मिश्रा ने दी. उन्होंने कहा कि बसपा सुप्रीमो ने निर्देश दिया है कि मीरा कुमार को राष्ट्रपति चुनाव में समर्थन किया जाए.

कोविंद हैं NDA के उम्मीदवार:

  • रामनाथ कोविंद को NDA का राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाये जाने पर मायावती ने अपनी राय रखी थी.
  • मायावती ने कहा कि वो एक कोरी जाति से आते हैं.
  • इनकी संख्या सूबे में बहुत ही कम है.
  • कोविंद संघ और बीजेपी के साथ जुड़े रहे हैं.
  • इसकी राजनीतिक पृष्ठभूमि से मैं सहमत नहीं हूँ.
  • उन्होंने कहा कि इसके कारण इनके नाम की घोषणा की गई है.
  • मायावती ने कहा था कि कोई अन्य दलित उम्मीदवार आने पर बसपा रामनाथ कोविंद को समर्थन नहीं देगी.
  • वहीँ बिहार में इस चुनाव को लेकर भी तकरार सामने आयी.
  • लालू चाहते हैं कि गठबंधन की सरकार UPA के उम्मीदवार का समर्थन करे.
  • लेकिन नितीश कुमार ने स्पष्ट कर दिया था कि वो रामनाथ कोविंद के समर्थन में हैं.

रायबरेली नरसंहार के पीड़ितों से मिलेंगे सतीश चंद्र मिश्रा!

रायबरेली नरसंहार के बाद सूबे में हलचल मच गई थी. इस नरसंहार की गूंज सदन तक पहुंची जब बजट सत्र के दौरान विपक्ष ने कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या का इस्तीफा भी माँगा था. वहीँ इस बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा (satish chandra mishra) ने भी नरसंहार के पीड़ितों से मिलने की कह चुके थे. आज सतीश चंद्र मिश्रा ऊंचाहार जायेंगे. यहाँ वो मृतकों के परिजनों से मिलेंगे.

बसपा ने कल सदन में भी योगी सरकार पर दबाव बनाया था. पूरा विपक्ष लामबंद होकर स्वामी प्रसाद मौर्या के इस्तीफे की मांग कर रहा था. इस हत्याकांड के बाद ब्राह्मण संघ ने भी स्वामी प्रसाद मौर्या के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था और लखनऊ में प्रदर्शन भी किया था. उन्होंने इस प्रदर्शन के दौरान अपनी मांगों से भी अवगत कराया था.

ब्राह्मण समाज की प्रमुख मांग:

  • पांचों पीड़ित परिवार के दो सदस्यों को सरकारी नौकरी दी जाये.
  • पांचों परिवारों को 50,50 लाख की आर्थिक सहायता दी जाये.
  • इस जघन्य हत्याकांड की सीबीआई जांच की जाये.
  • फ़ास्ट ट्रैक अदालत का गठन कर अपराधियों को जल्द से जल्द फांसी की सजा दी जाए.
  • इसके अलावा मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या से इस्तीफा लिया जाये.
  • इनका कहना है कि ब्राह्मण सुरक्षित नहीं है, रोज ब्राहम्णो की हत्याएं हो रही हैं.

लेकिन इस हत्याकांड के कई दिनों बाद योगी सरकार के मंत्री स्वामी प्रसाद ने जो कुछ कहा है वो हैरान करने वाला था. स्वामी प्रसाद के इस बयान के कारण योगी सरकार की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. वहीँ स्वामी प्रसाद मौर्या के बयान के बाद ब्राह्मण संघ ने इस्तीफे की मांग की है.

रायबरेली मर्डर: स्वामी प्रसाद मौर्या पर लगे गंभीर आरोप!

स्वामी प्रसाद ने हत्याकांड को ठहराया सही:

  • स्वामी प्रसाद मौर्या ने कुशीनगर में रायबरेली नरसंहार पर बयान दिया था.
  • उन्होंने कहा कि जो मारे गए वो किराये के गुंडे थे.
  • उनपर अलग-अलग थानों में केस दर्ज हैं.
  • ग्रामीणों ने जिनकों पीट-पीटकर या जलाकर मार डाला, वो गुंडे थे.
  • सभी के सभी किराये के गुंडे थे जो प्रतापगढ़ और फतेहपुर से आये थे.
  • मौर्या ने इनको गंभीर अपराधों में वांछित बताया.
  • उन्होंने कहा कि मारे गए गुंडों को शहीद बताया जा रहा है.
  • इसको लेकर सपा और कांग्रेस राजनीति कर रही है.
  • उन्होंने कहा कि ब्राह्मणों की हत्या नहीं हुई अपराधियों की हत्या हुई.

5 लोगों की हुई थी निर्मम हत्या:

  • मामला प्रतापगढ़ जनपद के संग्रामगढ़ थाना क्षेत्र स्थित तेवारा गांव का है.
  • प्रधान रोहित शुक्ला भुसई का पुरवा में ससुराल की तरफ से खुद को मिली एक जमीन पर घर का निर्माण करवा रहा था.
  • पास के ही अपटा गांव की महिला प्रधान रामश्री का बेटा राजा यादव कल वहां पहुंचा.
  • यह कहकर निर्माण कार्य रकवा दिया कि ग्राम सभा की जमीन पर अवैध रूप से निर्माण कराया जा रहा है.
  • इस बात की जानकारी मिलने पर रोहित और उसके साथी अपटा गांव पहुंचे थे.
  • रोहित के साथ अनूप,अंकुश, करमचंद, मनीष और बच्चा शुक्ला सोमवार देर रात पहुंचे थे.
  • रोहित ने कहा कि वह जिस जमीन पर निर्माण करा रहा है, वह उसके ससुर ने उसे दी है.
  • इसी बीच विवाद बढ़ गया और राजा यादव के भाई कृष्ण कुमार ने हवा में गोलियां चलानी शुरू कर दीं.

अपराधियों के ‘स्वामी’ पर ‘योगी’ क्यों मौन?

रायबरेली नरसंहार के आरोपियों को बचाने में जुटे स्वामी प्रसाद मौर्या (swami prasad maurya) का विवादों से गहरा नाता है. अपने तीखे और विवादित बयानों के कारण बसपा में रहते भी इन्हे आलोचना झेलनी पड़ी थी. स्वामी प्रसाद मौर्या अक्सर अपनी मर्यादा पार कर जाते हैं, जिसको लेकर कई बार उन्हें आलोचनाओं का शिकार होना पड़ा है.

गणेश-लक्ष्मी को लेकर दिए गए विवादित बयान पर भी हुई थी किरकिरी:

  • बसपा में रहते हुए स्वामी प्रसाद मौर्या ने कहा था कि शादियों में गौरी-गणेश की पूजा नहीं करनी चाहिए.
  • उन्होंने कहा था कि यह मनुवादी व्यवस्था में दलितों और पिछड़ों को गुमराह कर उनको गुलाम बनाने की साजिश है.
  • उन्‍होंने कहा था हिंदू धर्म में सुअर को वराह भगवान कहकर सम्मान दे सकते हैं.
  • गधे को भवानी, चूहे को गणेश तो उल्लू को लक्ष्मी की सवारी कहकर पूजते हैं.
  • लेकिन शूद्र को सम्मान नहीं दिया जाता है.
  • इस बयान के बाद स्वामी प्रसाद मौर्या के खिलाफ जमकर प्रदर्शन हुआ था.
  • विहिप ने उनपर हिन्दुओं के देवी-देवताओं का अपमान करने का आरोप लगाया था.
  • इसको लेकर बसपा सुप्रीमो ने उस वक्त स्वामी प्रसाद से स्पष्टीकरण भी माँगा था.
  • मौर्या ने यूपी चुनाव के दौरान दिल्ली की मुख्यमंत्री रह चुकी शीला दीक्षित को रिजेक्टेड माल तक बोल दिया था.
  • उस वक्त भी स्वामी प्रसाद के बयानों की तीखी आलोचना हुई थी.

भाजपा नेता ‘स्वामी’ के रवैये पर मौन:

  • स्वामी प्रसाद मौर्या ने जिस प्रकार से खुलकर रायबरेली हत्याकांड के आरोपियों की वकालत की है, उसके बाद बीजेपी सकते में हैं.
  • सीएम योगी फ़िलहाल गोरखपुर दौरे पर हैं.
  • वहीँ डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या का भी बयान नहीं आया है.
  • पार्टी के प्रवक्ताओं ने चुप्पी साध ली है.
  • डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने तो साफ इंकार कर दिया कि स्वामी प्रसाद मौर्या ने कुछ गलत बात कही हो.
  • हालाँकि कैबिनेट मंत्री ब्रजेश पाठक जरूर सरकार का पक्ष रखते नजर आये.
  • स्वामी प्रसाद मौर्या ने लगातार मारे गए लोगों को लेकर झूठ फैलाया और आरोपियों को पनाह देने का काम किया.
  • अब देखंने वाली बात है कि स्वामी प्रसाद के प्रति सीएम योगी आदित्यनाथ का रुख क्या होता है?

मायावती ने ईद के मौके पर देशवासियों को दी बधाई!

बीएसपी की राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री मायावती (mayawati) ने समस्त देशवासियों को ईद-उल-फितर की मुबारकबाद दी है. उन्होंने सभी मुसलमानों को उन्होंने ईद के पावन मौके पर बधाई दी.

आपसी भाईचारे को मजबूत करें: मायावती

  • उन्होंने एक बयान में कहा कि पूरे 1 महीने तक रमजान का रोजा रखने के बाद उनको खुशी मनाने का दिन आया है.
  • वर्ष में एक बार आने वाली ऐसी ईद के लिए तमाम मुस्लिम भाइयों और बहनों को मुबारकबाद दिया है.
  • भारतीय मुसलमान और उनके त्योहार हमारी समृद्ध भारतीय संस्कृति के सदियों से अभिन्न अंग रहे हैं.
  • BSP का यह प्रयास रहेगा कि भारतीय समाज के अन्य लोगों की तरह हमारे मुस्लिम समाज के लोग भी सुखी व संपन्न हों.
  • देश के वर्तमान हालात के मद्देनजर अपने देश में अमनो-अमान हो.
  • शांति से सुकून से आपसी भाईचारे को बढ़ाने के लिए कुदरत से जरूर दुआ करें.
  • समाज की तरक्की में ही सभी की तरक्की है.
  • ईद का पवित्र त्यौहार कौमी एकता को मजबूत करने के लिए और समाज में सद्भाव बढ़ाता है.

वसीम रिज़वी और मोहसिन रजा के बीच बढ़ा विवाद!

अपराधों से थर्रा रही राजधानी, लेकिन पुलिस ने 58 दिन में दर्ज की केवल एक सेंधमारी!

नवम्बर में तय होगी मंदिर निर्माण की तारीख- साक्षी महाराज!